कर्नाटक सीएम का पीएम मोदी को खुला चैलेंज,कहा ‘भ्रष्टाचार पर मुझसे बहस करें पीएम’

कर्नाटक:  सूबे की सियासत में चुनावी घमासान शुरू हो चुकी है। जी हां, कर्नाटक में चुनाव इसी साल के मध्य में होने वाले हैं, ऐसे में सियासत का गरमाना लाजमी है। याद दिला दें कि हाल ही में पीएम मोदी के दौरे पर गये थे, जिस दौरान पीएम मोदी ने कांग्रेस की लुटेरी सरकार बताया था, जिसके बाद से ही सूबे की सियासत गरमा गई है। आइये जानते हैं कि हमारे इस रिपोर्ट में खास क्या है?

कर्नाटक में अप्रैल या मई मे चुनाव होने वाले हैं, ऐसे में बीजेपी सूबे की सत्ता पर काबिज होने के फिराक में है, तो वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस अपनी सत्ता किसी भी कीमत में हाथ से नहीं निकलने देना चाहती है। बता दें कि पीएम मोदी ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेसियों को देशहित नहीं बल्कि सेल्फहित की चिंता रहती है, ऐसे सरकार की वजह से यहां की जनता परेशान है। इसके अलावा पीएम मोदी ने आगे कहा था कि कांग्रेस सरकार में जितना भ्रष्टाचार खून खराबा हुआ है, उसका जवाब जनता वोट से देगी। पीएम मोदी के इसी भाषण पर कर्नाटक सीएम ने पलटवार करते हुए पीएम मोदी को खुला चैलेंज दिया।

पीएम मोदी को चैलेंज देते हुए कर्नाटक सीएम सिद्धारमैया ने ट्वीट करते हुए कहा कि मैं बहुत खुश हुं कि पीएम मोदी भ्रष्टाचार पर बात कर रहे हैं, ऐसे में मैं उन्हें वॉक द टॉक करने का आमंत्रण देना चाहूंगा। बताते चलें कि इस दौरान सीएम ने कहा कि पहला मुद्दा लोकपाल की नियुक्ति तो दूसरा जज लोया केस, तीसरा मुद्दा जय शाह की संपत्ति हो सकता हैं, इसके बाद सबसे आखिरी मुद्दा बेदाग चेहरे को सीएम उम्मीद्वार क्यों नहीं बनाया गया?

पीएम मोदी ने भाषण में कांग्रेस पार्टी को जमकर लताड़ते हुए कहा था कि कांग्रेस अब एग्जिट गेट पर खड़ी है, यहां से उसे बाहर निकालना कर्नाटक की जनता का काम है। साथ ही इस दौरान कर्नाटक के विकास की बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि कर्नाटक में विकास बीजेपी की सरकार करेगी।

ये भी पढ़े: कर्नाटक में पीएम मोदी का बड़ा वार ‘एग्जिट गेट पर खड़ी है कांग्रेस’

बहरहाल, देखना ये होगा कि कर्नाटक के सीएम का ये ओपन चैलेंज का मामला किस मोड़ पर मुड़ेगी, लेकिन यहां एक बात तो तय है कि कर्नाटक की सियासत में चुनाव होने तक सरगर्मियां देखने को मिलेगी। कई मुद्दे उठेंगे तो कई आरोप लगें, इन सबके बीच जनता को तय करना होगा कि आखिर उसके लिए कौन सी सरकार बेहतर है?

Leave a Reply

Your email address will not be published.