अध्यात्म

सावधान: हनुमान जयंती पर ये 7 गलतियां पड़ सकती है भारी, झेलना पड़ेगा बजरंगबली का प्रकोप

कहते हैं हनुमानजी अपने भक्तों के सभी दुख-दर्द दूर कर देते हैं। उन्हें एक बार बस प्रसन्न करने की देरी है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हनुमानजी की कृपा जितनी अच्छी है, उनका गुस्सा उतना ही खतरनाक है। उन्हें कभी नाराज नहीं करना चाहिए। हनुमान पूजा-पाठ को लेकर कुछ नियम कायदे होते हैं। हमें उनका पालन करना चाहिए। खासकर मंगलवार, शनिवार और हनुमान जयंती पर कुछ खास गलतियां करने से बचना चाहिए।

हिंदू धर्म में हर साल चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर हनुमान जयंती मनाई जाती है। इस बार हनुमान जयंती 16 अप्रैल 2022 को या रही है। ऐसे में भक्त बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए बहुत कुछ करेंगे। लेकिन इस दिन कुछ खास गलतियों को करने से भी बचे। वरना फायदे की बजाय नुकसान हो जाएगा।

हनुमान जयंती पर न करें ये गलतियां

1. हनुमानजी की पूजा-पाठ में चरणामृत का उपयोग नहीं किया जाता है। हालांकि बहुत कम लोग ही ये बात जानते हैं। वे हनुमान पूजा में इसका प्रयोग करते हैं। जो कि गलत है। हनुमान जयंती पर भी आपको इस बात का ध्यान रखना है।

2. हनुमान जयंती का व्रत रख रहे हैं तो नमक खाने से बचे। इसके अलावा इस दिन जिन खाने की चीजों का दान कर रहे हैं उसका सेवन भी न करें। यह चीज मंगलवार के व्रत पर भी लागू होती है।

3. यदि घर में सूतक हो तो कभी भी हनुमानजी की पूजा नहीं करनी चाहिए। सूतक तब लगता है जब परिवार में किसी का निधन हो जाता है। यह सूतक व्यक्ति की मृत्यु से 13 दिन तक रहता है।

4. हनुमान जयंती पर भगवान की पूजा करने बैठे तो काले या सफेद रंग के कपड़े न पहनें। ये अशुभ होता है। आप चाहे तो लाल या पीले रंग के कपड़े पहन सकते हैं।

5. घर या मंदिर में हनुमानजी की कोई खंडित मूर्ति हो तो उसकी पूजा करने से हर हाल में बचे। इस पूजा का फल नहीं मिलता है। उल्टा नुकसान होता है। खंडित मूर्ति को नदी में ठंडा कर देना चाहिए।

6. हनुमान जयंती वाले दिन घर में शांति बनाए रखें। भगवान को सकारात्मक माहौल पसंद होता है। लड़ाई-झगड़ा न करें। इससे नेगेटिव माहौल रहेगा और आप भगवान का गुस्सा देखेंगे।

7. हनुमान जयंती वाले दिन भूलकर भी दिन में न सोए। इससे भगवान नाराज हो सकते हैं। वहीं इस दिन हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें। इससे आपको लाभ होगा।

Back to top button