राम रहीम की लाड़ली हनीप्रीत के हसीन सपनों पर फिरा पानी, जमानत की बजाय फिर से मिली जेल

चंडीगढ़: सपनों की उड़न भरनें वाली हनीप्रीत एक बार क्या जेल पहुच गयी, उसे सभी सपने एक-एक करके चूर होते जा रहे हैं। इस समय उसका कोई सपना नहीं बचा है,बची है तो सिर्फ उसके गुनाहों की दास्तान, जिसका हिसाब कानून कर रहा है। जमानत मिलने का उसका सपना कल टूट गया, अब उसे 6 नवम्बर तक न्यायिक हिरासत में रखा गया है। हनीप्रीत भले ही बार-बार खुद को बेकसूर बता रही हो, लेकिन उसके गुनाहों का सबूत पुलिस के पास मौजूद है। उन्ही सबूतों की मदद से ही पुलिस ने उसके सपने को एक बार फिर तोड़ दिया।

हनीप्रीत की तरफ से कोर्ट में नहीं पेश हुआ कोई वकील:

राम रहीम की लाड़ली हनीप्रीत के हसीन सपनों पर फिरा पानी, जमानत की बजाय फिर से मिली जेल

सोमवार को जब हनीप्रीत के मामले की कोर्ट में सुनवाई चल रही थी तो यह उम्मीद की जा रही थी कि हनीप्रीत को बेल मिल जाएगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हनीप्रीत की कल पंचकुला कोर्ट में पेशी हुई थी। हनीप्रीत की किस्मत ख़राब थी और पंचकुला के वकील हड़ताल पर थे। इस वजह से हनीप्रीत की तरफ से कोई कोर्ट में कोई वकील पेश नहीं हुआ। बहन ना होनें की वजह से कोर्ट ने इस केस की सुनवाई 6 नवम्बर को टाल दी है। अभी हनीप्रीत कुछ दिनों के लिए जेल में ही रहनें वाली हैं।

हनीप्रीत का वर्दी वाला जासूस लग चुका है पुलिस के हाथ:

राम रहीम की लाड़ली हनीप्रीत के हसीन सपनों पर फिरा पानी, जमानत की बजाय फिर से मिली जेल

हनीप्रीत की पेशी जब 6 नवंबर को होगी तो उसे जमानत मिलेगी, इसकी उम्मीद भी बहुत कम ही है। हनीप्रीत की न्यायिक हिरासत के दौरान ही उसके खिलाफ पुलिस को कई अहम सबूत मिले हैं। इसमें हनीप्रीत का लैपटॉप और मोबाइल भी है। बताया जा रहा है कि अब हनीप्रीत का सबसे बड़ा राजदार वर्दी वाला जासूस हेड कॉन्स्टेबल लाल चंद लग चुका है। लालचंद चंडीगढ़ पुलिस की इंटेलिजेंस विंग में तैनात हनीप्रीत का वह जासूस था जो सरकार की खाता तो जरुर था लेकिन नाचता हनीप्रीत के इशारों पर था।

लालचंद ने किये कई हैरान करनें वाले खुलासे:

राम रहीम की लाड़ली हनीप्रीत के हसीन सपनों पर फिरा पानी, जमानत की बजाय फिर से मिली जेल

पिछले सोमवार को जैसे ही हनीप्रीत का यह जासूस एसआईटी के हत्थे चढ़ा, 25 अगस्त को बाबा को भागानें की सारी साजिश के पर्दा उठ गया, जिसे हनीप्रीत ने बुना था। जब एसआईटी ने लालचंद से पूछताछ की तो उसनें कई हैरान करनें वाले खुलासे किये। बताया जा रहा है कि यह राम रहीम का कट्टर समर्थक भी था। बलात्कार के केस में जेल जानें से पहले ही हनीप्रीत ने अपने लोगों के साथ मिलकर राम रहीम को भागनें की साजिश रची थी। इस साजिश को अमली जमा पहनानें में लालचंद लगा हुआ था। इतना सब खुलासा होनें के बाद हनीप्रीत का बच पाना लगभग मुश्किल है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.