समाचार

अरे! आप शराब खरीदने आए हैं, लीजिए-लीजिए ‘लाल गुलाब’…सुनकर बिना पीये ही चकराए शराबी

अरे! आप शराब खरीदने आए हैं, लीजिए गुलाब का फूल। शराब के शौकीन लोगों को शराब की बोतल के साथ लाल गुलाब का फूल भी मिल रहा है। इस लाइन को पढ़कर आप भी हैरान हो रहे होंगे। अब अगर हम ये बतायें कि लाल गुलाब का फूल उनको महिलाएं दे रही हैं, तब तो आपके आश्चर्य का ठिकाना ही नहीं रहेगा। आप भी सोचेंगे कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है।

समाज में शराब पीने वालों को अच्छी नजर से नहीं देखा जाता है। खासकर महिलाएं तो शराबियों से नफरत करती हैं। फिर आखिर ऐसा क्या हुआ कि इस राज्य में शराब लेने के लिए आने वाले लोगों को महिलाएं लाल गुलाब का फूल दे रही है। अगर आपको भी इसकी वजह नहीं समझ में आ रही है तो चलिए हम बता देते हैं।

छत्तीसगढ़ का है मामला

शराबियों को महिलाएं लाल गुलाब का फूल दे रही हैं। ये मामला सुनने में भले ही अजीब लगे लेकिन हकीकत है। छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले की महिलाओं ने ऐसा काम किया है। उन्होंने शराब की दुकान में आने वाले शराबियों को गुलाब का फूल भेंट किया। गुलाब का रंग भी लाल था जिसको देखकर शराबी भी हैरान से दिखे।

शराब की दुकान में आम दिन की तरह ही लोग आ रहे थे और शराब ले रहे थे। बस एक चीज अलग हो रही थी और वो चीज थी लाल गुलाब का फूल जो महिलाएं अपने हाथों में लिए हुए थी। जैसे ही कोई शराबी दिखता, फौरन महिलाएं उसके पास जातीं और लाल गुलाब का फूल उनको भेंट कर देती।

अब जानिए गुलाब देने की वजह

अब हम आपको गुलाब देने की वजह बताते हैं। असल में कोरबा जिसे के बालको मुख्यमार्ग में एक शराब की दुकान है। इस दुकान का स्थानीय महिलाएं विरोध कर रही हैं। वो शराब की दुकान यहां से हटाने के लिए धरना भी दे रही हैं। इसी वजह से उन्होंने नायाब तरीका निकाला और शराबियों को विरोध स्वरूप लाल गुलाब भेंट किया।

दरअसल महिलाओं ने विरोध के लिए गांधीगीरी का रास्ता चुना। मंगलवार को यहां महिलाओं का बेमियादी धरना शुरू हो गया। इसका नेतृत्व पार्षद चंद्रलोक सिंह कर रहे हैं। गांधीगीरी कर रही महिलाओं ने हिंसक रास्ता न चुनते हुए शराब खरीदने के लिए आने वाले लोगों को लाल गुलाब का फूल देना शुरू कर दिया।

छेड़खानी की घटनाएं बढ़ीं

महिलाओं का विरोध ऐसे ही नहीं हो रहा है। दरअसल वो अपनी और अपनी बेटियों की सुरक्षा के लिए चिन्तित हो गई हैं। उनका कहना है कि जब से यहां पर शराब की दुकान खुली है, तभी से छेड़खानी की घटनाएं भी बढ़ने लगी हैं। उनका कहना है कि इस बारे में कई बार प्रशासन को भी बता दिया गया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

विरोध कर रहीं महिलाओं का कहना है कि शराबियों का हंगामा यहां रोज की बात हो गई है। वे यहां शराब पीते हैं और उनकी बेटियों और महिलाओं को छेड़ते हैं। औरतों ने कहा कि जब किसी ने हमारी बात नहीं सुनी तो उन लोगों ने खुद ही ये तरीका निकाल लिया। अब वे शराब पीने वालों को गुलाब देकर यहां से शराब न खरीदने की अपील कर समर्थन मांग रही हैं।

Back to top button