दिलचस्प

ऑस्ट्रेलिया की दुल्हन और बिहार का दूल्हा, दिलचस्प है दोनों की Love Story, जानें कैसे हुआ प्यार?

कहते हैं मोहब्बत तो किसी से भी हो सकती है। फिर उसका रंग कैसा भी हो, वो किसी भी देश या धर्म का हो। बस सच्चा प्यार करने वाला साथी होना चाहिए। किसी को अपना साथी घर के बगल में ही मिल जाता है तो कोई विदेश में अपने साथी से मिल पाता है। कुछ ऐसा ही बिहार के युवक के साथ हुआ।

बिहार का युवक ऑस्ट्रेलिया पढ़ने गया था। उसे क्या पता था कि वहां उसका इंतजार वो लड़की कर रही है जो उसकी जीवनसाथी बन जाएगी। जी हां बिहारी युवक और वहां पढ़ने वाली एक लड़की के बीच दोस्ती हो गई। लड़की उसे अपना दिल दे बैठी और शादी के लिए प्रपोज कर दिया। जानें फिर लव स्टोरी में क्या हुआ।

बस्कर का युवक पहुंचा ऑस्ट्रेलिया

बिहार के युवक और ऑस्ट्रेलिया की युवती की प्रेम कहानी भी दिलचस्प है। बिहार के बक्सर जिले में रहने वाले जय प्रकाश यादव ने उच्च शिक्षा विदेश में लेने का फैसला किया। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया जाने का मन बनाया। साल 2019 में वो घर वालों की रजामंदी से वहां पहुंच भी गए। वहां कॉलेज में ऑस्ट्रेलिया मेलबर्न की लड़की विक्टोरिया भी पढ़ती थी।

दोनों की पहली मुलाकात कॉलेज में हुई। इसके बाद दोनों के बीच दोस्ती हो गई। अब ये दोस्ती धीरे-धीरे मोहब्बत में बदल गई, उन दोनों को भी पता नहीं लगा। एक पल ऐसा भी आया जब लड़की को लगा कि वो जय प्रकाश के बिना नहीं रह सकेगी। इसीलिए उसने जय को शादी के लिए प्रपोज कर दिया।

शादी के लिए परिवार संग पहुंच गई भारत

विक्टोरिया ने जय को शादी के लिए प्रपोज किया तो मानो युवक की मुराद पूरी हो गई। उन्होंने भी फौरन हां में जवाब दे दिया। हालांकि अभी दोनों को अपने-अपने परिवार की रजामंदी भी लेनी जरूरी थी। जय ने अपने पिता नंदलाल से बात की तो उन्होंने हां कर दी। वहीं विक्टोरिया के परिवार वालों को भी कोई ऐतराज नहीं था।

इसके बाद विक्टोरिया ने भारत आने का फैसला किया। उसने अपने पापा स्टीवन टॉकेट और मां अमेंटा टॉकेट को साथ आने को कहा। तीनों लोग बिहार चले आए। यहां पर मैरिज हॉल में धूमधाम से दोनों की शादी हो गई। ये शादी हिन्दू रीतिरिवाज से हुई जो इटाही प्रखंड के कुकुढ़ा गांव में चर्चा का विषय बनी हुई है।

विदेशियों को भा गई देसी रस्में

जय साल 2019 से 2021 तक ऑस्ट्रेलिया में पढ़े थे। अब वो MS सिविल इंजीनियर की नौकरी कर रहे हैं। वहीं शादी को हिन्दी रीति रिवाज से करने पर विक्टोरिया काफी खुश नजर आ रही थी। उसके हाथों में मेंहदी रचाई गई, पैरों में महावर लगाया गया जिनको देखकर वो काफी प्रसन्न हो गई। पूरी शादी की रस्मों को वो निभाती हुई नजर आई।

वहीं विक्टोरिया के माता-पिता को भी हिन्दू रीति रिवाज काफी पसंद आए। पिता ने बेटी के हाथों में मेंहदी देखी तो खुशी के मारे चहक उठे। उन्होंने कन्यादान की रस्म भी निभाई। वो बोले कि अपनी लड़की के ससुराल आकर उनको काफी खुशी महसूस हो रही है। उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं दामाद और बेटी दोनों पूरी जिन्दगी खुश रहें।

Back to top button
?>