समाचार

10 साल पहले लापता हुई जिस लड़की को 17 अफसर मृत मान चुके थे, उसे ढूढ़ने निकला DSP आशीष पटेल ने

घरवालों को लगता था की बेटी को मगरमच्छ ने खा लिया, लेकिन 10 साल बाद वो मिली इस हाल में

झाबुआ (एमपी)! अक़्सर आपने कई जांबाज़ अफसरों की कहानियां सुनी होगी। जो अपने काम की बदौलत जनता के दिलों में अपनी जगह बना लेते हैं। जी हां ऐसे ही एक अधिकारी हैं आशीष टीआर पटेल। जोकि मध्यप्रदेश में सेवारत हैं और इन्होंने एक ऐसा काम कर दिखाया है। जिसे करने में मध्य प्रदेश पुलिस के डीएसपी रैंक के 17 अफसर फेल रहें। अब आप सोचें कि आख़िर इन्होंने ऐसा क्या कर दिया। जो सूबे के 17 अधिकारी नहीं पर पाए। तो आइए जानते हैं पूरी कहानी को विस्तार से…

Ashish Patel DSP

Ashish Patel DSP

गौरतलब हो कि डीएसपी आशीष पटेल ने एक ऐसी महिला को खोज निकाला है, जिसे पूरा परिवार बीते 10 साल से मृत मान चुका था। इतना ही नहीं बड़ी बात यह है कि इस मामले में मध्य प्रदेश के करीब डेढ़ दर्जन पुलिस अफसर भी इस केस में यही मानकर बैठ गए थे, लेकिन आशीष टीआर पटेल ने इन सभी के विचारों को पलट दिया और जिसे सब मृत मान चुके थे, उस महिला को ढूढ़ने में ये सफल रहें।

Ashish Patel DSP

बता दें कि मीडिया से मुखातिब होते हुए डीएसपी (DSP) आशीष पटेल ने इस विषय में बताया कि जब वे 18 वें जांच अधिकारी के रूप आएं तो उन्होंने इस मामले को एक चुनौती के रूप में देखा। इसके अलावा उन्होंने कहा कि उनका यही नजरिया काम आया और उन्होंने उस 27 साल की महिला को ढूंढ लिया जो 17 साल की उम्र में लापता हुई थी।

Ashish Patel DSP

उल्लेखनीय बात यह है कि यह पूरा मामला मध्य प्रदेश जिले के झाबुआ जिले के पेटलावद विकासखंड के रेला कोटड़ा गांव का है और इसी गांव के कालू मोरी की बेटी संतोषी मोरी मई 2011 में 17 साल की उम्र में अचानक लापता हो गई थी। वहीं परिजनों ने अपने स्तर पर बेटी की खूब तलाश की और जब कोई सुराग नहीं मिला तो उन्होंने झाबुआ जिले के पेटलावद पुलिस थाने में उसकी गुमशुदगी रिपोर्ट लिखवाई।

Ashish Patel DSP

मालूम हो कि साल 2011 में कालू मोरी की बेटी संतोषी मोरी किसी बात से घर वालो से नाराज चल रही थी और उसने तालाब पर नहाने जाने की बात कही थी, लेकिन उसके बाद से ही वह घर नहीं लौटी। ऐसे में परिजनों व पुलिस ने उसकी खूब तलाश की। फिर परिजन ये मान बैठे थे कि उनकी बेटी को तालाब में मगरमच्छ खा गया होगा और परिजनों के साथ-साथ ग्रामीण भी उसे मृत मान चुके थे।

Ashish Patel DSP

वहीं जब झाबुआ में महिला सुरक्षा सेल के डीएसपी पद पर आशीष पटेल की पोस्टिंग हुई। तब तक संतोषी मोरी का लापता केस लगभग बंद हो चुका था, लेकिन फिर भी झाबुआ एसपी ने डीएसपी आशीष पटेल को यह केस सौंपा और डीएसपी पटेल ने नए सिरे से खोजबीन शुरू की।

वहीं मालूम हो कि उप पुलिस अधीक्षक आशीष पटेल कहते हैं कि संतोषी मोरी केस की जांच में उन्हें कई मनोवैज्ञानिक चुनौतियां का भी सामना करना था, क्योंकि यह मामला आदिवासी समुदाय से है और इस समुदाय में एक प्रथा यह है कि लड़की की शादी के वक्त दूल्हे पक्ष से दुल्हन पक्ष पैसे लेता है। ऐसे में ये भी आशंका थी कि कहीं उसे पैसे के लालच में बेच तो नहीं दिया गया।

Ashish Patel DSP

ऐसे में कई एंगल को दिमाग में करते हुए डीएसपी आशीष पटेल की टीम ने संतोषी के परिजनों के अलावा ग्रामीणों से औचक बयान लेने शुरू किए और कड़ी से कड़ी जोड़ी। फिर इसी बीच झाबुओ से गुजरने वाली ट्रेनों में इस समुदाय के सफर का भी इतिहास खंगाला गया। इतना ही नहीं इसी बीच परिजनों से बातचीत में यह तथ्य निकलकर आया कि वे पहले मजदूरी करने भोपाल जाया करते थे और इसी आधार पर पूर्व के जांच अधिकारी भी भोपाल आकर जांच कर चुके थे, लेकिन एक बार फिर डीएसपी व उनकी टीम ने भोपाल में जाकर संभावित जगहों पर तलाश करने की ठानी।

Ashish Patel DSP

इसी को लेकर आगे डीएसपी आशीष पटेल बताते हैं कि पूर्व के जांच अधिकारियों की तरह हम खाली हाथ नहीं लौटना चाहते थे। इसलिए हमने संतोषी को ढूंढ़ने के लिए भोपाल में कुछ नई ​जगहों को भी शामिल किया और हमारी टीम संतोषी की तलाश करते हुए भोपाल की लालघाटी क्षेत्र पहुंची। वहां पर एक जगह आदिवासी समुदाय जैसे कपड़े देख खोजबीन शुरू की और उसी आधार पर संतोषी के मिलने की उम्मीद जगी।

Ashish Patel DSP

फिर इसके बाद डीएसपी पटेल की टीम ने सादी वर्दी पहन बैंककर्मी बनकर उस घर में गए। जहां से संतोषी के मिलने की उम्मीद थी और वहां जाकर टीम ने कहा कि वे बैंक से आए हैं और संतोष मोरी के नाम से कुछ पैसे देने हैं। इसलिए पहचान के दस्तावेज उपलब्ध करवाने होंगे। फिर ऐसे में संतोषी की पहचान हुई और संतोषी ने बताया कि वह ट्रेन से 10 साल पहले भोपाल आई थी और फिर यही मजदूरी करते हुए शादी कर ली थी।

Back to top button