अध्यात्म

नवरात्रि की पूजा इन सामग्रियों के बिना नहीं होती पूरी, मां को प्रसन्न करने के लिए इन्हें ले आएं घर

चेत्र नवरात्रि आज 22 मार्च से शुरू हो चुकी है। पूरा देश माता रानी की भक्ति में डूबा नजर आ रहा है। सभी भक्त माता रानी को प्रसन्न करने की कोशिश में लगे हुए हैं। कोई 9 दिनों का उपवास रख रहा है तो कोई मां की पूजा अर्चना में लगा हुआ है। कहते हैं इन दिनों मां से सच्चे मन से जो कुछ भी मांगो वह मिल जाता है। नवरात्रि में मां दुर्गा की पूजा का सबसे अधिक महत्व माना जाता है। इस पूजा में कुछ खास पूजा सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है। इस पूजा सामग्री के बिना नवरात्रि की पूजा अधूरी मानी जाती है।

पूजा के लिए

नवरात्रि की पूजा में कुमकुम, चंदन, कलावा, हल्दी, पानी वाला नारियल, अबीर, गुलाल, अक्षत, मेहंदी, इत्र, कपूर, मिठाई, पंचमेवा, फूल पांच प्रकार के फल, दीपक, शुद्ध घी इत्यादि सामग्रियों का इस्तेमाल करना चाहिए।

अखंड ज्योति के लिए

नवरात्रि में अखंड ज्योति का बड़ा महत्व होता है। इसे पूरे 9 दिनों तक जलाया जाता है। इससे माता रानी का घर में आगमन बना रहता है। इसके लिए आपको दीप, घी, तेल, मौली, रूई, अष्टदल, इत्यादि सामग्रियों की आवश्यकता होती है।

हवन के लिए

नवरात्रि में कई लोग घर में हवन भी करवाते हैं। इससे घर में नेगेटिव एनर्जी खत्म हो जाती है। घर से बुरी शक्तियों जैसे भूत प्रेत का साया भी चला जाता है। हवन के लिए आपको हवन कुंड और हवन सामग्री का पैकेट चाहिए होता है।

श्रृंगार के लिए

नवरात्रि में मां का 16 श्रृंगार भी किया जाता है। इसका अपना एक अलग महत्व होता है। इस श्रृंगार के लिए आपको बिंदी, सिंदूर, मांग टीका, झुमके, नथ, काजल, मंगलसूत्र, लाल चुनरी, लाला चूड़ी, मेहंदी, बाजूबंद, हथफूल, कमर बंद, बिछिया और पायल इत्यादि चीजों की जरूरत होती है।

कलश के लिए

नवरात्रि में माता रानी ने पास कलश स्थापना भी की जाती है। यह कलश सोना, चांदी, तांबा, कास्य, पीतल का होना चाहिए। प्लाटिक या स्टील का कलश इस्तेमाल न करें। इसके आलावा कलश के ऊपर रखने को नारियल और आम के पांच पत्ते भी लगेंगे। कलश के ऊपर कुमकुम से स्वास्तिक बनाना ना भूले।

घट स्थापना के लिए

नवरात्रि में घट स्थापना भी होती है। इसके लिए आपको भूसी, नारियल, आम या पान के पत्ते, हल्दी, कुमकुम, चंदन, अक्षत, जल, सिक्के, लाल कपड़ा, फूल, कलश, नव धन्या और मिट्टी की थाली इत्यादि की जरूरत होती है।

ये सभी सामग्रियां नवरात्रि में नियम से इस्तेमाल करें। इससे आपको माता रानी का आशिर्वाद मिलेगा। आपकी सभी मुरादें पूरी होंगी।

Back to top button
?>