Video: अपने जवाब से एक बार फिर ISRO प्रमुख सिवन ने लूटा दिल, कहा- पहले तो मैं एक भारतीय हूं

इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) ने हाल ही में चंद्रमा पर चंद्रयान 2 के विक्रम लैंडर को उतारने का प्रयास किया था. हालांकि, लैंडिंग से कुछ समय पहले ही वैज्ञानिकों का संपर्क विक्रम से टूट गया, जिससे वैज्ञानिक और देशभर के लोग काफी निराश हुए. लेकिन एक बार फिर सबके चेहरे पर खुशी वापस आ गयी जब उन्हें पता चला कि विक्रम के लोकेशन को ट्रेस कर लिया गया है. इसरो के इस प्रयास के बाद पूरी दुनिया में भारत की वाहवाही हो रही है. बता दें, चंद्रमा के जिस क्षेत्र में विक्रम की लैंडिंग हुई है वहां अब तक दुनिया का कोई भी देश नहीं पहुंच पाया है. इसरो के इस चंद्रयान 2 मिशन को 95 प्रतिशत तक सफल माना गया है.

लैंडिंग से पहले टूट गया था संपर्क

इसरो ने सफलतापूर्वक अपने ऑर्बिटर को चांद की कक्षा में स्थापित किया लेकिन लैंडिंग से कुछ मिनट पहले विक्रम से संपर्क टूट गया. हालांकि, अब वैज्ञानिकों ने विक्रम को ढूंढ निकाला है और ऑर्बिटर ने थर्मल इमेज भी भेजी है. जब विक्रम के सॉफ्ट लैंडिंग के दौरान वैज्ञानिकों का संपर्क विक्रम से टूट गया था तब वह पल सभी देशवासियों के लिए बेहद भावुक कर देने वाला पल था. संपर्क टूटने के बाद इसरो के सभी वैज्ञानिक निराश और हताश हो गए थे. लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ाने में कोई कमी नहीं छोड़ी. प्रधानमंत्री का एक विडियो काफी तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हुआ जिसमें वह वैज्ञानिकों का हौसला बढ़ा रहे थे.

वायरल हुआ पुराना विडियो

ऐसे में एक बार फिर डॉक्टर सिवन का पुराना विडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है. इस विडियो के बाद एक बार फिर डॉक्टर सिवन सोशल मीडिया पर चर्चा में आ गए हैं. इस विडियो में आप देखेंगे कि जब इंटरव्यू लेने वाले ने सिवन से पूछा कि, “एक तमिल के रूप में इतने बड़े पद पर रहते हुए आप तमिलनाडु के लोगों से क्या कहना चाहेंगे”? इस पर डॉक्टर सिवन ने बेहद सादगी से जवाब देते हुए कहा, “सबसे पहले तो मैं एक भारतीय हूं. मैंने एक भारतीय के रूप में इसरो को जॉइन किया था. इसरो वह जगह है जहां हर क्षेत्र और भाषा के लोग एक साथ मिलकर काम करते हैं. लेकिन मेरे लिए खुशी मना रहे भाइयों का मैं दिल से शुक्रगुजार हूं”. सिवन के इस जवाब ने सभी भारतीयों का दिल जीत लिया और अपने इस विडियो की वजह से वह एक बार फिर सोशल मीडिया पर छा गए हैं.

पिछले साल का है इंटरव्यू

बता दें कि इस इंटरव्यू को सन न्यूज़ ने साल 2018 में लिया था. गौरतलब है कि डीएमके के नियंत्रण में सन टीवी है. इस पार्टी की राजनीति ही अलगाववादी द्रविड़ राजनीति पर आधारित है. हालांकि, हाल ही में किये गए एक शोध में साबित हो गया है कि भारतीय उपमहाद्वीप के लोग एक ही प्रजाति से आते हैं. जिस तरीके से इसरो के प्रमुख ने कहा कि क्षेत्रीय पहचान से अधिक महत्वपूर्ण उनकी राष्ट्रीय पहचान है, यह वाकई काबिल-ए-तारीफ है. यह कहकर सिवन ने लाखों-करोड़ों लोगों के दिलों में एक बार फिर जगह बना ली है. इस विडियो से साबित होता है कि डॉक्टर सिवन बेहद ही सरल और सुलझे हुए इंसान हैं. उन्हें इस बात का घमंड नहीं है कि वह तमिल हैं और तमिलनाडु को रिप्रेजेंट करते हैं, बल्कि इस बात का गर्व है कि वह सबसे पहले भारतीय हैं और भारत को रिप्रेजेंट करते हैं.

पढ़ें- इसरो के ‘लैंडर विक्रम’ से नागपुर पुलिस ने पूछा- ‘कहां हो…चालान नहीं काटेंगे’, फिर जो हुआ…

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें.