राजनाथ सिंह ने भरी राफेल विमान में उड़ाना, बताया कैसा रहा उनका अनुभव

पिछले कुछ सालों से राफेल विमान लगातार सुर्खियों में रहा। कभी इसको लेकर काफी विरोध किया, तो कभी इस डील पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए, लेकिन तमाम बाधाओं के बाजवूद भारतीय सेना के पास पहला राफेल विमान आ चुका है। जी हां, फ्रांस से भारतीय वायुसेना (IAF) के लिए पहला राफेल विमान रिसीव करने के बाद राजनाथ सिंह ने उड़ान भरी। इसके बाद उन्होंने अपने इस उड़ान का अनुभव भी शेयर किया, जिसकी चर्चा चारों तरफ है। इतना ही नहीं, राजनाथ सिंह ने बतौर रक्षामंत्री इस विमान में उड़ान भरी, जिसके बाद उन्होंने बताया कि इस दौरान उन्हें कैसा फील हुआ।

केंद्र की सत्ता पर काबिज होने के बाद मोदी सरकार ने सबसे पहले भारतीय सेना के बारे में सोचते हुए राफेल डील को फाइनल किया, जिसके बाद अब पहला राफेल विमान हमारे पास आ चुका है। इस विमान में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने उड़ान भरी, जिसके बाद उन्होंने अपना सुखद अनुभव शेयर किया। बता दें कि इस विमान से भारतीय सेना पहले की अपेक्षा और अधिक मजबूत हो जाएगी। अभी तो सिर्फ पहला ही विमान हमारी सेना के पास आया है, बाकि बचे विमान धीरे धीरे करके आएंगे।

इस बारे मैंने कभी नहीं सोचा था- राजनाथ सिंह

राफेल विमान में उड़ान भरने के बाद राजनाथ सिंह ने कहा कि कैप्टन फिन के साथ मैंने राफेल में उड़ान भरी। यह काफी कंफर्ट उड़ान रही, जिससे यह उड़ान काफी सुखद रहा। साथ ही उन्होंने आगे कहा कि कैप्टन फिन ने मुझे सुपरसोनिक की स्पीड से राफेल में यात्रा कराई। ऐसे में, सुपरसोनिक की स्पीड से उड़ान भरने के बारे में मैंने अपने जीवन में कभी नहीं सोचा था, लेकिन अब यह हो चुका है और मैं बहुत अच्छा फील कर रहा हूं।

सेल्फ डिफेंस की हो रही है तैयारी- राजनाथ सिंह

केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हमारी वायुसेना की ताकत किसी पर हमला करने के लिए नहीं बढ़ रही है, बल्कि हम सेल्फ डिफेंस के लिए तैयार हो रहे हैं। मतलब साफ है कि हम राफेल से किसी पर आक्रमण तब तक नहीं करेंगे, जब तक हम पर कोई मुसीबत न आए और हम इसका इस्तेमाल सेल्फ डिफेंस के लिए करेंगे। बता दें कि भारत में समय समय पर सेना को इस तरह के तौहफे दिए गए हैं, ताकि वे मजबूती से दुश्मनों से लड़ सके।

2022 तक 36 राफेल आ जाएंगे भारत

राजनाथ सिंह ने कहा कि यह पल मेरे लिए सबसे अद्भूत है। साथ ही उन्होंने कहा कि अभी सिर्फ एक ही विमान मिल सका है, लेकिन कुछ महीने में 18 विमान हमारे पास आ जाएंगे, जिसके बाद हम और भी ज्यादा मजबूत हो जाएंगे। बता दें कि फ्रांस से 36 विमानो की डील हुई है, इस पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हम साल 2022 तक हमारे पास 36 के 36 विमान आ जाएंगे, लेकिन ताकत बढ़ाने का सिर्फ सेल्फ डिफेंस ही मकसद है, न कि किसी को हार्म पहुंचाने का।