बॉलीवुड

बॉलीवुड जगत की कुछ ऐसी बातें जो शायद ही आप जानते हों, राजों से भरी है ये दुनिया

न्यूज़ट्रेंड एंटरटेनमेंट डेस्क: फिल्मी दुनिया की यूं तो ढेरों, हजारों ना जाने कितनी हैं दिलचस्प बाते हैं लेकिन सभी बातें सभी के जहन मे  नहीं है , लेकिन जो बाते ,सभी के जहन में नहीं हैं उनमें से कुछ बातें बेहद मजेदार है तो तारुफ कराते हैं फिल्मी दुनिया की उन बातों से जिनका जिक्र कम हुआ है और दर्शकों के सामने कलाकारों की कुछ खास बातें सामने बहुत कम आईं हैं ।

सुनील दत्त और नरगिस

फिल्मी दुनिया के मशहूर कलाकार सुनील दत्त के बारे में आप कितना जानते हैं .आप शायद की जानते होगें की सुनील दत्त अपनी फिल्मी में आने से पहले एक रेडियो में काम करते थे ..सुनील दत्त रेडियो सिलोन में एक आर जे के पद पर थे और अभिनेत्री नरगिस के पहले से दीवाने हुआ करते थे , जब एक दफा नरगिस का रेडियो पर इंटर्वयु लेने का नंबर आया तो वो इस काम में ना काम हो गए क्योंकि वो नरगिस के आगे कुछ कह ना सके और सिट्टी पिट्टी गुम हो गई.. फिर हुआ यूं कि उस इंटर्व्यु को टालने में ही भलाई समझी । फिर एक अरसे के बाद फिल्म मदर इंडिया में सुनील दत्त को नरगिस के सामने सिर्फ बात करने का ही नहीं बल्कि भली भांती एंक्टिंग करने का मौका मिला और फिर वही से मौके पे चौका मार सुनील दत्त ने अपनी प्रेम कहानी को सहारा दिया और कुछ समय बात दोनों बन गए जीवनसाथी ।

शबाना आजमी

फिल्मी दुनिया में अदाकारों की अदाकारी में शबाना आजमी का नाम भी बेदह मशहूर है, भले ही वो आज जावेद अख्तर की बेगम क्यूं ना हों लेकिन एक वक्त था जब उनके खाबों-ख्यालों में किसी और के नाम की ही खिचड़ी पकती थी ..शबाना आजमी और शेखर कपूर एक वक्त में एक दूसरे को पसंद किया करते थे बात शादी तक जा चुकी थी लेकिन ना जाने क्यूं दोनों में ताल मेल ना बैठा और उनके शादी करने वाला मन का परिंदा भी शांत बैठ गया ।

श्रीदेवी

यूं तो श्रीदेवी के किरदार , उनके काम की जितनी तारीफ की जाए वो कम ही कम है क्योंकि एक समय में उनके नाम से फिल्मे बिका करती थीं लेकिन नाम का सिक्का चलने वाली बात तो बहुत समय के बाद हुई उससे पहले की मजेदार बात ये है कि श्रीदेवी ने मात्र 13 साल की उम्र में अभिनेता रजनीकांत की सौतेली मां का किरदार निभा लिया था …ये किरदार उनका तमिल की फिल्म ‘मूदरू मोदीचू’ में में देखने को मिला था।

रजनीकांत

रजनीकांत फिल्मी दुनिया के धांसू एक्शन हीरो हैं उनके एक्शन के साथ- साथ दर्शक उनके डॉयलाग बोलने के तरीके से इतने ज्यादा प्रभावित हैं कि एक डॉयलाग ‘एन्‍ना रास्‍कला’ उनके चाहने वालों ने खुद ब खुद ही बुन डाला …ये एक ऐसा डॉयलाग है जो रजनीकांत के नाम पर खूब चला है लेकिन शानदार और मजेदार बात ये है कि ये डॉयलाग रजनीकांत ने कभी कहा ही नहीं है।

मेरा नाम जोकर फिल्म

राज कपूर की फिल्मों का जिक्र आज के आधुनिक समय तक इसलिए होता है क्योंकि उनकी फिल्में भी बेहद आकर्षक रहीं हैं .राज कपूर की फिल्में में यूं तो बेहद गजब रही हैं  लेकिन उनकी फिल्म की एक और गजब बात ये है कि फिल्म मेरा नाम जोकर में एक नहीं बल्कि दो इंटरवल थे।

अमिताभ बच्चन

बिग बी की के नाम के साथ साथ उनकी आवाज में भी बहुत वजन है लेकिन ये आवाज इतने आराम से सबके सामने नहीं आई , बेहद संघर्ष , जद्दोजहद के बाद इस आवाज को रोशनी मिली और फिर ऐसी रोशनी मिली की सन् 1990 तक सिर्फ अमिताभ बच्चन ही फिल्मी दुनिया के एक ऐसे कलाकार रहे हैं जिनकी आमदनी करोड़ों से भी ज्यादा थी।

के. आसिफ

डॉ के . आसिफ फिल्मी दुनिया के एक डायरेक्टर रह चुके हैं जिन्होनें अपने जीवन में सिर्फ दो ही फिल्में बनाई हैं , उनकी पहली फिल्म थी फूल जो 1945 में रिलीज हुई थी , उसके बाद पूरे पांच साल के बाद उनकी दूसरी फिल्म रिलीज हुई जिसका नाम था मुगल-ए-आजम..  इन दोनों के बाद आसिफ की आने वाली फिल्म लव एंड गाड थी , जो पूरी ही नहीं हो पाई …के आसिफ की निधन मात्र 48 साल की उम्र में ही हो गया था ।

ऋषि कपूर

ऋषि कपूर को फिल्मी दुनिया में दिलफेंक आशिक माना जाता है क्योंकि उनका अंदाज आशिकाना ही रहा है , ऋषि फिल्मी दुनिया का ऐसा नाम हैं जिनके साथ बहुत सी हीरोईनों ने अपने फिल्मी करियर को आगे बढ़ाया है ।

अमजद खान (शोले)

यूं फिल्म शोले के डॉयलाग आज भी लोगों की जुंबा पर चढ़े रहते हैं खासतौर से गब्बर का डॉयलाग ‘कितने आदमी थे कालिया’, इस फिल्म की स्क्रिप्टिंग जावेद अखतर ने की थी और उन्होंने अमजद खान को इस रोल के लिए रिजेक्ट कर दिया था क्योंकि उनके हिसाब से अमजद की आवाज में वो भारीपन और दम नहीं था और जावेद ने इस किरदार के लिए डैनी डेंजोगपा से बात की थी, लेकिन आखिर में ये रोल अमजदखान को ही मिला और अमजद ने विलेन के तौप पर ही सही लोगों का दिल चुरा लिया था।

दीपवीर रिसेप्शन: कुछ इस अंदाज में अपने रिसेप्शन में नजर आएं दीपिका-रणवीर, हुई हैं खास तैयारियां

Back to top button