समाचार

नीले आलू उगाकर मालामाल हुआ किसान, बताया सामान्य आलू की तुलना में कितना फायदेमंद है नीलकंठ

आलू एक ऐसी सब्जी है जो लगभग हर किसी की फेवरेट होती है। यह भारतीय व्यंजनों का खास पकवान होता है। इसे कई दूसरी सब्जियों के साथ मिलाकर भी बनाया जाता है। आमतौर पर आलू भूरे रंग के होते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे किसान से मिलाने जा रहे हैं जो अपने खेत में नीले रंग के आलू उगा रहा है। उसने इन आलुओं को नीलकंठ नाम दिया है। तो चलिए जानते हैं कि आखिर इस नीले आलू में ऐसा क्या खास है।

किसान ने उगाया नीला आलू

यह नीले आलू को उगाने का कारनामा मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के खजूरी कला गांव के एक किसान मिश्रीलाल राजपूत ने किया है। उन्होंने अपने खेत में नीले रंग का आलू उगाकर सभी को चौंका दिया है। ‘नीलकंठ’ नाम का यह आलू बाहर से भले नीला हो, लेकिन अंदर से सामान्य आलू जैसा ही दिखता है।

ये है नीले आलू की खासियत

नीले रंग का ये आलू सिर्फ दिखने में ही सुंदर नहीं है, बल्कि इसके कई हेल्थ बेनीफिट्स भी हैं। इस आलू में एंटी ऑक्सीडेंट अधिक मात्रा में होता है। इससे ये सेहत के लिए ज्यादा लाभकारी होता है। वहीं स्वाद में भी ये सामान्य आलू से ज्यादा टैस्टी होता है। इतना ही नहीं एक आम आलू की तुलना में ये पकता भी जल्दी है।

नीलकंठ किस्म के इस 100 ग्राम आलू में एंथेसायनिन तत्व की मात्रा 100 माइक्रोग्राम होती है। वहीं कैटोटिनायडस की मात्रा 300 माइक्रोग्राम तक जाती है। बताते चलें कि आम आलू में एंथेसायनिन 15 माइक्रोग्राम तक जबकि कैटोटिनायडस 70 माइक्रोग्राम तक होता है। इन तत्वों को आम भाषा में एंटी ऑक्सीडेंट कहते हैं। एंटी ऑक्सीडेंट से शरीर में हानिकारक तत्व के अपाच्य तत्वों को खत्म करने में मदद मिलती है। इससे पाचन क्रिया अच्छी होती है।

फिलहाल बाजार से नहीं खरीद पाएंगे

मिश्रीलाल फिलहाल इस नीले आलू को बाजार में नहीं उतारने वाले हैं। अभी उनका मकसद प्रचुर मात्रा में इसके बीच एकत्रित करना है। इससे वे विधिवत खेती करके इस आलू को बाजार में बेच सकेंगे। किसान मिश्रीलाल आलू की इस किस्म को केंद्रीय आलू अनुसंधान संस्थान शिमला से लाए थे।

लाल भिंडी भी उगा चुके हैं मिश्रीलाल राजपूत

मिश्रीलाल राजपूत भोपाल के खजूरी कला गांव के रहने वाले हैं। वे एक उन्नत किसान हैं। आए दिन खेती में नए नए प्रयोग करते रहते हैं। इसके पहले उन्होंने लाल भिंडी की पैदावार कर सभी को हैरान कर दिया था। किसान मिश्रीलाल राजपूत को मध्य प्रदेश सरकार कृषि विभूषण पुरस्कार से भी सम्मानित कर चुकी है।

Back to top button