दिलचस्प

बेटे का किया अंतिम संस्कार, 24 घंटे बाद ही जिंदा नजर आया, देखकर चकरा गया परिवार

आपने कभी सुना है कि किसी का अंतिम संस्कार कर दिया गया हो। इसके सिर्फ 24 घंटे बाद ही वो इंसान जीवित घर में खड़ा मिल जाए। आप यकीनन इसे कोरी बकवास कहेंगे लेकिन ये हकीकत हो गया है। जी हां मध्य प्रदेश से ऐसी ही एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है जो चर्चा में आ गई है।

यहां एक परिवार के बेटे की मौत हो गई थी। उस परिवार ने बेटे का अंतिम संस्कार कर दिया। घर में गम का माहौल था कि 24 घंटे बाद ही बेटा घर पर जिंदा मिला। घरवाले अपने बेटे को दोबारा देखकर हैरान रह गए। उनको समझ में ही नहीं आ रहा था कि ये क्या हो रहा है। उनका बेटा वापस कैसे आ गया।

ग्वालियर जिले से सामने आया मामला

ये हैरानी भरा मामला ग्वालियर जिले से सामने आया है। यहां इंदर गंज इलाका है। इस इलाके में नौगजा रोड पर रोहित कुशवाहा अपने परिवार के साथ रहता है। वो दिव्यांग है, ऐसे में घरवालों को उसकी देखरेख करनी होती है। रोहित रोज की तरह ही कुछ दिन पहले घर से निकला था लेकिन वापस नहीं लौटा।

उसकी रात देखते-देखते घरवालों को 10 दिन बीत गए। इसके बाद भी बेटा नहीं आया तो सबको चिंता होने लगी। घरवालों ने पता लगाया कि वो कहां है तो कोई जानकारी नहीं हुई। इसके बाद पूरे इलाके में खोजबीन शुरू की गई। तब भी उसका सुराग नहीं लग सका। अचानक एक खबर ने सबका दिल तोड़ दिया।

विकलांग युवक का शव पड़ा मिला

लोग खोजबीन कर रहे थे कि अचानक परिवार वालों को खबर मिली कि महाराज बाड़ा के पास स्थित छतरी पार्क में किसी दिव्यांग लड़के का शव पड़ा हुआ मिला है। खबर के बाद परिवार वहां पहुंचा और शव देखकर उसकी पहचान भी कर ली। परिवार ने कहा कि ये उनके बेटे रोहित का ही शव है।

इसके बाद शव का पोस्टमार्टम किया गया। फिर परिवार उसके शव को लेकर घर चले आया। बेटे की मौत की खबर से पूरे घर में मातम छा गया। सब रोने-पीटने लगे। वहीं परिवार वालों ने बेटे के शव का अंतिम संस्कार कर दिया। इसके बाद सब घर में मौजूद थे और पूरे घर में गम का माहौल फैला हुआ था कि अजीब घटना हो गई।

जिंदा मिला रोहित

बेटे के अंतिम संस्कार को बस 24 घंटे ही बीते थे। घर में सब गमगीन थे और रो रहे थे। अपने बेटे की मौत का गम सबको खाए जा रहा था। अचानक किसी ने सूचना दी कि उनका बेटा तो ससुराल में है। इतना सुनने के बाद पिता घनश्याम जब ससुराल पहुंचे तो उनका बेटा रोहित वहां जिंदा खड़ा मिला।

बेटे को जिंदा देखते ही वो चौंक गए। उनको समझ में ही नहीं आया कि जिसका अंतिम संस्कार किया था वो कौन था। बाद में पुलिस ने पूछताछ की तो रोहित ने बताया कि वो कुछ दिन पहले मंदिर गया था। फिर वो यहीं पर अपनी ससुराल में रुक गया था। पुलिस भी सोच में पड़ गई है कि जिसका अंतिम संस्कार किया फिर वो कौन था।

Back to top button