बॉलीवुड

यहां पर हैं अमिताभ बच्चन का मंदिर, सुबह-शाम होती है आरती, ‘अमिताभ चालीसा’ का भी होता है पाठ

बॉलीवुड इंडस्ट्री के ‘शहंशाह’ कहे जाने वाले मशहूर एक्टर अमिताभ बच्चन को भला कौन नहीं जानता। बड़े-बूढ़ों से लेकर बच्चों तक में अमिताभ बच्चन का एक अलग क्रेज देखने को मिलता है। फैंस उनकी एक झलक देखने के लिए बेकरार रहते हैं। बता दें, 80 साल के हो चुके अमिताभ बच्चन आज भी फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हुए हैं और अपने दर्शकों का मनोरंजन कर रहे हैं। वही फैंस के बीच भी उनकी फिल्मों को लेकर एक अलग ही उत्साह देखने को मिलता है।

amitabh bachchan

कई लोग अमिताभ बच्चन को अपना गुरु मानते हैं तो कई लोग उन्हें भगवान की तरह पूजा भी करते हैं। इतना ही नहीं बल्कि कोलकाता में तो एक जगह पर अमिताभ बच्चन का मंदिर भी है जहां पर रोज सुबह शाम आरती होती है और अमिताभ बच्चन के नाम का चालीसा भी पढ़ा जाता है। तो आइए जानते हैं कोलकाता में स्थित अमिताभ बच्चन के इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें…

amitabh bachchan

कोलकाता में यहां पर स्थित है मंदिर
दरअसल, कोलकाता में अमिताभ बच्चन फैंस एसोसिएशन की ओर से यह मंदिर बनाया गया है जहां पर अमिताभ बच्चन की हाइट से भी बड़ी मूर्ति रखी गई है। बता दें, अमिताभ बच्चन का यह मंदिर कोलकाता के यहां पर बिग बी के फैंस दर्शन के लिए आते हैं। वही सुबह शाम उनके फैंस मूर्ति के सामने खड़े होकर करीब 6 मिनट की फिल्मी आरती करते हैं और साथ ही 9 पन्ने का एक अमिताभ चालीसा भी पढ़ा जाता है जिसमें अमिताभ बच्चन के जीवन में आई कठिनाइयों के बारे में लिखा गया है।

amitabh bachchan

इसके अलावा फैंस पर आए संकट को दूर करने के लिए इस मंदिर में ‘अमिताभ नम:’ मंत्र का जाप भी किया जाता है। बता दे, ना सिर्फ फैंस बल्कि विदेशी लोग भी इस मंदिर को देखने के लिए आते हैं। इस मंदिर में अमिताभ बच्चन की मूर्ति ही नहीं बल्कि फिल्म ‘अग्निपथ’ में पहने गए सफेद जूते भी रखे हुए हैं जिनकी सुबह-शाम पूजा की जाती है। अमिताभ बच्चन के जन्मदिन के खास मौके पर इस मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है जिसमें भारी संख्या में लोग पहुंचते हैं। इसके अलावा अमिताभ बच्चन के बेहतर स्वास्थ्य के लिए हवन भी करवाया जाता है।

amitabh bachchan

बिग बी से पहले होती है माता-पिता की पूजा
रिपोर्ट की मानें तो इस मंदिर में अमिताभ बच्चन की पूजा करने से पहले उनके माता-पिता की पूजा की जाती है। इसके बाद अमिताभ बच्चन की आरती उतारी जाती है। बता दे इस मंदिर को बनवाने वाले संस्थापक संजय पाटोदिया है जो इस मंदिर में आए धनराशि के माध्यम से गरीब लोगों की मदद करते हैं। वही कोरोना महामारी के दौरान भी उन्होंने गरीबों को मास्क और सैनिटाइजर वितरित किए थे।

amitabh bachchan

बता दे इस मंदिर के बारे में खुद अमिताभ बच्चन भी जानते हैं। जब उन्हें इसके बारे में पता चला था तो वह काफी भावुक हो गए थे और उन्होंने संजय पाटोदिया को चिट्ठी लिखकर कहा था कि, “मुझे इंसान ही रहने दो भगवान का दर्जा मत दो।” जब भी अमिताभ कोलकाता आते हैं तो इस मंदिर में जरूर पहुंचते हैं।

amitabh bachchan

Back to top button
?>