जानें मेदोहर वटी के उपयोग और लाभ, वजन घटानें में हैं लाभदायक

हम अपने पाठकों को स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां देते रहते हैं साथ ही ऐसी औषधियों की जिनके उपयोग से कई ऐसी बीमारियों से निजात मिलता है जो एक गंभीर बीमारी होती हैं। दिव्य मेदोहर वटी एक ऐसी आर्युवेदिक गुणों से भरपूर है जो पेट की चर्बी को कम करती है. साथ ही पाचन तंत्र के खराबी, थाइरोइड की समस्या, हॉर्मोन में बदलाव, pcod , खानपान में खराबी जैसी समस्याओं का भी समाधान करती हैं।

आजकल की दिनचर्या, व्यस्तता के चलते अपने शरीर के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं, जिस वजह से एक गंभीर बीमारी का शिकार हो जाते हैं और वो बीमारी है मोटापा। मोटापा, ये एक ऐसा शब्द है जिससे कई लोग ग्रसित हैं। गांव हो या शहर, बच्चा हो या बूढ़ा अमूमन हर कोई ही मोटापे की समस्या से जूझता नजर आता है। मोटापे को कम करने के लिए हम कई तरह के प्रयास करते हैं एक्सरसाइज, योगा लेकिन कई लोग ऐसे होते हैं जो अपने बिजी शेडूयूल की वजह से समय नहीं निकाल पाते. ऐसे ही लोगों के लिए है यह औषधी। मोटापा आपके शरीर में अन्य कई बीमारियों को भी बुलावा देता है। बढ़ते मोटापे के साथ मधुमेह, हाइ ब्लड प्रैशर, बांझपन, हृदई रोग जैसी समस्याएं पैदा हो जाती हैं।

मेदोहर वटी
मेदोहर वटी

दिव्य मेदोहर वटी में पाए जाने वाले तत्व

आमला (आंवला) या आमलकी 94.90 मिलीग्राम
बहेड़ा या बिभीतकी 94.90 मिलीग्राम
हरड़ या हरीतकी 94.90 मिलीग्राम
कुटकी 14.30 मिलीग्राम
त्रिवृत (निशोथ) 14.30 मिलीग्राम
वायविडंग 28.60 मिलीग्राम
छोटी हरड़ 28.60 मिलीग्राम
शुद्ध गुग्गुल 86.50 मिलीग्राम
शुद्ध शिलाजीत 14.30 मिलीग्राम
बबूल गोंद 28.60 मिलीग्राम

 

दिव्य मेदोहर वटी के औषधीय गुण

दिव्य मनोहर वटी एक ऐसी औषधि है जिसका उपयोग करके बढ़ते मोटापे को कम किया जा सकता है। दिव्य मनोहर वटी में कुछ ऐसी औषधीय गुण पाए जातें हैं जो मोटापे को नियंत्रित करते हैं। त्रिफला और गुग्गुल दिव्य मेदोहर वटी की ऐसी दो मुख्य सामग्रियां हैं जो मोटापे को दूर करती हैं। त्रिफला के बारे में सब जानते ही हैं कि यह मोटापे को कम करने का एक अच्छा उपचार है। कई शोधों में ये पता चला है कि त्रिफला का प्रयोग शरीर में वसा और वजन को कम करता है।

त्रिफला की तरह ही गुग्गुल भी मोटापा कम करने में एक लाभकारी औषधि है। गुग्गुल भी शरीर में बढ़ने वाले वसा की मात्रा को कम करता है, जिस वजह से शरीर का वजन भी कम होता है। साथ ही गुग्गल वसा को शरीर में जमने से रोकने और वसा के कम होने की प्रक्रिया को बढ़ाने में महत्वपूर्ण रोल निभाती हैं।

मोटापा कम करने में सहायक

हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि यह औषधि वजन को कम करने में काफी लाभदायी होती है। इसके सेवन से पूरे शरीर का वजन तो घटता ही है साथ ही यह पेट की चर्बी को कम करने में सबसे ज्यादा प्रभाव डालती है। इसके सही लाभ पाने के लिए इस औषधि का उचित मात्रा में सेवन करना चाहिए। जिसके लिए कम से कम रोजाना तीन गोलियां तीन बार लेना वजन कम करने के लिए सबसे उचित खुकार है।

भूख का संतुलित करने में सहायक

मेदोहर वटी के उपयोग से ये शरीर में भूख लगने को संतुलित करती है।जिससे आपके शरीर को कितनी मात्रा में कितना भोजन चाहिए ये सुन्शिचित हो जाता है और मोटापा नहीं बढ़ता है। क्योंकि शरीर में मोटापे की एक मुख्य वजह खाने का अंसतुलित होना है।

हार्मोंस का संतुलन करने में सहायक

मेदोहर वटी का सेवन करने से आपके शरीर में हार्मोंस का संतुलन बना रहता है।

रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को संतुलित रखने में सहायक

मेदोहर वटी का सेवन शरीर में रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को संतुलित रखता है और बढ़े हुए रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी सहायक होता है।

