‘केजरीवाल जी..AAP अब ‘खास आदमी पार्टी’ बन गई, इसलिए मेरा इस्तीफा स्वीकार करो’

आम आदमी पार्टी की तेज तर्रार विधायकों की लिस्ट में शुमार अलका लांबा ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। अलका लांबा ने शुक्रवार को ट्विटर के माध्यम से केजरीवाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इस्तीफा देते समय अलका लांबा ने एक लंबा चौड़ा मैसेज भी लिखा, जिसमें उन्होंने आम आदमी पार्टी के अस्तित्व पर ही सवाल खड़ा किया है। जी हां, अलका लांबा और आम आदमी पार्टी में बीते कुछ समय अनबन की खबरें सामने आ रही थी, जिसकी वजह से अटकलों का बाज़ार पहले से ही गर्म था। इतना ही नहीं, पिछले दिनों अलका लांबा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से भी मिलने पहुंची थी।

लंबे से समय से आम आदमी पार्टी और अलका लांबा के बीच विवाद की खबरें आती रही हैं, लेकिन अब उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि अलका लांबा आम आदमी पार्टी की कद्दावर नेता मानी जाती थी, लेकिन अब उन्होंने अपनी पुरानी पार्टी को छोड़ दिया। सूत्रों की माने तो अलका लांबा अब बहुत जल्द ही कांग्रेस का दामन थाम सकती हैं, जिसकी चर्चा पिछले कुछ दिनों से ही शुरु हुई। कांग्रेस की कमान सोनिया गांधी के हाथों में आने के बाद से ही अलका लांबा की कांग्रेस के प्रति नरमी देखी जा रही है, जिनसे उन्होंने मुलाकात भी की।

गुड बॉय कहने का वक्त आ गया- अलका लांबा


दिल्ली के चांदनी चौक की विधायक अलका लांबा ने ट्विटर पर एक ट्वीट करते हुए लिखा कि आम आदमी पार्टी को गुड बाय कहने का समय आ गया है, जिसकी वजह से मैंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही उन्होंने लिखा कि पिछले 6 साल के सफर में काफी कुछ सीखने को मिला, जिसके लिए सभी का धन्यवाद। बता दें कि आम आदमी पार्टी की नेता रहते हुए अलका लांबा ने बीजेपी और कांग्रेस पर बहुत कटाक्ष किए हैं, लेकिन अब देखने वाली बात होगी कि वे कैसे खुद का स्टैंड बदलती हैं।

मेरा इस्तीफा स्वीकार करो केजरीवाल जी- अलका लांबा


आम आदमी पार्टी को छोड़ने की बात जैसे ही उन्होंने ट्विटर पर जाहिर की, उसके तुरंत बाद उन्होंने केजरीवाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया, जिसका ज़िक्र उन्होंने ट्विटर पर किया। केजरीवाल को टैग करते हुए अलका लांबा ने लिखा कि अरविंद केजरीवाल जी, आपके प्रवक्ताओं ने आपकी इच्छा के अनुसार पूरे अहंकार के साथ मुझसे कहा था कि पार्टी ट्विटर पर भी इस्तीफा स्वीकार कर लेगी, जिसकी वजह से प्लीज आप मेरा इस्तीफा स्वीकार करें। साथ ही उन्होंने लिखा कि आम आदमी पार्टी, जोकि अब खास आदमी पार्टी बन गई की प्राथमिक सदस्यता से मेरा इस्तीफा स्वीकार करें।

पहले से ही मन बना चुकीं थी अलका लांबा

अलका लांबा ने इस साल अगस्त की शुरुआत में ही कहा था कि उन्होंने पार्टी से इस्तीफा देने का फैसला कर लिया है, जिसके बाद वे आगामी विधानसभा चुनाव में स्वतंत्र रुप से चांदनी चौक से चुनाव लडेंगी। हालांकि, सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद अब उनके कांग्रेस में शामिल होने की संभावनाएं बढ़ती हुई नज़र आ रही हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि वे बहुत जल्द कांग्रेस का दामन थाम सकती हैं।

Share this