लॉफिंग बुद्धा की मूर्तियां बना देती हैं सारे बिगड़े काम,जानें किस दिशा में रखने से मिलता है लाभ

आप अक्सर जब भी लोगों के घर या ऑफिस जाते होंगे तो सजावट के सामान के बीच लॉफिंग बुद्धा की मूर्ति देखी होगी। लॉफिंग बुद्धा की डिमांड मार्केट में भी कभी खत्म नहीं होती है और तोहफे के रुप में भी इसका इस्तेमाल खूब किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि अगर लॉफिंग बुद्धा आप किसी तो तोहफे के रुप में देते हैं तो उसके घर भी खुशियां आती हैं औऱ आपका परिवार भी सुखी रहता है। साथ ही देखने में भी ये काफी सुंदर होते हैं। ऐसे में आपके मन मे भी सवाल आता होगा कि ये लॉफिंग बुद्धा आखिर हैं कौन और इनकी हर मूर्ति हंसती हुई ही क्यों होती हैं। साथ ही आपको बताएंगे की लॉफिंग बुद्धा की मूर्ति को घर में सजाने के क्या लाभ मिलते हैं।

लॉफिंग बुद्धा को रखना मानते हैं शुभ

जैसे हमारे देश में वास्तु शास्त्र माना जाता है वैसे ही चीन में फेंगशुई होता है। घर में बरकत और  सुख स्मृद्धि लाने के लिए हम वास्तु का ध्यान देते हैं। मुख्य द्वार इस दिशा में हो, किचन किस दिशा में हो वैसे ही चीन में फेंगशुई है जो वास्तु की तरह ही काम करता है। हमारे यहां धन के देवता कुबेर महाराज हैं और चीन में लॉफिंग बुद्धा को धन का देवता माना गया है। इसे घर दुकान ऑफिस कहीं भी रखने से कृपा मिलता है। इससे पहले जान लें कि आखिर बुद्धा के इस रुप का नाम लॉफिंग बुद्धा क्यों पड़ा।

कौन थे असल में लॉफिंग बुद्धा

महात्मा बुद्ध के कई शिष्य थे उनमें से एक शिष्य थे जापान के होतोई। जब होतोई बौद्ध बने तो उन्हें आत्मज्ञान की प्राप्ति हुई। जैसे ही ऐसा हुआ वह जोर जोर से हंसने लगे। उनके जीवन का सिर्फ एक ही उद्देश्य था लोगों को हंसाना और उनके जीवन को सुखी बनाना। होतोई हर जगह जाते और लोगों को हंसाते। इसके बाद से ही उनका नाम रख दिया गया लॉफिंग बुद्धा यानी की वह बुद्धा जो हंसता रहता। हंसना सेहत के लिए अच्छा होता है और इससे मन भी प्रसन्न होता है औऱ सकारात्मक शक्तियां मिलती है। इसके बाद से उनको मानने वालों की संख्या भी बढ़ गई।

चीन में लॉफिंग बुद्धा को उदार के नाम से भी जाना जाता है। दरअसल बुद्धा भी एक भिक्षुक थे और उन्हें घूमना फिरना और मौज मस्ती करना बेहद पसंद है। उन्हें लोगों को हंसाने के लिए कुछ अलग से नहीं करना पड़ता था। वह सिर्फ अपना विशाल शरीर और निकला हुआ पेट देखकर लोग हंसने लगते थे। इस तरह से आप देखेंगी की जहां भी लॉफिंग बुद्धा की मूर्ति होती है उसका पेट बाहर निकला हुआ होता है।

लॉफिंग बुद्धा के उपाय

  • मूर्ति को कभी भी मेन गेट यानी की मुख्य द्वार पर नहीं रखना चाहिए। जहां से आपका रोज का आना जाना हो उस स्थान पर बुद्धा की मूर्ति ना रखें।
  • लॉफिंग बुद्धी की वह मूर्ति अपने घर और ऑफिस के स्थान पर रखें जिसमें वह अपने दोनों हाथ उठाकर हंस रहे हैं और साथ ही पूर्व दिशा में ही इसे रखें।
  • अगर घर में आमदनी बढ़ानी हो और सुख शांति में वृद्धि चाहते हों तो लॉफिंग बुद्धा की मूर्ति अपने घर की दक्षिण पूर्व दिशा में रख दें। उस दिशा में रखने से सकारत्मकता आती है।
  • अगर आपको ऐसा लगता है कि आपकी खुशियों को किसी की नजर लग गई है या आपके परिवार को लोगों का काम बनते बनते बिगड़ जा रहा है तो बुद्धा की ऐसी मूर्ति घर पर लाएं जिसमें वह ड्रैगन पर बैठे हों।
  • घर और ऑफिस या बिजनेस में बरकत के लिए काम की जगह पर बुद्धा की वह मूर्ति लाएं जिसमें वह धन की पोटली लिए हंस रहे हों।

यह भी पढे़ं