विशेष

इन बल्लेबाजों ने भी अंतिम गेंद पर छक्के से दिलाई जीत, एक पाकिस्तानी ने तो भारत के खिलाफ ही…

कोलंबो – निडास ट्रॉफी के फाइनल में भारत और बांग्लादेश के बीच जो मुकाबला देखने को मिला वो क्रिकेट की किताब में हमेशा के लिए दर्ज हो गया। बंग्लादेश ने जबरदस्त खेल दिखाया और वह ट्राफी अपने नाम करने के काफी करीब थी। शायद ऐसा हो भी गया होता अगर दिनेश कार्तिक ने अपनी जबरदस्त बल्लेबाजी से सबको हैरान न किया होता।

जैसा दिनेश कार्तिक ने एक ऐसी पारी खेली जो जब तक क्रिकेट रहेगा याद की जायेगी। वो देश की ओर से पहले बल्लेबाज बन गए हैं जिसने मैच की आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर मैच जिताया हो। लेकिन, सिर्फ दिनेश कार्तिक की ऐसे बल्लेबाज नहीं हैं जिसने अंतिम बॉल पर छक्का लगाकर मैच जिताया हो। तो आइये देखते हैं अंतिम गेंद पर छक्का लगाकर जीत दिलाने वाले बल्लेबाज कौन कौन हैं।

ये हैं अंतिम गेंद पर छक्का लगाकर जीत दिलाने वाले बल्लेबाज

#जावेद मियांदाद बनाम चेतन शर्मा (भारत बनाम पाकिस्तान, शारजाह, 1986)

मियांदाद ने भारत को आस्ट्रेलिया-एशिया कप फाइनल में मैच की आखिरी गेंद पर चेतन शर्मा की गेंद पर छक्का मारकर ऐसी कड़वी याद दी जिसका दर्द हमेशा रहेगा। यह कड़वी यादा आज भी प्रशंसकों के दिमाग में ताजा है। यह तब हुआ था जब एक गेंद पर चार रनों की आवश्यकता थी, चेतन शर्मा मैच की आखिरी गेंद फेक रहे थे। लेकिन, मियांदाद ने इस अंतिम गेंद पर छक्का जड़ दिया। भारत ने पाकिस्तान को 246 रनों का लक्ष्य दिया था।

#चामरा कपुगेदेरा बनाम आशीष नेहरा (भारत बनाम श्रीलंका, ग्रोस आइलेट, 2010)

विश्व टी20 मुकाबले में 164 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए, भारत के खिलाफ जीत दर्ज करने के लिए श्रीलंका को अंतिम गेंद पर तीन रनों की जरूरत थी। लेकिन, भारतीय प्रशंसकों के लिए यह एक सदमें जैसा था क्योंकि कपुगेदेरा ने नेहरा की अंतिम गेंद पर छक्का लगा दिया। इस मैच में हार के बाद भारत टूर्नामेंट से बाहर हो गया था।

#लांस क्लुसनर बनाम डायोन नैश (न्यूजीलैंड बनाम दक्षिण अफ्रीका, नेपियर, 1 999)

सीमित ओवरों के मैच में सबसे अधिक खतरनाक बल्लेबाज़ में से एक लांस ने अंतिम बॉल पर जीत दिलाई थी। अंतिम ओवर में दक्षिण अफ्रीका को जीत के लिए 11 रन की जरूरत थी और आखिरी गेंद पर चार रन चाहिए थे। क्लासनर ने नैश की गेंद पर एक बड़ा छक्का मारकर अपनी टीम को जीत दिला दी थी।

#ब्रेंडन टेलर बनाम मश्रेफ मोर्तज़ा (जिम्बाब्वे बनाम बांग्लादेश, हरारे, 2006)

ब्रेन्डन टेलर ने मोर्टाजा की अंतिम गेंद पर छक्का मारा था। 237 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए जिम्बाब्वे को अंतिम ओवर से 17 रन की जरूरत थी। अंतिम गेंद से पांच रन चाहिए थे और टेलर ने अंतिम गेंद पर छक्का मार दिया।

#रेयान मैकलेरन बनाम जेम्स फ्रैंकलिन (दक्षिण अफ्रीका बनाम न्यूजीलैंड, पॉचेफ़स्टरूम, 2013)

दक्षिण अफ्रीका को 261 रनों का पीछा करते हुए अंतिम गेंद पर सिर्फ तीन रनों की आवश्यकता थी। मैकलेरन ने फ्रैंकलिन को अंतिम देंग पर छक्का मारकर दक्षिण अफ्रीका जो जीत दिला दी। मैकलेरन आखिरी गेंद पर छक्का मारकर हीरो बने। इसके अलावा कप्तान ग्रीम स्मिथ ने शानदार 116 रन बनाये थे।

अंतिम गेंद पर छक्का लगाकर जीत दिलाने वाले बल्लेबाज की लिस्ट में अब नया नाम दिनेश कार्तिक का भी जुड़ गया है।

Related Articles

Close