अगर गोद लिया है बच्चा तो कुछ बातों का रखना होगा ध्यान, भूलकर भी ना करें ये बात जो कपल्स माता-पिता नहीं बन पाते वो बच्चा गोद ले लेते हैं, लेकिन उन्हें पालने के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना जरुरी है

शादी के रिश्ते को और मधुर बनाने के लिए और अपना परिवार बढ़ने के लिए लोग बच्चे पैदा करते हैं। हालांकि कई कपल्स ऐसे होते हैं जो माता पिता नहीं बन पाते हैं और इसलिए वो बच्चा गोद ले लेते है। बच्चे गोद लेने के लिए कई कानून दिशानिर्देश हैं और नियम हैं। हालांकि बच्चे को सिर्फ सुख सुविधा दे देना ही काफी नहीं है। बच्चे का सही तरीके से पालन पोषण करना ज्यादा महत्वपूर्ण होता हैं। कई बार पैरेंट्स बच्चा अडॉप्ट तो कर लेते हैं, लेकिन कुछ ऐसी बातें बोल जाते हैं जिससे बच्चा दुखी भी हो सकता है। आपको बताते हैं कि ऐसी कौन सी बातेम हैं जो बच्चों के सामने नहीं बोलनी चाहिए।

बच्चे को ना जताएं अलग

अगर आपने बच्चे को गोद लिया है तो उसे बार बार इस बात का एहसास ना दिलाएं। उसे बिना कहे ये एहसास दिलाएं की वो आपके परिवार का ही सदस्य है। बच्चे से ये कभी ना कहें कि अगर उनका खुद का बच्चा होता तो बहुत ही सुंदर होता। ऐसी बातों से बालमन पर बुरा असर पड़ता है। कभी कोई ऐसा काम या ऐसी बात ना कहें जिससे ऐसा लगे कि वो आपके परिवार का हिस्सा नहीं है।

उन्हें लकी ना कहें

अगर आपने बच्चे को गोद लिय़ा है तो उसे लकी होने की बात ना कहें। उसे  ये ना जताएं कि अगर आपने उन्हें गोद नहीं लिया होता तो उनका कोई नहीं होता। साथ ही ये भी ना कहें कि जबसे आपने बच्चे को गोद लिया है तो ही आपकी जिंदगी में सबकुछ ठीक हुआ है। बच्चे को हर बात इस बात का एहसास नहीं दिलाना चाहिए की आप उसे कहीं औऱ से लाएं हैं या आपने उन्हें नहीं लिया होता तो क्या होता। बच्चा इससे मानसिक रुप से परेशान होगा।

इस बात को गुप्त ना रखें

कई माता पिता अपने बच्चों को अडॉप्ट करने की बात इसलिए नहीं बताते हैं क्योंकि वो ये नहीं जताना चाहते कि उनका बच्चा किसी और का है। हालांकि बच्चों को धीरे धीरे पता चल जाता है। उन्हें कहीं और से पता चले इससे बेहतर है कि आप उन्हें बता दें। कई बार आदमी गुस्से में भी इन बातों का खुलासा कर जाता है और तब ये बातें चुभती हैं। ऐसे में आपको जितना जल्दी सही लगे उतनी जल्दी औऱ प्यार से ये बात बता दें। साथ ही उन्हें ये भी बताएं की इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता औऱ ना ही कुछ बदलने वाला है। ऐसे में बच्चा भी आपसे जुड़ाव महसूस करेगा। किसी औऱ से पता चलने पर वो आपको धोखेबाज समझ सकता है।

हर वक्त सहानुभूति ना दिखाएं

अगर आपका बच्चा कोई गलती करता है तो क्या आप उसे डांटते या मारते नहीं है? तो फिर गोद लिए हुए बच्चे के साथ बहुत सहानुभूति या लाड प्यार ना जाताएं। हर बात पर अगर आप उन्हें ज्यादा लाड प्यार करेंगे तो उन्हें घुटन महसूस होने लगेगी और साथ ही ऐसा लगेगा की उन्हें गोद लेकर आपने एहसान किया है। बच्चों को कमजोर ना बनाएं। अपनी लड़ाई उन्हें खुद लड़ने दें। उन्हें ये एहसास दिलाएं की आप उनके साथ हैं लेकिन सारा काम अपने हाथ में ना लें।

यह भी पढ़ें