मैगी में पाया जाने वाला लेड आपके बच्चों के लिए हैं बेहद ही खतरनाक, जानें कैसे शरीर पर डालता है प्रभाव

जब बड़ी तेज से भूख लगी हो और कुछ ऐसा खाने का दिल करें जो झट से बन जाए तो सबसे पहले याद आती है मैगी। मैगी हमेशा से ही सस्ती और आसान डिश रही है जिसके लाखों दीवाने रहे हैं। मैगी सिर्फ बच्चों नहीं बल्कि बुजुर्गों को भी बहुत पसंद आती है। पसंद आए भी क्यों ना इतने सस्ते और आसान तरीके से बनने वाली ये डिश काफी चटपटी भी होती है और इससे पेट भी भर जाता है। घर से बाहर रहने वालों के लिए तो यह जन्नत है। हालांकि मैगी मैदा का ही एक रुप है जो सेहत के लिए अच्छा नहीं होता, लेकिन बात सिर्फ इतनी सी नही है। हाल ही में ऐसी खबर आई है जिसमें फिर बताया गया है कि मैगी खाना सेहत के लिए हानिकारक है।

खबर है कि मैगी में लेड की मात्रा बहुत अधिक पाई जा रही है साथ ही इसमें एमएसजी भी मौजूद है जिसके सेवन से कोई भी व्यक्ति खतरनाक रोग की चपेट में आ रहा है। इस बात को मैगी कंपनी के मालिक ने भी स्वीकार किया है कि मैगी सेहत के लिए हानिकारक हो चुकी है। गौरतलब है कि ऐसा पहली बार नहीं हा है जब मैगी पर सवाल उठे हों। इससे पहले भी मैगी बंद कर दी गई थी तब उसके मसाले में गड़बड़ी थी। इसके बाद मैगी बाजार में प्योर बनकर फिर से आई थी, लेकिन अब उसमें फिर से खतरनाक लेड पाया जा रहा है जो सेहत पर बुरा असर डाल रहा है।

क्यों लेड है खतरनाक

लेड हमारे शरीर के लिए बहुत ही घातक होता है और अगर इसकी मात्रा शरीर में बढ़ जाए तो इससे शरीर को काफी नुकसान पहुंच सकता है। दरअशल हमारे शरीर में लेड की कहीं आवश्यक्ता ही नहीं होती। ऐसे में अगर बाहर से हम अपने शरीर को लेड देते हैं तो उसे पचाने में शरीर को दिक्कत होती हैं। अगर लेड की मात्रा शरीर में बढ़ जाए तो लिवर, दिमाग, किडनी औऱ हड्डियों सब पर बुरा प्रभाव डालता है। यह लिवर तो खराब कर ही देता है इससे डाइजेशन भी बिगड़ जाता है।

गर्भवती महिलाओं को भूलकर भी मैगी का सेवन नहीं करना चाहिए। उनमें गर्भपात, प्रिमच्योर डिलवरी, बच्चे का वजन कम होना जैसी बड़ी समस्या हो सकती है।अगर बच्चे बहुत ज्यादा  मैगी का सेवन करते हैं तो मानसिक विकलांगता, पढ़ाई में समस्या होना, व्यवहार में परेशानी और ब्लड सर्कुलेशन जैसी समस्या हो सकती है।

मोनोसोडियम ग्लूटामेट

मैगी में लेड के अवाला जो दूसरी खतरनाक चीज पाई जाती है वह मोनोसोडियं ग्लूटामेट होता है जो शरीर के लिए बहुत ही नुकसानदेह होता है। यह एक तरह का केमिकल होता है जिसके सेवन से बच्चों को काफी गभीर समस्या हो जाती है। इसमें हाथ पैर मे कमजोरी महसूस करना, मुंह सिर या गर्दन में जलन महसूस करना शामिल है। यह एक तरह का सोडियम साल्ट होता है जो अक्सर डिब्बा बंद औऱ चाइनीज डिश में अक्सर पाया जाता है। यह खाने के स्वाद पर असर डालता है इसके अधिक सेवन से सिरदर्द, पसीना  आना और चक्कर आ सकता है।

यह भी पढ़ें :