विशेष

पहले छोड़ने के लिए रखी शर्तें, बाद में इस वजह से छोड़ना पड़ा अभिनंदन को, कहा- हमें डर था कि भारत..

भारत और पाकिस्तान के बीच टेंशन का माहौल लगातार बना हुआ है. ये तनाव खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा. पुलवामा हमले के बाद जब से भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी ठिकानों को तहस-नहस किया है तब से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. पाकिस्तान ने गुरुवार की सुबह एक बार फिर नियंत्रण पार गोलीबारी की है. पाकिस्तान द्वारा की गयी इस गोलीबारी का भारतीय सेना ने करारा जवाब दिया है. बुधवार सुबह भारतीय सीमा में एक पाकिस्तानी लड़ाकू विमान F-16 घुस आया जिसे भारतीय वायुसेना ने मार गिराया. हालांकि, इस लड़ाई में भारत को भी अपना एक लड़ाकू विमान गंवाना पड़ा और भारतीय वायुसेना के एक पायलट पाकिस्तान के कब्जे में चले गए.

पाकिस्तान के कब्जे में गए भारतीय विंग कमांडर

भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान इस कार्रवाई के दौरान पाकिस्तान के कब्जे में चले गए. पाकिस्तान की ओर से पायलट अभिनंदन की कुछ तस्वीरें और विडियो शेयर की गयी थीं जो काफी दिल दहलाने वाली थी. लेकिन पाकिस्तानियों के कब्जे में होने के बावजूद विंग कमांडर ने जिस बहादुरी से हालातों का सामना किया है वह वाकई काबिल-ए-तारीफ़ है. पहले तो खबरें आयीं कि पाकिस्तान किसी भी हालत में कमांडर को छोड़ने के लिए तैयार नहीं है और भारत के सामने तरह-तरह की शर्तें रख रहा है. लेकिन भारत के सख्त रवैये के बाद खबरें आयीं कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अभिनंदन वर्थमान को छोड़ने का एलान कर दिया है. आखिर क्या वजह थी कि पहले सख्ती दिखाने वाला पाकिस्तान अचानक से नर्म पड़ गया और भारतीय कमांडर को छोड़ने के लिए मान गया?

इस वजह से छोड़ना पड़ा अभिनंदन को

दरअसल, हमले के बाद जो स्थिति पैदा हो गयी थी उसने पाकिस्तानियों के मन में खौफ पैदा कर दिया था कि कहीं भारत पाकिस्तान की कार्रवाई के बाद मिसाइल से हमला न कर दे. इसी डर की वजह से पूरा पाकिस्तान अलर्ट पर रखा गया था. इतना ही नहीं, इस डर की वजह से सभी हवाई सेवाएं रद्द कर दी गयी थी और किसी भी कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा गया था. पाकिस्तानी संसद को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा, “भारतीय एक्शन से हम खुश नहीं थे. जैसे वो हमारे सीमा में घुसे उसी तरह हम भी भारतीय सीमा में अंदर गए. उनके दो विमान भी हमने मार गिराए. लेकिन हम शांति चाहते हैं. हम केवल यह दिखाना चाहते थे कि हम भी हमला कर सकते हैं”.

शांति चाहते हैं, युद्ध नहीं

भारत की कड़ी कारवाई से घबराए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को पाकिस्तान की सांसद में बयान देते हुए कहा कि, “हम शांति चाहते हैं, युद्ध नहीं. इसलिए हमने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र सिंह मोदी से बात करने की कोशिश की है. लेकिन हमारी कोशिश को हमारी कमजोरी नहीं समझा जाए”. इमरान ने अपने बयान में आतंकवाद को जायज ठहराते हुए पुलवामा हमले के दोषी आदिल अहमद का बचाव किया.

पढ़ें मेजर अभिनंदन के लिए वीना मलिक ने उगला जहर तो स्वरा भास्कर ने जमकर दिया लताड़

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें.  

Back to top button
?>