बॉलीवुडसमाचार

मौत के चंद घंटों पहले सोनाली फोगाट किन-किन हालातों से गुजरी? जानिये एक एक डिटेल्स

टिकटॉक स्टार और बीजेपी नेता सोनाली फोगाट (Sonali Phogat) की मौत का राज और भी गहराते जा रहा है। इस मौत की गुत्थी को सुलझाने के लिए गोवा पुलिस जांच कर रही है। ऐसे में हम आपको 22 अगस्त 2022 की रात से लेकर 23 अगस्त की सुबह तक यानि सोनाली की मौत से पहले और बाद में क्या-क्या हुआ उसकी पूरी कहानी बताने जा रहे हैं।

मौत के चंद घंटों पहले सोनाली फोगाट के साथ क्या-क्या हुआ?

22 अगस्त 2022 की दोपहर सोनाली फोगाट अपने दो साथियों सुधीर पाल और सुखविंदर सिंह संग गुरुग्राम से गोवा आई थी। यहां तीनों होटल गैंड लियोनी रिसॉर्ट में रुके। इस दौरान सुधीर और सुखविंदर ने 5 और 7 हजार रुपए देकर रिसॉर्ट के रूम ब्वॉय से एमडीएमए नाम की ड्रग्स बुलवाई। फिर सोनाली, सुधीर और सुखविंदर तीनों ने कमरे में ये ड्रग्स ली।

23 अगस्त की रात तीनों कर्लीज बीच शैक पहुंचे। इस दौरान सुधीर ने मडीएमए ड्रग्स का कुछ हिस्सा पानी की एक खाली बोतल में डाला जबकि बाकी की ड्रग्स पैंट की जेब में रख ली। कर्लीज क्लब में सुधीर ने एमडीएमए वाली खाली बोतल में पानी मिलाया और इसे तीनों पीकर डांस करने लगे।

रात ढाई बजे सोनाली की तबीयत बिगड़ने लगी। सुधीर उसे लेडीज टॉयलेट ले गया। यहां सोनाली ने उल्टियां की। फिर उसे कुछ बेहतर लगा और वह फिर से डांस करने लगी। साढ़े चार बजे सोनाली को फिर ठीक नहीं लगा। सुधीर दोबारा से लेडीज टॉयलेट ले गया। सोनाली बोली उसे नींद सी आ रही है इसलिए कुछ देर यहीं टॉयलेट में बैठेगी।

सोनाली जब बहुत देर बाहर नहीं आई तो सुधीर घबरा गया। वह समझ गया कि सोनाली ने ड्रग्स का ओवरडोज ले लिया। ऐसे में उसने अपनी ड्रग्स वाली बोतल में जेब में रखे बाकी ड्रग्स डालकर उसे टॉयलेट के फ्लश वाटर टैंक में छिपा दिया। सुबह 6 बजे तक जब सोनाली टॉयलेट से बाहर नहीं निकली तो सुधीर और सुखविंदर उसे जैसे तैसे लियोनी रिसॉर्ट वापस ले गए।

सोनाली की मौत और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट

सुबह के 8 बज गए। सोनाली की तबीयत सच में बेहद बिगड़ गई। यह देख सुधीर और सुखविंदर घबरा गए और उसे सेंट एंथोनी अस्पताल ले गए। यहां कैजुअल्टी वार्ड में जब डॉक्टर ने सोनाली को चेक किया तो उसकी नब्ज रुक चुकी थी और सांसें थम गई थी। डॉक्टर ने सोनाली को ब्रॉट डेड घोषित कर दिया।

सोनाली की मौत होते ही अस्पताल स्टाफ ने अंजुना पुलिस स्टेशन को इसकी सूचना दे दी। तब घड़ी में सुबह के 9 बजकर 22 मिनट हो रहे थे। 23 अगस्त को ही सोनाली का परिवार गोवा आता है। सोनाली का भाई रिंकू ढाका अंजुना पुलिस स्टेशन में बहन के कत्ल का दावा करता है। कातिल सुधीर और सुखविंदर को बताता है।  शिकायत पर गोवा पुलिस सोनाली की मौत पर एफआईआर दर्ज करती है।

25 अगस्त को गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) में दो डॉक्टरों की टीम सोनाली का पोस्टमार्टम करती है। केमिकल एनालिसिस, हिस्टोपैथोलॉजी और सिरोलॉजिकल रिपोर्ट्स के इंतजार के चलते डॉक्टर मौत की वजह को रिजर्व रखते हैं। हालांकि शुरुआती पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट ये सजेस्ट करती है कि सोनाली की मौत दिल का दौरा पड़ने से नहीं बल्कि ड्रग्स या ड्रग्स की ओवरडोज के चलते हुई है।

गोवा पुलिस शुरुआती पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, सुधीर और सुखविंदर के बयान, रिसॉर्ट और क्लब के सीसीटीवी फुटेज इत्यादि के आधार पर सुधीर और सुखविंदर को गिरफ्तार कर लेती है। अब उन्हें तमाम केमिकल और विसरा रिपोर्ट के आने का इंतजार होता है। पुलिस पूछताछ में सोनाली फोगाट के पीए सुधीर सांगवान और उसके साथी सुखविंदर सोनाली को मौत के कुछ घंटे पहले ड्रग्स देने की बात स्वीकार करते हैं। उनकी निशानदेही पर पुलिस ड्रग्स की बाकी बची हुई खुराक बरामद कर लेती है।

पुलिस ने पाया कि सोनाली को मेथामफेटमाइन ड्रग दी गई थी। इसका इस्तेमाल मेडिकल साइंसदिमागी बीमारियों के इलाज के लिए करता है। लेकिन कुछ लोग इसे मजे ले लिए यूज करते हैं और फंस जाते हैं। गोवा पुलिस ने इस मामले में सुधीर और सुखविंदर के अलावा ड्रग्स सप्लाई करनेवाले ड्रग पेडलर रमाकांत मांदरेकर, रिसॉर्ट के मुलाजिम दत्ता पसाद गांवकर और कर्लीज बीच सैक के मालिक एडविन न्यूंस को भी गिरफ्तार किया है।

Back to top button
?>