विशेष

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की सैलरी है भारतीय नेताओं से भी कम, सैलरी स्लिप देखकर हैरान रह जाएंगे

आम लोगों को यही लगता है कि नेताओं-राजनेताओं को मोटी सैलरी मिलती होगी. उन्हें लगता है कि इस फील्ड में आकर सबसे ज्यादा पैसा कमाया जा सकता है. लेकिन वह यह नहीं जानते कि भले ही इस क्षेत्र में पॉपुलरिटी हो लेकिन पैसे बहुत कम होते हैं. भारत के नेताओं की सैलरी बहुत कम होती है. लेकिन दूसरे तरीके से वह कितना कमाते हैं ये बात और है. भारत में नेताओं की तनख्वाह कम तो होती ही है लेकिन क्या आप जानते हैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की भी तनख्वाह बहुत कम है. बता दें, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की तनख्वाह भारत के नेताओं से भी कम है. जी हां, जितनी सैलरी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की है उससे दोगुना-तिगुना सैलरी भारतीय नेताओं को मिलती है.

सामने आई पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की सैलरी स्लिप

हाल ही में पाकिस्तानी मीडिया ने प्रधानमंत्री इमरान खान की सैलरी स्लिप हवाले से तनख्वाह का खुलासा किया है. इसमें दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री इमरान खान को वहां के मंत्रियों से भी कम सैलरी मिलती है. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो प्रधानमंत्री इमरान खान को हर महीने 2.01 लाख की सैलरी मिलती है. यदि टैक्स काट लिया जाये तो इन्हें हर महीने 196,979.00 की ही सैलरी मिलती है और जरूरी भत्तों को शामिल करने के बाद यह 201,574.00 तक पहुंचती है. टैक्स के रूप में तनख्वाह से 4,595 रुपये कट जाते हैं. अगर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की सैलरी को भारतीय मुद्रा में देखा जाए तो उनकी मंथली सैलरी 1 लाख रुपये है.

इमरान खान की सैलरी का विवरण कुछ इस प्रकार है-

बेसिक सैलरी- 1,07,280 रुपये

अन्य मासिक भत्ते- 50,000 रुपये

तदर्थ राहत भत्ता- 21,456 रुपये

टैक्स कटौती- 4.595 रुपये

पीएम इमरान खान की नेट इनकम (इन हैंड)- 1,96,000 रूपये

इमरान खान ने कहा- हमारे पास है संसाधन की कमी


इसकी तुलना में उनके मंत्री ढाई लाख रुपये प्रति महीना और पंजाब के मुख्यमंत्री की सैलरी तीन लाख पचास हजार रुपये है. पंजाब प्रांत द्वारा इनके मंत्रियों और सदस्यों की तनख्वाह बढ़ाये जाने पर प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्वीट करके अपना दुख जाहिर किया था. उन्होंने ट्वीट में लिखा था कि एक बार पाकिस्तान में संपन्नता आ जाए तो फिर ये कदम बिलकुल ठीक है. फ़िलहाल हमारे पास संसाधनों की कमी है. अभी हमारे पास इतने संसाधन नहीं है कि हम सभी नागरिकों की मूलभूत जरूरतों को पूरा कर पाएं. बता दें कि हाल ही में पंजाब असेंबली ने बुधवार को अपने सभी मंत्रियों व सदस्यों का वेतन दोगुना से भी ज्यादा बढ़ा दिया था. हाल ही में भारत में हुए पुलवामा हमले पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने सवाल उठाये थे. उन्होंने कहा था कि भारत उन पर बिना किसी सबूत इल्जाम लगा रहा है.

बिना किसी सबूत के लगाया इल्जाम

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान का मानना था कि भारत उन पर पुलवामा हमले का आरोप बिना किसी सबूत लगा रहा है. उन्होंने कहा था कि, “अगर भारत किसी भी तरह की जांच कराना चाहता है तो हम उसके लिए भी तैयार हैं”. उन्होंने कहा कि, “अगर वाकई हमला पाकिस्तान ने करवाया है तो भारत सबूत दे, मैं कार्रवाई की गारंटी लेता हूं”.

पढ़ें पाकिस्तान के पीएम इमरान खान पर लगा गंभीर आरोप, छीन सकती है प्रधानमंत्री की कुर्सी

Back to top button