जानें आज का गुडलक: सफलता के साथ प्रसिद्धि पाने के लिए करें यह काम!

आज सावन का आखिरी रविवार है और आज के दिन रविवारीय श्रावण शुक्ल चतुर्दशी है। धार्मिक ग्रंथों के हिसाब से सावन के महीने में रविवार और चतुर्दशी का बहुत ज्यादा महत्व होता है। सावन के महीने में सूर्यदेव चन्द्रमा की राशि में भ्रमण करते हैं। चंद्रमा जल का संबोधन करता है। भगवान शंकर के तीनों नेत्र सूर्य, अग्नि और चंद्रमा को कहा जाता है।

सूर्य मंत्र के जाप से हो जायेंगी सभी मनोकामनाएं सिद्ध:

हिन्दू धर्मंशास्त्रों में सावन के रविवार को सूर्य पूजा का विधान है। इस दिन जो भी व्यक्ति सूर्यदेव की विशेष पूजा-उपासना करता है, उसे जीवन में तरक्की और यश की प्राप्ति होती है। अगर आप किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने की कोशिश कर रहे हैं और आपको सफलता नहीं मिल रही है तो चिंता की कोई बात नहीं है। आप सूर्य मन्त्र के जाप से अपने सभी कामनाओं की सिद्धि कर सकते हैं। सावन के रविवार को सूर्य उपासना करने से त्वचा सम्बन्धी रोगों से भी मुक्ति मिल जाती है।

108 बार करें सूर्य मंत्र का जाप:

ऐसे करें सूर्य पूजा: पूरब दिशा की तरफ मुँह करके खड़े हो जाएँ और सूर्य नमस्कार करें। घी का दीपक जलाएं और चमेली की अगरबत्ती दिखाएँ। लाल कनेर का फूल चढ़ाकर सूर्यदेव को गुड़ का भोग लगायें। जल में कुमकुम मिलाकर सूर्यदेव को अर्घ्य दें। इस विशेष मंत्र का 108 बार जाप करने से जीवन के सभी दुःख दूर हो जाते हैं।

मंत्र:

ह्रीं सूर्याय सर्वभूतानां शिवायार्तिहराय च. वेदादिमूर्तये नमः॥

शुभ मुहूर्त:

प्रातः 06:36 से प्रातः 08:15 तक।

अभिजीत मुहूर्त:

दिन 12:00 से 12:53 तक।

अमृत काल:

शाम 18:48 से रात 20:32 तक।

यात्रा के लिए महूर्त:

दिशाशूल:

पश्चिम। राहुकाल वास – उत्तर। अतः आज पश्चिम व उत्तर दिशा की यात्रा टालें।

शुभ रंग:

लाल।

शुभ दिशा:

पूर्व।

शुभ समय:

शाम 15:48 से शाम 16:30 तक।

शुभ मंत्र:

ॐ सूर्याय पद्मप्रबोधाय नमः॥

शुभ टिप्स:

त्वचा संबंधी रोगों से मुक्ति पाने के लिए प्रातः काल सूर्य देव को चमेली के तेल का दीपक करें।

एनिवर्सरी के लिए शुभ:

अगर पति-पत्नी में विवाद ज्यादा होते हैं तो दंपत्ति देवी के मंदिर में लड्डू के ऊपर लौंग लगाकर चढ़ाये, इससे आपसी प्रेम में वृध्ही होगी।

जन्मदिन के लिए शुभ:

अगर आप किसी इंटरव्यू में जा रहे हैं और सफल होना चाहते हैं तोतांबे के लोटे पर लाल चंदन से “ह्रीं” लिखकर किसी मंदिर में दान करें।