ये हैं रियल जिंदगी के सुपरहीरो, स्पाइडरमैन बनकर साफ कर रहे कचरा

दुनिया दीवानी है सुपर हीरो स्पाइडरमैन की। क्या बच्चे, क्या बूढ़े, सभी को स्पाइडरमैन बहुत ही पसंद आता है। स्पाइडरमैन का नाम लिए जाने पर आपके दिमाग में पीटर पार्कर का ही नाम आ रहा होगा, जो बड़े पर्दे पर स्पाइडरमैन की भूमिका निभाते हुए नजर आते हैं, लेकिन हम आपको बता दें कि यहां पीटर पार्कर की बात हम बिल्कुल भी नहीं कर रहे हैं। जी हां, जिस स्पाइडरमैन की हम बात कर रहे हैं, वे बिल्कुल अलग हैं और स्पाइडरमैन के रूप में वे असल जिंदगी में एक खास वजह से हीरो भी बने हुए हैं।

ये सुपरहीरो इंडोनेशिया के हैं। ये अपनी असल जिंदगी में सुपरहीरो के जैसा एक महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। यदि ये अपने असली रूप में इस काम को अंजाम दे रहे होते तो शायद इनकी ओर कोई ध्यान नहीं देता। ऐसे में जब वे स्पाइडरमैन की ड्रेस पहन कर इस काम को अंजाम दे रहे हैं तो यह चर्चा का विषय बन गया है और इसकी वजह से बाकी लोगों को भी प्रेरणा मिल रही है। जी हां, इंडोनेशिया के ये शख्स स्पाइडरमैन की तरह लुक बनाकर साफ-सफाई करते हैं। जहां भी उन्हें गंदगी दिखती है, वे सफाई करने में जुट जाते हैं।

स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए इंडोनेशिया के इस व्यक्ति ने अपनी यह मुहिम छेड़ी है। इनका नाम रूडी हार्टोनो है। ये इंडोनेशिया के एक कैफे में काम करते हैं। अपने काम के अलावा जो उन्हें वक्त मिलता है, उस दौरान वे स्पाइडरमैन की ड्रेस पहन लेते हैं और समुद्र किनारे के कचरे एवं सड़कों के किनारे फैले हुए कचरे को साफ करने में व्यतीत करते हैं। इस तरह से वे लोगों के बीच साफ-सफाई को लेकर जागरूकता फैलाने की भी कोशिशों में जुटे हुए हैं। रूडी ने जब इस काम की शुरुआत की तो उन्होंने नोटिस किया कि कोई उन पर ध्यान नहीं दे रहा है। उन्हें लगने लगा कि ऐसे में उनके प्रयासों से बदलाव लाने में काफी वक्त लग जाएगा। फिर उनके दिमाग में स्पाइडरमैन बनने का आईडिया आया। उनके मुताबिक उन्होंने जबसे स्पाइडरमैन की ड्रेस पहनकर साफ-सफाई करनी शुरू की है, तब से लोग उन्हें नोटिस करने लगे हैं। वे लोगों की नजरों में आ गए हैं और उन्हें देखकर अब बाकी लोग भी साफ-सफाई से खुद को जोड़ने लगे हैं।

रूडी इस वक्त 36 वर्ष के हैं। वे स्पाइडरमैन की ड्रेस पहने लेते हैं और निकल जाते हैं कचरा जमा करने के लिए। दिनभर इस काम को करने के बाद हुए शाम में 7 बजे से एक कैफे में वे काम करते हैं। स्पाइडरमैन बनकर जो कचरा साफ करने का अभियान रूडी ने चला रखा है, उनकी इन्हीं कोशिशों की वजह से दुनिया में उन्हें एक विशेष पहचान मिली है। रूडी ने दरअसल स्पाइडरमैन का यह ड्रेस अपने भतीजे को खुश करने के लिए एक बार खरीदा था।

सरकार से रूडी यह उम्मीद लगा रहे हैं कि प्लास्टिक को कम करने के साथ ही कचरे के मैनेजमेंट को लेकर सरकार कोई कड़े नियम लागू करे। रूडी के मुताबिक प्लास्टिक को खत्म होने में बहुत समय लगता है। सबसे अधिक प्रदूषण प्लास्टिक की वजह से ही फैल रहा है। ऐसे में प्लास्टिक का कम-से-कम इस्तेमाल किया जाना जरूरी है।

पर्यावरण एवं वन मंत्रालय की ओर से वर्ष 2018 में आंकड़े जारी किए गए थे, जिसमें बताया गया था कि इंडोनेशिया में कचरे का प्रबंधन ठीक तरीके से नहीं हो पाने के कारण प्रदूषण की समस्या गहराती जा रही है। एक शोध में यह बात भी सामने आ चुकी है कि चीन के बाद इंडोनेशिया ही ऐसा देश है, जो समुद्र में सबसे अधिक प्लास्टिक कचरे को फैला रहा है। ऐसे में इंडोनेशिया में कचरे का सही प्रबंधन किया जाना बहुत ही जरूरी बन पड़ा है।

पढ़ें माँ कही जाने वाली गंगा नदी से रोज 2 क्विंटल प्लास्टिक का कचरा निकालता हैं ये शख्स, जाने क्यों

Share this