सावधान : इस वजह से बाज़ार से गायब हो रहे हैं 2000 के नोट, और आप समझ रहे हैं की ..

नई दिल्ली – अगर आपने महसूस किया हो तो पिछले कुछ समय से बाज़ार में 2000 रुपए के नोट की काफी कमी होती जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैंकर्स और एटीएम ऑपरेटर्स भी इस तरह की शिकायत कर रहे हैं बाज़ार में 2000 के नोट की काफी कमी हो गई है। इस बारे में कहा जा रहा है कि इसके पीछे सरकार की सोची-समझी रणनीति है। दरअसल, मोदी सरकार चाहती है कि उच्‍च मूल्‍य यानी हाई वैल्‍यू के नोट धीरे-धीरे इकोनॉमी से बाहर हो जाएं। जिससे आतंकियों गतिविधियों और नकली नोट जैसे मामलों को रोका जा सके। Rbi will not print rs 2000 notes.

बाजार में कम हो रहे हैं हाई वैल्‍यू के नोट्स :

PM Modi address nation

बाजार में कम वैल्‍यू के नोटों की संख्‍या लगातार बढ़ रही है तो हाई वैल्यू के नोटों कि संख्या लगातार कम हो रही है। आकड़ों के मुताबिक, मई में 100 रुपए और उससे कम के नोट्स की वैल्‍यू 4 लाख करोड़ रुपए से अधिक थी, जबकि नोटबंदी के पहले ये लगभग 2.5 लाख करोड़ रुपए थी।

इसी तरह नवंबर में बाजार में 500 रुपए के नोट 8.1 लाख करोड़ रुपए मूल्‍य के थे, जो कम होकर मई में 4.1 लाख करोड़ रुपए के रह गए। इसी तरह 2000 रुपए के नोट भी कम होकर मई में 5.5 लाख करोड़ रुपए बचे हैं।

 आरबीआई नहीं छापेगा 2000 रुपए के ज्यादा नोट :

आरबीआई ने हाल ही में सरकार से 2000 रुपए के नोट छापने की मांग कि थी, जिसे सरकार ने खारिज कर दिया है। जानकारी के अनुसार, सरकार ने 2000 के ज्यादा नोट न छापने का निर्णय लिया है। सरकार ने 2000 के और 100 करोड़ नोट छापने की आरबीआई की मांग को ठुकरा दिया है।

दरअसल, सरकार 2,000 रुपए के नोट को और बढ़ावा नहीं देना चाहती। 11 अप्रैल को नोटों की छपाई के लिए एक मिटिंग हुई थी, जहां रिजर्व बैंक ने 2,000 रुपए के सौ करोड़ नोट छापने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन सरकार ने इस प्रस्ताव को नामंजूर कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.