रिलेशनशिप्स

फ्रेंडशिप डे पर खास: दोस्ती के मायने भूलते जा रहे हैं लोग, जानें क्यों!

दोस्ती एक बहुत ही खुबसूरत शब्द है। जितना खुबसूरत यह शब्द है, उससे भी कहीं ज्यादा खुबसूरत यह रिश्ता होता है। दोस्ती ही एक ऐसा रिश्ता है, जिसे हम अपनी मर्जी से चुनते हैं। और सभी रिश्तों की तरह यह रिश्ते हमें विरासत में नहीं मिलते हैं। हम अपनी पसंद के दोस्त चुनने के लिए स्वतंत्र होते हैं। जो जिस तरह का होता है, वह अपने लिए उसी तरह के दोस्त भी बनाता है।

अक्सर दी जाती है लोगों के दोस्ती की मिशाल:

दोस्ती के बारे में जितना कहा जाए सब कम है। दोस्ती करने से पहले हम यह देखते हैं कि सामने वाले का स्वाभाव कैसा है? उसकी आदतें कैसी हैं? कुछ आदतें आपसे मिलती हैं या नहीं। जब सबकुछ एक जैसा होता है तब हम लोगों को अपना दोस्त बना लेते हैं। यह बहुत ही अजीब सा अहसास होता है। अक्सर लोग किसी ना किसी व्यक्ति के दोस्ती की मिशाल देते हुए दिख ही जाते हैं।

उन लोगों की दोस्ती लाखों में एक होती है। कई लोग अपने दोस्ती के लिए अपनी जान भी कुर्बान कर देते हैं। अक्सर फिल्मों में हमने ऐसा देखा होगा। लेकिन ज़नाब केवल फिल्मों में ही नहीं ऐसा असल जिंदगी में भी होता है। हालांकि आजकल बहुत कम देखने को मिल रहा है। आज के समय में लोग मतलबी होते जा रहे हैं। इस वजह से लोफ जहाँ फायदा दिखता है, वहीँ दोस्ती करते हैं।

प्यार और समर्पण ही बनाये रखती है दोस्ती को मजबूत:

दोस्ती के रिश्ते को कई लोगों ने शर्मसार भी किया है। आज के समय में लोग दोस्त बनाने से पहले कई बार सोचते हैं कि कहीं उन्हें दोस्ती करना भारी ना पड़ जाए। आज का समय पैसे का समय है और लोग पैसे कमाने के चक्कर में इस रिश्ते की मर्यादा को ताक पर रखने में जरा भी देर नहीं लगाते हैं। कई ऐसे उदहारण हमारे सामने आ चुके हैं, जिसमें करीबी दोस्त ने ऐसा कुछ कर दिया, जो शायद जल्दी दुश्मन भी ना करे।

लेकिन सच्चाई यह भी है कि दुनिया के सभी लोग एक जैसे नहीं होते हैं। आज भी कई लोग ऐसे हैं जो दोस्ती के लिए जान तो नहीं लेकिन दोस्ती की कद्र करते हैं। हर मुश्किल समय में अपने दोस्त के साथ खड़े रहते हैं। हम आशा करते हैं कि यह फ्रेंडशिप डे आपके लिए बहुत ख़ास हो और आपको अपने दोस्तों से खूब सारा प्यार मिले। साथ में आप भी उन्हें प्यार और इज्जत देते रहें। यही आपकी दोस्ती को बनाये रखने में मदद करती है।

Related Articles

Close