Viralदिलचस्प

न बैं- बाजा, न घोड़ी चढ़ा दूल्हा, बाराती भी घर से खाकर आए खाना, चर्चा में है कोटा की अनोखी शादी

शादी ब्याह का सीजन चल रहा है। ऐसे में अक्सर सोशल मीडिया पर भी शादी से जुड़े वीडियो और तस्वीरें वायरल होती रहती है। इन तस्वीरों में शादी से जुड़ी रस्मे दिखाई पड़ती है तो कभी शादी वाले एंजॉय करते हुए नजर आते हैं। इसी बीच शादी से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है जिसने हर किसी को हैरान कर दिया।

kota

इस शादी में ना तो दहेज दिया गया ना ही दूल्हा घोड़ी चढ़ा और ना ही कार्ड बांटे, ना बैंड बाजा बारात आए। इतना ही नहीं बल्कि जो बराती आए वो भी अपने अपने घर से खाना खाकर आए। ऐसे में यह शादी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है। तो आइए जानते हैं इस अनोखी शादी के बारे में…

बिना स्वागत के ही लौटे बाराती

kota

गौरतलब है कि आजकल जिस तरह की शादियां होती है उसमें करोड़ों रुपए खर्च कर दिए जाते हैं। लोग अपनी शादी को स्पेशल बनाने के लिए पानी की तरह पैसा बहाते हैं। इतना ही नहीं बल्कि शादी जैसे बड़ा इवेंट के लिए लोग कई दिनों से पैसे जमा करने लग जाते हैं। वही दूल्हा-दुल्हन भी अपनी शादी को खूबसूरत बनाने के लिए कोई भी कसर नहीं छोड़ते हैं, लेकिन जब ना तो बैंड बाजा, ना घोड़ी बारात, ना नाच गाना और ना ही खास दावत हो तो अपने आप में ही यह शादी बहुत ही स्पेशल और अनोखी बन जाती है।

kota

दरअसल, राजस्थान के कोटा में कुछ ऐसी ही शादी हुई। यहां पर ना तो किसी तरह का बैंड बाजा लाया गया, ना ही दूल्हा घोड़ी पर चढ़ा, ना ही स्पेशल बारात आई। इतना ही नहीं बल्कि जो बाराती आए वह भी अपने अपने घर से खाना खाकर आए। इसके बाद दुल्हन को बिना दहेज के ही विदा कर दिया।

पूरी शादी में खर्च हुए केवल इतने रुपए

kota

रिपोर्ट की माने तो इस पूरे विवाह को करने के लिए केवल महज 20 हजार का ही खर्चा आया है। यह निकाह कोटा के चंद्रघंटा की रहने वाली मरियम सिद्दीकी और विज्ञान नगर के रहने वाले जीशान अली का था। दोनों का निकाह बीते सोमवार रात को हुआ। इस शादी में न तो संगीत का कार्यक्रम हुआ और ना ही दूल्हा दुल्हन को हल्दी लगाई गई। दरअसल, दुल्हन के पिता नजीमुद्दीन के मुताबिक, उसके परिवार पर खर्चे का वजन नहीं डाला गया।

kota

इनके मुताबिक कम से कम पैसों में यह शादी कंप्लीट हो गई। इसके लिए उन्होंने शादी के कार्ड भी नहीं छपवाए। उन्होंने अपनी शादी में रिश्तेदार और कुछ मेहमानों को बुलाने के लिए मोबाइल फोन पर ही जानकारी दे दी। वहीं बारातियों के लिए भी रिसेप्शन की कोई व्यवस्था नहीं की गई थी।

खास बात यह है कि बारातियों को इसके बारे में पहले ही जानकारी दे दी गई थी ताकि बरात घर आए तो किसी तरह का विवाद पैदा ना हो। ऐसे में बाराती भी अपने घर से भोजन करके ही आएविवाद पैदा वही दूल्हा भी घोड़ी पर सवार नहीं हुआ और ना ही किसी तरह के बैंड बाजे की व्यवस्था की गईविवाद पैदा इस दौरान एक छोटी सी जगह पर दूल्हा-दुल्हन ने निकाह कुबूल कियाविवाद पैदा

दुल्हन के पिता ने दिया खास संदेश

kota

लड़की के पिता नवाजुद्दीन ने कहा कि, समाज में ऐसे कई लोग है जो शादियों में शानो शौकत दिखाने की कोशिश करते हैं और जिसके लिए ब्याज पर भी पैसा उठा लेते हैं और सारी जिंदगी उसे चुकाते रहते हैं। और फिर बेटी का नाम लेकर कोसते रहते हैं। नवाजुद्दीन का कहना है कि, थोड़ी देर के दिखावे के लिए जिंदगी भर ब्याज चुकाना पड़ता है, इसलिए बेटी की शादी को बोझ बनाएं और बिना खर्च किए सादगी भरी शादी की जाए।

Back to top button
?>