सायनाइड से भी ज्यादा जहरीला है यह पौधा, केवल छुनें से हो जाती है यह हालत, देखकर खड़े हो जायेंगे आपके रोंगटे

प्रकृति के रहस्यों से आज तक पूरी तरह से पर्दा नहीं उठ पाया है। प्रकृति ने पृथ्वी पर बहुत ज्यादा विविधता बनायीं हुई है। विविधता की वजह से ही इस पृथ्वी पर जीवन संभव हो सका है। पृथ्वी के विविधता को आप इस तरह से भी देख सकते हैं। प्रकृति में कई तरह के जीव-जंतु, पेड़-पौधे, नदियाँ-पहाड़ मौजूद हैं। यह सभी चीजें प्रकृति की ही देन हैं। बिना इन चीजों के पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं हो पाता।

प्रकृति में कई ऐसी चीजें आज भी मौजूद हैं, जिसके बारे में कोई नहीं जनता है। कुछ ऐसे जिव-जंतु और वनस्पति हैं, जिनके बारे में वैज्ञानिक भी पूरी तरह से नहीं जान पाए हैं। कुछ पौधे औषधि की तरह इस्तेमाल होते हैं तो वहीँ कुछ पौधे इस तरह के भी हैं, जो ज़हर की तरह होते हैं। इन पौधों का इस्तेमाल जहर के रूप में किया जाता है। ये प्राकृतिक ज़हर की तरह काम करता है। कई लोग इसके बारे में जानते भी नहीं है।

त्वचा सम्बन्धी समस्याओं का करना पड़ता है सामना:

अनजानें में जो लोग इन पौधों का सेवन कर लेते हैं, उन्हें अपनी जान से हाथ भी धोना पड़ता है। जो लोग इन पौधों के गुणों में बारे में जानते हैं, वह इनसे दूर रहनें में भी अपनी भलाई समझते हैं। कई पौधे देखनें में एक जैसे ही होते हैं, उनमें से एक अच्छा होता है तथा दूसरा जहरीला होता है। उनमें अंतर बहुत ही मामूली सा होता है, जिसे कम लोग ही पहचान पाते हैं। कुछ पौधे जहरीले होते हैं, लेकिन उन्हें छूने मात्र से ही कई तरह की त्वचा सम्बन्धी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

किलर ट्री के नाम से जाना जाता है पौधा:

आज हम आपको एक ऐसे ही खतरनाक पौधे के बारे में बतानें जा रहे हैं जो सांप और सायनाइड से भी ज्यादा खतरनाक होता है। इस पौधे को जहरीले पौधे के रूप में जाना जाता है। लन्दन के वैज्ञानिकों ने होगवीज या किलर ट्री के नाम के पौधे को सबसे खतरनाक पौधा घोषित कर दिया है। इस पौधे का वौज्ञानिक नाम हेरकिलम मेंटागेजिएनम है। वैज्ञानिकों ने अपनी शोध के दौरान यह पाया है कि इस पौधे को छूने से ही हाथों पर छाले पड़ जाते हैं।

गलती से भी छू लिया पौधे को तो सामत है आपकी:

केवल यही नहीं इन छालों में मवाद भी भर जाते हैं। कई बार जो भी इस पौधे को छूता है, इसका खतरनाक असर 48 घंटे में ही दिखना शुरू हो जाता है। कई बार इन छालों को ठीक होनें में सालों लग जाते हैं। डॉक्टरों के अनुसार अभी तक इन छालों के इलाज के लिए कोई सटीक इलाज खोजा नहीं जा पाया है। बताया जा रहा है कि इस पौधे के अन्दर पाया जानें वाला खतरनाक रसायन इसे सांप से भी ज्यादा जहरीला बना देता है। अगर आपनें गलती से भी इस पौधे को छू लिया तो आपकी सामत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.