दिलचस्प

दिवाली पर नया आविष्कार, IIT के प्रोफेसर ने बनाया कभी न बुझने वाला दिया, तेल भी नहीं लगेगा

इस साल 4 नवंबर को दिवाली का पावन पर्व आ रहा है। ऐसे में लोगों ने इसे लेकर तैयारियां शुरू कर दी है। दिवाली का त्यौहार हर परिवार के लिए खास होता है। वह इसके लिए कई दिनों पहले से शॉपिंग शुरू कर देता है। कपड़े, पटाखे और मिठाइयों सहित कई चीजें खरीदी जाती है। इस दौरान दीपक भी बहुत खरीदे जाते हैं।

महंगाई में दिल खोलकर नहीं जला पाते दीपक

deepak

दिवाली पर जब तक दीपक की जगमग रोशनी न दिखाई दें तब तक मजा नहीं आता है। ऐसे में लोग भी बहुत दिए खरीदते हैं। लेकिन इस बार महंगाई की मार भी बहुत तेज पड़ रही है। तेल के भाव आसमान छू रहे हैं। फिर पेट्रोल, गैस और किराना जैसी चीजों के बढ़ते दाम भी दीपक जलाने का बजट डगमगा देते हैं।

ऐसे में इंसान दिवाली पर दिल खोलकर दीपक नहीं जला पाता है। यदि आप भी इस तरह की परेशानी महसूस करते हैं तो टेंशन न लें। मुंबई के एक प्रोफेशर आपकी इस समस्या का हाल लेकर आ गए हैं।

IIT के प्रोफेसर ने बनाया कभी न बुझने वाला दिया

iit bombay

आपको जान बड़ी खुशी होगी कि IIT Bombay के एक प्रोफेसर ने एक ऐसा दिया बनाया है जो कभी नहीं बुझेगा। इतना ही नहीं दिलचस्प बात ये है कि इस दिए को लगाने के लिए आपको तेल की जरूरत भी नहीं है। दरअसल ये दीपक सौर ऊर्जा से चलेगा। मतलब सूरज की किरणों से चार्ज होकर जलेगा। इस तरह आपको इसे जलाने के लिए तेल नहीं खरीदना पड़ेगा। सूरज की रोशनी तो वैसे ही फ्री होती है। इसलिए यह दीपक जलाने का सबसे सस्ता तरीका बन जाता है।

पर्यायवरण रहेगा सुरक्षित

deepak

प्रोफेशर के बनाए इन दियो की खास बात ये होगी कि इनसे आपका घर भी सस्ते में रोशन होगा और पर्यायवरण भी सुरक्षित रहेगा। हर साल दिवाली पर पर्यावरण को लेकर हंगामा मचता है। ऐसे में इन दियो से पर्यावरण को भी काफी राहत मिल जाएगी। दिवाली पर दीपक और पटाखों से इतनी हानिकारक गैसें निकलती हैं कि सांस लेने तक में दिक्कत होने लगती है। ऐसे में इन दीयों से पर्यावरण कुछ हद तक तो सुरक्षित जरूर रहेगा।

बताते चलें कि देश मैं और भी कई ऐसे उपकरण है जो सौर ऊर्जा से चलते हैं। इनमें सड़कों पर जगह-जगह लगी स्ट्रीट लाइट्स भी शामिल हैं। ये हमे रोशनी भी देती हैं और पर्यायवरण को सुरक्षित भी रखती हैं। ऐसे में हमारी भी यही सलाह होगी कि आप सौर ऊर्जा से चलने वाले इन दियो का इस्तेमाल ही करें और अपने आसपास के पर्यावरण को सुरक्षित रखें।

Back to top button