अयोध्या में राम भक्ति में डूबेंगे सीएम योगी, कर चुके हैं बड़ी खुशखबरी देने का ऐलान

राम मंदिर के मुद्दे पर संतो के तीख तेवर को शांत कराने के लिए मंगलवार को सीएम योगी आयोध्या पहुंच रहे हैं। पिछली बार की तरह इस बार की दिवाली पर सीएम योगी अयोध्या में ही रहेंगे और अयोध्या को दुल्हन की तरह सजाया जाएगा। जी हां, इस बार की सीएम योगी की दिवाली न सिर्फ अयोध्या के लोगों के लिए खास है, बल्कि पूरे देश के लिए खास है। सबकी निगाहे मंगलावर को सीएम योगी पर टिकी हुई है, क्योंकि योगी पहले ही कह चुके हैं कि वह दिवाली पर बड़ी खुशखबरी देंगे। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

मंगलावर यानि छोटी दिवाली को सीएम योगी सुबह सवेरे अयोध्या पहुंच जाएंगे और अयोध्या में सुबह 11 बजे से कार्यक्रम की शुरूआत हो जाएगी। इस दौरान जिनता उत्सुकता कार्यक्रम को लेकर होगी, उससे कही ज्यादा योगी के पिटारे पर होगी।  आपको बता दें कि 11.30 बजे से लेकर 3.30 बजे तक तक शोभा यात्रा निकाली जाएगी, जोकि अयोध्या की गलियों से होते हुए राम कथा पार्क पर समाप्त होगी। इस दौरान कई तरह के कार्यक्रम आयोजित होंगे। इतना ही नहीं, पहली बार रैंप वॉक का आयोजन होगा, जिसको लेकर संत नाराज़ है, ऐसे में वह योगी से शिकायत करेंगे।

क्या नई घोषणा करेंगे सीएम योगी?

जब से सीएम योगी ने यह कहा है कि वह दिवाली के मौके पर एक खास तौहफा देने वाले हैं, तब से ही लेकर हर किसी के मन में यही सवाल है कि सीएम योगी क्या तौहफा देंगे। जी हां, सीएम योगी राम मंदिर को लेकर कोई बड़ा ऐलान कर सकते हैं, जिसकी संभावनाएं जताई जा रही है। दरअसल, राम मंदिर को लेकर संत समाज से लेकर आम लोग नाराज़ है। याद दिला दें कि सीएम योगी ने कहा था कि भरोसा रखिये और धैर्य रखिए, इस दिवाली मैं आप लोगों को एक बड़ी खुशखबरी देने जा रहा हूं, जिसे सुनकर आप फूले नहीं समाएंगे।

हालांकि, संभावना यह भी जताई जा रही है कि सीएम योगी अयोध्या में सरयू के किनारे 151 मीटर ऊंची भगवान राम की तांबे की मूर्ति बनवाने की घोषणा करने वाले हैं, लेकिन इसका विरोध होना तय माना जा रहा  है। दरअसल, संत समाज ने पहले ही यह कह दिया है कि उन्हें राम मंदिर से कम कुछ नहीं चाहिए, ऐसे में सीएम योगी के सामने सबसे बड़ी समस्या यह होगी कि वह अपने खुशखबरी से सबको खुश कर पाएंगे या नहीं। खैर, यह कोई नहीं बात नहीं है, क्योंकि हर चीज़ का समर्थन और विरोध प्राकृतिक है।