नहाने के बाद पढ़ें रामायण की ये चौपाइयां, सफलता चूमेंगी आपके कदम

न्यूज़ट्रेंड वेब डेस्क: आज के समय में सफल होने के लिए लोग हर तरह की कोशिश करते हैं, लेकिन इसके बावजूद भी कभी-कभी ऐसा लगता है कि सफलता हमारे पास होते हुए भी पास नहीं हैं, या फिर मिलते मिलते रह जाती है। लेकिन इसके बावजूद भी हम अमीर बनने के लिए क्या कुछ नहीं करते हैं। कई लोगों को बिना कुछ किए ही बहुत कुछ मिल जाता है तो कुछ परिश्रम करने के बावजूद भी सफलता के उस मुकाम पर नहीं पहुंच पाते जहां उन्हें जाना होता है। दरअसल दोस्तों जीवन में सफल होना मेहनत के साथ किस्मत पर भी निर्भर करता है। तो आज हम आपको कुछ ऐसा बताएंगे जिसके साथ आपकी मेहनत के साथ अपनी किस्मत भी चमक उठेगी।

बता दें कि रामायण में कुछ ऐसी चौपाइयां हैं जिनके लिए ऐसा माना जाता है कि यदि हम इन्हें प्रतिदिन नहाने के बाद पढ़ ले तो हमारा जिंदगी भर का सपना पूरा हो सकता है और हमारे सभी कार्य सफल हो सकते हैं। जैसा की आप सब जानते ही होंगे कि रामायण हिंदुओं का एक पवित्र ग्रंथ हैं और इसकी  रचना बाल्मीकि जी ने की थी।

रामायण में कई ऐसी बाते लिखी हैं जो हमारे जीवन के सत्य को उजागर करती हैं, हमें सत्य से मिलवाती हैं। उसी तरह से रामायण में कुछ ऐसी चौपाइयां हैं जिनको पढ़ने से आपकी किस्मत के सारे ताले खुल जाएंगे और हर तरह की समस्याओं का समाधान भी मिलेगा।

जो प्रभु दीनदयाला कहावा। आरति हरन बेद जस गाबा।।

जपहि नामु जन आरत भारी।मिटहि कुसंकट होंहि सुखारि।।

दीनदयाल बिरद संभारी।हरहु नाथ मम संकट भारी।।

बता दें कि सुबह उठने और स्नान करने के बाद भगवान के सामनें जाकर आप प्रत्येक चौपाई को कम से कम पांच बार पढ़ें और मन में भगवान से संकल्प करें कि आप कभी किसी का बुरा नहीं सोचोगे ना ही बुरा करोगे। ऐसा करते हुए हर एक चौपाई को पांच बार पढ़ें और फिर हाथ जोढ़कर भगवान को नमन करें। ऐसा प्रतिदिन करने से आपको जीवनमें सफलता अवश्य मिलेगी।