समाचार

मोदी की तारीफ़ करते भावुक हुए पूर्व PM देवेगौड़ा, कहा- जिसका मैंने इतना विरोध किया उसका व्यवहार.’

मोदी मेरा हाथ पकड़कर मुझे अंदर ले गए. यह व्यवहार उस व्यक्ति के लिए था, जिसने उनका इतना विरोध किया था.

नई दिल्ली : पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवेगौड़ा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जमकर सराहना की है. उन्होंने बताया है कि पीएम मोदी का उनकी नज़रों में सम्मान और भी बढ़ गया. यह उस समय हुआ जब उन्होंने लोकसभा से इस्तीफा देने की उनकी इच्छा ठुकरा दी थी. साल 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान देवेगौड़ा ने पीएम मोदी को भाजपा के अकेले दम पर चुनाव जीतने की चुनौती दी थी.

pm modi hd devegowda

देवेगौड़ा ने साल 2014 के समय पीएम मोदी को चुनौती देते हुए कहा था कि अगर भाजपा अकेले 276 सीटें जीत जाएगी तो वे लोकसभा से इस्तीफा दे देंगे. बाद में जब परिणाम आए तो देवेगौड़ा हक्के-बक्के रह गए. क्योंकि जो चुनौती उन्होंने पीएम मोदी को दी थी उससे पीएम पार पा गए थे. ऐसे में देवेगौड़ा अपने किए हुए वादे को पूरा करने का मन बना चुके थे हालांकि पीएम मोदी ने उन्हें लोकसभा से इस्तीफा देने के लिए रोक दिया था.

pm modi hd devegowda

रविवार को उस घटना को याद करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवेगौड़ा ने कहा कि ‘‘मैंने उनसे कहा था कि अगर आप 276 सीटें जीतते हैं तो मैं इस्तीफा दे दूंगा. आप दूसरों के साथ गठबंधन करके शासन कर सकते हैं, लेकिन आप अपने दम पर 276 सीटें जीतते हैं, तो मैं (लोकसभा से) इस्तीफा दे दूंगा.’’

pm modi hd devegowda

मोदी ने देवेगौड़ा को दिया था शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने का न्योता…

H. D. Devegowda and narendra modi

साल 2014 चुनाव जीतने के बाद पीएम बनने का अवसर नरेंद्र मोदी को मिला था. अपने शपथ ग्रहण समारोह में पीएम मोदी ने व्यक्तिगत रूप से देवेगौड़ा को भी शामिल होने का न्योता दिया था. देवेगौड़ा ने बताया कि शपथ ग्रहण समारोह होने के बाद मैंने उनसे मिलने का समय मांगा था और वे राजी भी हो गए थे.

H. D. Devegowda and narendra modi

देवेगौड़ा कहते हैं कि, ‘‘मुझे तब घुटने में दर्द था, जो अभी भी है. वह जिस भी तरह के व्यक्ति हों, उस दिन जब मेरी कार वहां पहुंची, मोदी खुद आए, मेरा हाथ पकड़कर मुझे अंदर ले गए. यह व्यवहार उस व्यक्ति के लिए था, जिसने उनका (मोदी) इतना विरोध किया था.’’ आगे कहा कि, ‘‘मैंने उनसे कहा कि मैं अपनी बात पर कायम हूं.

कृपया मेरा इस्तीफा स्वीकार करें. उन्होंने मुझसे कहा कि मैं चुनाव के दौरान बोली जाने वाली चीजों को इतनी गंभीरता से क्यों ले रहा हूं. उन्होंने यह भी कहा कि जब भी स्थिति उत्पन्न होगी, तो उन्हें मेरे साथ मामलों पर चर्चा करने की आवश्यकता होगी.’’

देवेगौड़ा ने आगे बताया कि, उस मुलाकात क बाद से मैं पीएम मोदी से 6 से 7 बार मिला हूं और मेरी नज़रों में उनका सम्मान बढ़ता ही गया है. उन्होंने बताया कि, ‘‘मैंने उनके व्यक्तित्व में बदलाव देखा. वह गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में जो थे और प्रधानमंत्री बनने के बाद वे क्या हैं.’’

Back to top button