दिलचस्प

यूपी की तीन सगी बहनों समेत 4 बेटियों ने लिया संन्यास, पूरे शहर में मनाई गई खुशियां

जिस उम्र में युवा अपने करियर पर फोकस करते हैं और कई तरह के सपने देखते हैं, उसी उम्र में इन लड़कियों ने संसार त्यागने का सपना देखा और उस राह पर चल पड़ी। जी हां, जब लड़कियां बड़ी होती है, तो मां बाप कई तरह के सपने देखते हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश के इटावा जिले की एक ही परिवार की बहनों ने संसार त्यागने का फैसला किया। इसके बाद उनके इस फैसले का स्वागत भी परिवार द्वारा धूमधाम से किया गया, जिसके बाद उन्होंने संसार का त्याग किया।

दरअसल, इटावा के एक ही परिवार की तीन ग्रेजुएट व पोस्ट ग्रेजुएट युवतियों ने सांसारिक जीवन से परित्याग का निश्चय किया।  तीन सगी बहनों समेत पड़ोस की रहने वालों चार युवतियों ने साध्वी बनने का फैसला किया, जिसको लेकर नगर में रथ यात्रा निकाली गई। इस दौरान सभी के चेहरे पर मायूसी थी, लेकिन लड़कियां अपने फैसले पर अडिग रही। बता दें कि जनपद में पहली बार कोई जैन धर्म की लड़की साध्वी बनने का फैसला लिया है, जिसकी वजह से सभी ने उसके फैसले का स्वागत किया।

दुल्हन की तरह सजाया

इटावा की इन चार लड़कियों को पूरी तरह से दुल्हन की तरह सजाया गया, जिसके बाद उन्हें पूरे शहर में घुमाया गया। बता दें कि बेटियों ने खुद संसार छोड़ने का फैसला किया और उन्हें साध्वी बनना है। ऐसे में मां बाप और समाज ने उनकी इच्छाओं का मान रखते हुए उनकी भव्य तरीके से विदाई की गई। बताया जा रहा है कि ये चारों ही लड़कियां काफी पढ़ी लिखी हैं, लेकिन वे अपना फ्यूचर नहीं बनाना चाहती हैं, क्योंकि उन्हें ये सब मोह माया लगता है, ऐसे में वे साध्वी बनेंगी और दुनिया का त्याग करेंगी।

मध्यप्रदेश में जाएंगी ये चारों लड़कियां

मिली जानकारी के मुताबिक, एक ही परिवार की तीन सगी बहनों ने संन्यास लेने का फैसला किया है। उनके साथ एक पड़ोस की लड़की भी संन्यास ले रही है। कुल मिलाकर एक ही गांव की चार लड़कियां एक साथ साध्वी बनेंगी। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो 1 दिसंबर को ये चारों लड़कियां मध्यप्रदेश में गुरु मुनि श्री 108 प्रमुख सागर जी महाराज से दीक्षा ग्रहण करेंगी, जिसके बाद ये साध्वी बन जाएंगी और फिर इनका परिवार से कोई रिश्ता और नाता नहीं रहेगा।

बहुत धार्मिक हैं ये लड़कियां

कहा जा रहा है कि ये लड़कियां बहुत ही ज्यादा धार्मिक हैं। इनका ध्यान बचपन से ही ईश्वर में लीन होता है, ऐसे में अब ये खुद ईश्वर की शरण में जाएंगी और इस मोह माया की दुनिया को छोड़कर वैराग्य का जीवन अपनाएँगी। बताया जा रहा है कि ये चारों लड़कियां बहुत ही अच्छी सहेली भी हैं, जिसकी वजह इन्होंने साथ में दुनिया छोड़ने का फैसला किया और ईश्वर की शरण में ही अपना जीवन व्यतीत करेंगी।  बता दें कि इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं, जब लोगों ने अपना गृहस्थ जीवन छोड़कर वैराग्य जीवन अपनाया और उसी में खुश रहें।

Back to top button