समाचार

हेलिकॉप्टर क्रैश में मेजर मुस्तफा जकीउद्दीन सहित 5 जवान हुए शहीद, कुछ माह बाद होने वाली थी शादी

सियांग (अरुणाचल प्रदेश) : दिवाली से ठीक पहले एक बुरी और दुःखद खबर सामने आई है. अरुणाचल प्रदेश के सियांग में सेना का हेलिकॉप्टर रुद्र क्रैश हो गया है. शुक्रवार को हुई इस घटना में देश ने अपने 5 सपूत खो दिए है. 5 शहीद जवानों में से एक मेजर मुस्तफा जकीउद्दीन बोहरा भी थे.

मेजर मुस्तफा जकीउद्दीन बोहरा महज 27 साल के थे. वे उदयपुर के निवासी थे. पहले उनका परिवार खेरोदा में रहता था. शुक्रवार को हुए हादसे के बाद जैसे ही मुस्तफा के परिजनों को उनके शहीद होने की खबर मिली तो परिवार में मातम पसर गया. महज 27 साल की आयु में मुस्तफा जकीउद्दीन अपने देश के लिए शहीद हो गए.

arunachal pradesh helicopter crash

फोन पर दी मेजर मुस्तफा के शहीद होने की सूचना…

मेजर मुस्तफा के शहीद होने की सूचना फोन कर उनके परिजन अली अजगर को अरुणाचल प्रदेश यूनिट की ओर से दी गई. वहीं
सूचना पाने वाले अली अजगर ने इस बारे में कहा है कि अभी उन्हें सिर्फ अरुणाचल प्रदेश यूनिट की तरफ से मुस्तफा के संबंध में प्राथमिक सूचना प्रदान की गई है.

mejoir mustafa

रविवार सुबह तक पहुंच सकता है मेजर मुस्तफा का शव…

बताया जा रहा है कि मेजर मुस्तफा का शव उनके घर पर रविवार सुबह तक पहुंच सकता है. इस संबंध में अली अजगर ने जानकारी दी है. बता दें कि मुस्तफा के परिवार में उनके पिता, माता और बहन है. उनके पिता कुवैत में काम करते हैं, वहीं उनकी मां का नाम फातिमा है जबकि उनकी बहन डेंटिंस्ट है. उनका नाम अलफिया है.

जल्द होने वाली थी मुस्तफा की शादी…

mustafa

शहीद मेजर मुस्तफा जल्द एक से दो होने वाले थे. जल्द ही मुस्तफा की शादी होने वाली थी. उनकी शादी तय हो चुकी थी. मुस्तफा ने उदयपुर की फातिमा से सगाई कर ली थी और कुछ माह बाद शादी होने वाली थी. फातिमा को भी मेजर के शहीद होने की जानकारी मिल चुकी है और वे उदयपुर के लिए रवाना हो चुकी है.

अरुणाचल प्रदेश के ट्विंग क्षेत्र में पदस्थ थे मुस्तफा…

arunachal pradesh helicopter crash udaipur mejor mustafa

मुस्तफा अरुणाचल प्रदेश के ट्विंग क्षेत्र में थे पदस्थ थे. 27 वर्षीय मुस्तफा 6 साल पहले करीब 21 साल की उम्र में लेफ़्टिनेंट थे. इसके बाद उनकी पदोन्नति हुई और उन्हें कैप्टन बना दिया गया. इसके बाद शहीद को मेजर की पोस्ट मिली थी.

बता दें कि मेजर के उदयपुर स्थित घर पर परिजन और लोगों का जमावड़ा लगने लगा है. एक के बाद एक परिजन पहुंचने लगे है. हर एक आंख को मुस्तफा के शव का इंतजार है जो कि रविवार सुबह तक पहुंच सकता है.

Back to top button