स्वास्थ्य

दर्द से लेकर अस्थमा तक कई बीमारियां दूर करता है अंजीर, फल एक लेकिन फायदे हैं अनेक

सभी फल फायदेमंद होते हैं लेकिन किसी में कोई फायदा होता है तो किसी में कोई तो किसी में दोनों फायदे शामिल होते हैं. आज हम जिस फल के बारे में बात कर रहे हैं वो नाशपाती के आकार का एक छोटा सा फल है जो अपनी तेज सुगंध से नहीं मगर रसीलेदार और गूदेदार होने की वजह से चर्चा में रहता है. रंग में यह हल्का पीला, गहरा सुनहरा या गहरा बैंगनी का होता है और इसका पूरा छिलका बीज और गूदे सहित खाया जा सकता है. हम बात अंजीर की कर रहे हैं और दर्द से लेकर अस्थमा तक कई बीमारियां दूर करता है अंजीर, क्या आप जानते हैं इसके कुछ फायदे ?

दर्द से लेकर अस्थमा तक कई बीमारियां दूर करता है अंजीर

अंजीर में कार्बोहाइड्रेट 63 प्रतिशत, प्रोटीन 5.5 प्रतिशत, सेल्यूलोज 7.3 प्रतिशत, चिकनाई एक प्रतिशत, मिनरल सोल्ट 3 प्रतिशत, एसिड 1.2 प्रतिशत, राख 2.3 प्रतिशत और पानी 20.8 प्रतिशत शामिल होता है. इसके अलावा प्रति 100 ग्राम अंजीर में लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग आयरन, विटामिन, थोड़ी मात्रा में चूना, पोटैशियम, सोडियम, गंधक, फास्फोरिक एसिड और गोंद होता है. अंजीर स्वाद में तो अच्छा होता ही है इसके साथ ही स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा माना जाता है. अब चलिए बताते हैं आपको अंजीर खाने के कुछ जरूरी फायदे.

हड्डियों को मजबूत

जिन्हें अक्सर फ्रैक्चर हो जाता हो या फिर ज्वाइंट्स में ज्यादातर दर्द बना रहता हो उन्हें अंजीर का सेवन जरूर करना चाहिए. अंजीर में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो हड्डियों को मजबूत करता है और फ्रैक्चर जैसी परेशानियां खत्म हो सकती है.

कब्ज

1-2 पके अंजीर दूध में उबालकर रात को सोने से पहलें खाएं फिर दूध पी लें. इससे कब्ज में लाभ होता है या 1 अंजीर को रात को सोते समय पानी में डालकर रख दें और सुबह इसे अच्‍छे से चबाकर खा लें और इसका पानी पी लें. ऐसा कुछ दिन करने से कब्ज की समस्या दूर हो जाती है.

कमर दर्द

अक्सर लोगों को कमर दर्द की शिकायत होती है खासकर महिलाओं को तो उन्हें भी अंजीर का सेवन करना चाहिए. अंजीर की छाल, सोंठ, धनियां सब बराबर लें और कूटकर रात को पानी में भिगा दें और फिर सुबह इसके बचे रस को छानकर पीने से कमर दर्द में राहत मिलती है.

अस्थमा

अस्थमा जिसमें कफ (बलगम) निकलता हो उसमें अंजीर बहुत फायदेमंद करती है. इससे कफ बाहर आ जाता है तथा रोगी को जल्दी ही आराम भी मिल जाता है. 2 से 4 सूखे अंजीर सुबह-शाम दूध में गर्म करके खाने से कफ की मात्रा घटती है, शरीर में नई शक्ति आने के साथ ही अस्थमा का रोग भी खत्म होता है.

शक्तिवर्धक

सूखे अंजीर के टुकड़े और छिले हुए बादाम को गर्म पानी में उबाल लीजिए. फिर इसे सुखाकर इसमें दानेदार शक्कर, पिसी इलायची, केसर, चिरौंजी, पिस्ता और बादाम बराबर मात्रा में मिलाकर 7 दिन तक गाय के घी में रहने दें. ऐसा हर दिन सुबह 20 ग्राम तक सेवन करना चाहिए इससे ताकत बढ़ती है.

सर्दी-जुकाम

अगर आप सर्दी या जुकाम से परेशान हैं तो आपको अंजीर का प्रयोग कुछ इस तरह से करना चाहिए. पानी में 5 अंजीर को डालकर उबालकर इस पानी को छानकर गर्म-गर्म सुबह और शाम को पीने से जुकाम में लाभ होता है.

सिर का दर्द

अगर आपको सिर का दर्द बहुत परेशान करता है या फिर माइग्रेन की भी समस्या है तो सिरके या पानी में अंजीर के पेड़ की छाल की भस्म बनाकर सिर पर लेप करने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है. ऐसा आपको सिरदर्द में कर लेना चाहिए, ये दवा खाने से बेहतर होता है.

बवासीर

बवासीर एक गंभीर बीमारी होती है जो एक बार लग जाने पर आसानी से पीछा नहीं छोड़ती या फिर इससे छुटकारा पाने के लिए ऑपरेशन एकमात्र रास्ता होता है. मगर अंजीर से इस बीमारी से बचा जा सकता है. इसके लिए आपको 3-4 सूखे अंजीर को शाम के समय पानी में डालकर रखना होगा और सुबह अंजीरों को मसलकर प्रतिदिन सुबह खाली पेट खाने से बवासीर दूर हो जाती है.

रक्तवृद्धि और रक्तविकार दूर

10 मुनक्के और 8 अंजीर को एक गिलास दूध में उबालकर खाने से रक्त संबंधित कई फायदे होते हैं दो अंजीर को बीच से आधा काटकर एक गिलास पानी में रात भर के लिए भिगो दें सुबह उसका पानी पीने से और अंजीर खाने से रक्त संचार बढ़ता है.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close