विशेष

जानिए राष्ट्रपति भवन के शाही रसोई के बारे में, जहां महामहिम और मेहमानों के लिए बनते हैं खास व्यंजन

रायसीना पहाङी पर स्थित राष्ट्रपति भवन महज एक इमारत नही है बल्कि ये हिन्दुस्तान की शान है और गणतन्त्र भारत की पहचान। वायसराय के महल के तौर पर बनी ये इमारत कभी ब्रिटीश साम्राज्य का प्रतीक था लेकिन बाद में ये भारत के राष्ट्रपति का सरकारी निवास बन गया … और आज के समय में ये विश्व का सबसे बङा सरकारी निवास स्थान है। ज़ाहिर है इस भवन के बहुत सारे खासियत होंगे पर हम आपको इसके उस हिस्से से रूबरूँ करा रहे है जिसे किसी भी घर की शोभा मानी जाती है ….. यानि रसोई.. और जब बात राष्ट्रपति भवन की शाही रसोई की हो तो शायद सभी ये जानना चाहेंगें कि …आखिर कौन बनाता है यहां का शाही खाना, कितने तरह के व्यंजन बनते होंगें और कैसे सजती होगी यहां की शाही दावत…इन सभी सवालों के जवाब हम आपको दे रहे हैं…। kitchen of rashtrapati bhawan.

कैसा है ये किचेन ?

राष्ट्रपति भवन के बेसमेंट में मेन किचन है जबकि ऊपर के फ्लोर्स पर डाइनिंग और बैंक्वेट हॉल हैं। यहां होने वाले कार्यक्रम के लिए ऑफिशियल बैन्क्वेट और भोज के लिए इस किचन में खाना बनता है। मेन किचन के अलावा यहां बेकरी, हलवाई, ट्रेनिंग एरिया, कैफेटेरिया और ग्रोसरी सेक्शन अलग-अलग हैं।

इस शाही रसोई के महाराज

राष्ट्रपति भवन के किचन में एक्जिक्यूटिव शेफ के साथ ही दर्जनों शेफ, हलवाई और कुक काम करते हैं। करीब 32 लोगों की टीम काम करती है इसमें एक्जीक्यूटिव शेफ, कुक्स, बेकर्स और हलवाई शामिल हैं। यही 32 लोग की टीम राष्ट्रपति द्वारा आयोजित आधिकारिक फंक्शन्स, मीटिंग्स, बैंक्वेट्स, रिसेप्शन और कॉन्फ्रेंस के लिए खाना बनाती है। इसके अलावा एक स्पेशल टीम होती है जो साफ-सफाई और हाइजीन का ध्यान रखती है.

भोजन की जांच के लिए विशेष एजेंसी

आधिकारिक आयोजनों में परोसे जाने वाले खाने को चेक करने के लिए बाकायदा एजेंसी है। राष्ट्रपति और मेहमानों को परोसने से पहले खाने की क्वॉलिटी और सेफ्टी एजेंसियों द्वारा चेक की जाती है।

क्या पकता है इस शाही रसोई में?

यहां वो सब चीजें बनती हैं जो राष्ट्रपति को पसंद होती हैं, लेकिन मुर्ग दरबारी, गोश्त यखनी, दाल रायसीना, कोफ्ता आलू बुखारा जैसे कुछ पकवान राष्ट्रपति भवन के किचन के खास पकवानों में से हैं।

शाही रसोई का शाही मेन्यू

भोज की तैयारी 6 घंटे पहले से होने लगती है. हर ओकेजन के लिए अलग से मेन्यू कार्ड प्रिंट होता है. क्रॉकरी में राष्ट्रीय चिंह अंकित होता है.

शाही रसोई की शाही दावत

आधिकारिक भोज में सूप, वेज और नॉन-वेज डिशेज के साथ स्वीट डिशेज सर्व की जाती हैं. इसके बाद चाय-कॉफी और सबसे आखिर में पान व माउथ फ्रेशनर्स सर्व किए जाते हैं।

Related Articles

Close