समाचार

चलती कार में दुल्हन ने मचाया शोर ‘मुझे बचाओ..’ पुलिस ने गाड़ी रोकी तो अंदर दिखा ऐसा नजारा

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में एक बेहद हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चलती कार से एक दुल्हन चिल्लाई ‘मुझे बचा लो.. मुझे बचा लो..’ इसके बाद ट्रैफिक पुलिस ने तुरंत मदद की और महिला को कार से बाहर निकाला। इसके बाद महिला ने जो आपबीती सुनाई वह जानकर खुद पुलिस भी दंग रह गई।

सौतेली मां ने किया 80 हजार में सौदा

महिला ने बताया कि वह कुशीनगर के पगरा हाटा की रहने वाली है। उसके पिता मानसिक रूप से बीमार हैं। मां सौतेली है। वह दुख देती है। उसने चाचा के साथ मिलकर उसे 80 हजार रुपए में बेच दिया। उसे खरीदने वाला युवक बदायूं का है। उसे पीड़िता को शादी के लिए खरीदा। वह सोमवार को लड़की की मां और चाचा को पैसे देकर पीड़िता को कार से अपने गांव ले जा रहा था। उसके साथ तीन और साथी भी थे।

पीड़िता ने बताया कि वह ये शादी नहीं करना चाहती है। जब उसने विरोध किया तो सौतेली मां ने बहुत मारा। फिर दुल्हन के कपड़े पहना और मांग में सिंदूर भरकर आरोपी युवक के साथ भेज दिया। धमकी देकर ये भी बोला कि रास्ते में कोई कुछ पूछे तो खुद को युवक की पत्नी बताना। पीड़िता ने रास्ते में भी कई बार साथ जाने से इनकार किया। लेकिन उसे कार से बाहर फेंकने की धमकी दी गई।

नकली दुल्हन बनाकर ले जा रहे थे, पुलिस ने दबोचा

फिर जब कार लखनऊ के चिनहट इलाके में देर शाम आई तो पीड़िता की नजर इंदिरा नहर पर पुलिस पर पड़ी। पुलिस को देख युवती ने शोर मचाया। बोली- मुझे बचा लो। इसके बाद र ट्रैफिक पुलिस ने अपनी गाड़ी दौड़ाई और कार को रोक लिया। जब कार का दरवाजा खुला तो आरोपी ने पीड़िता को अपनी पत्नी बताया। लेकिन युवती ने रोते बिलखते सारी सच्चाई पुलिस को बता दी।

पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। डीसीपी प्राची सिंह ने आरोपियों के नाम बदांयू के करण गौतम, उसकी मां आशा गौतम, ओम पाल और दातागंज निवासी पंचू राम शर्मा बताए। एडीसीपी सै.अली अब्बास के मुताबिक आरोपी करण और उसकी मां रविवार को पीड़िता को लेने आए थे। उन्होंने कुशीनगर में विरोध करने पर युवती की पिटाई भी की थी।

यह पूरी घटना अब सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई है। हर कोई पीड़ित युवती से सहानुभूति दिखा रहा है। साथ ही उसे बचाने वाली पुलिस की तारीफ भी कर रहा है।

Back to top button
?>