मेटाबॉलिज्म के संतुलन में सहायक

मेटाबॉलिज्म शरीर में होने वाली एक ऐसी रासायनिक प्रकिया है जो हमारे शरीर में पाचन तन्त्र की प्रक्रिया को नियंत्रित करता है. यह हमारे द्वारा खाए गए खाने को तोड़कर एनर्जी में बदल देता है, जिससे हमारे शरीर को एनर्जी मिलती है।

पाचन क्रिया को संतुलित करने में सहायक

मेदोहर वटी हमारे शरीर की पाचन क्रिया को संतुलित रखती है, जिससे शरीर में फैट नहीं बनता है और फैट को कम करने में भी सहायता मिलती है।

इसका सेवन मांसपेशियो में होने वाले दर्द,गठिया,जोड़ो का दर्द और स्पोण्डालयतीस के दर्द मे भी आराम प्रदान करता है।

मेदोहर वटी
मेदोहर वटी

मेदोहर वटी का सेवन , समय और मात्रा

इस औषधि को हर व्यक्ति कर सकता है, लेकिन सबकी उम्र के हिसाब से इसकी मात्रा में अंतर होता है।

बच्चे 1 से 2 गोलियां दिन में दो बार
वयस्क 2 से 3 गोलियां दिन में दो बार
वृद्ध 1 से 2 गोलियां दिन में दो बार

दिव्य मेदोहर वटी की खुराक का समायोजन

ऊपर दिए गए चार्ट में आपको औषधि की मात्रा के बारे में बताया गया है. यदि वजन कम करने की बात करें तो इसका सेवन रोगी के वजन पर भी निर्भर करता है। इसलिए आप इस औषधि के सेवन से पहले आप अपने चिकित्सक से सलाह अवश्य लें। इसकी मात्रा आपके शरीर के वजन और उम्र पर भी निर्भर करता है।

बता दें कि मेदोहर वटी के अकेले सेवन करने की तुलना में इसके रोज़ाना सेवन और इसको दूसरी औषधियों के साथ लेने से अच्छे परिणाम मिल सकते हैं।

मेदोहर वटी के सेवन का सही तरीका

मेदोहर वटी का अच्छे और बेहतर परिणाम के लिए इसका सेवन गर्म पानी के साथ करना चाहिए। गर्म पानी के साथ मेदोहर वटी का सेवन अवशोषण को बढ़ाता हैं जिससे अच्छे परिणाम देखने को मिलते हैं।

नोट- मेदोहर वटी का सेवन एक दिन में अधिकतम 4.5 ग्राम (9 गोलियां) अलग-अलग समय में लेनी चाहिए, एक साथ ज्यादा मात्रा में इसका सेवन नही करना चाहिए।

मेदोहर वटी खाने का सही समय

यदि हर खाने की चीज का सही मात्रा में सेवन आवश्यक होता है, उसी तरह से उसका सही समय में सेवन भी अत्यंत आवश्यक होता है।

मेदोहर वटी का इस्तेमाल खाना खाने से 30 मिनट पहले या खाने के 60 मिनट इसका सेवन लाभदायी होता है।

हालांकि कुछ मामलों में ऐसा होता है जिन लोगों को पेट की कोई समस्या होती है और वो खाने के पहले इसका सेवन करते हैं तो जिससे पेट संबंधित कुछ परेशानियों का सामना करना पड़ सकता हैं। अगर आप के साथ ऐसा कुछ भी होता है तो खाना खाने के 60 मिनट बाद इस वटी का सेवन करें।

मेदोहर वटी के दुष्प्रभाव

बता दें कि यह एक पूरी तरह से औषिधीय है। अत: दिव्य मेदोहर वटी एक सुरक्षित दवा हैं, जिसके कोई साइड एफ्फेक्ट्स नही हैं।

एक ध्यान रखने वाली बात यह है कि नवजात शिशु और 5 वर्ष से कम आयु वाले बच्चों और गर्भबती महिलाओं को इसका सेवन नही करना चाहिए।

मेदोहर वटी एक ऐसी औषधि है जो बिना किसी साइड इफेक्ट के शरीर का वजन कम करने में कारगर साबित होती है। बाजार में मिलने वाली दवाएं जो वजन कम करने का दावा करती हैं उनके कई साइडइफेक्ट भी होते हैं।मोटापे की मुख्य वजह होती है यदि आप शरीर में ऊर्जा का सेवन यानि भोजन का सेवन अधिक कर रहे हैं और उसकी खपत कम हो रही है तो ऐसे में वजन बढ़ना नार्मल सी बात है। ऐसे में दिव्य मेदोहर वटी जैसी आयुर्वेदिक दवाईओं से उसे संतुलित किया जा सकता है।

  • क्या आप जानते हैं की यूरिक एसिड क्या है, क्या है इस के लक्षण और कैसे करना चाहिए इस से परहेज पढ़ें यहां: यूरिक एसिड क्या होता है