विशेष

आलीशान जिंदगी का शौकीन है आनंद गिरी जानिए उसकी संपत्ति और संत बनने की कहानी

भीलवाड़ा का अशोक चोटिया बना आनंद गिरी, जानिए पूरी 'कुंडली'

भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में लगातार बड़े बड़े खुलासे हो रहे हैं। अब आत्महत्या के बाद कमरे का वीडियो सामने आया है जिसमें नरेंद्र गिरी जमीन पर पड़े हुए हैं। रोजाना सामने आ रहा है तथ्य के साथ ही उनकी आत्महत्या के पीछे बड़ी साजिश का अंदेशा भी बढ़ता ही जा रहा है। उनके शिष्य आनंद गिरी को मौत के पहले दिन से ही हिरासत में लिया जा चुका है और पूछताछ के लिए रिमांड पर भेज दिया गया है।

लेकिन हर कोई इस बात को जानकर हैरान है कि आनंद गिरि को देख कर तो लगता ही नहीं कि वह कोई संत हैं। आनंद गिरि शानो शौकत से भरी जिंदगी जीता हैं जो संतो की छवि से बिल्कुल अलग है। ऐसे में हम आपको आनंद गिरि कि उस शोहरत भरी जिंदगी और उसकी कहानी रूबरू कराते हैं जो पिछले कई सालों से वह जी रहा था।

अशोक चोटिया उर्फ आनंद गिरि फिलहाल भले ही उत्तराखंड में रह रहा हो लेकिन वह राजस्थान के भीलवाड़ा के पास सरेरी गांव का रहने वाला हैं।‌‌ चार भाइयों में सबसे छोटा आनंद 12 साल की उम्र में ही घर छोड़कर चला गया था। नरेंद्र भीलवाड़ा से सीधे हरिद्वार पहुंचा यहीं पर एक संत ने उसकी मुलाकात महंत नरेंद्र गिरि से कराई उन्होंने तभी आनंद को अपना शिष्य बना लिया था।

आज से 21 साल पहले यानी सन 2000 में ही नरेंद्र गिरी की छाया में उसने संत बनने का फैसला किया और बाघंमबरी मठ में ही रहने लगा।

लंबे समय तक बाघंबरी मठ में रहने के बाद 2012 में ही उसे उसके गांव सासेरी में महंत नरेंद्र गिरी की मौजूदगी में दीक्षा दिलाई गई थी और तभी उसका नाम अजय चोटिया से बदलकर आनंद गिरि रखा गया था। 1996 में 12 साल की उम्र में घर छोड़कर निकले अजय को परिवार वालों ने काफी समय तक ढूंढा। लेकिन 5 साल बाद अचानक उन्होंने उसे भक्ति चैनल पर प्रवचन देते हुए सुना और हैरान रह गए। पिछले 20 सालों से वह महंत नरेंद्र गिरि के साथ ही रह रहा था और उनका करीबी शिष्य था।

लेकिन 2019 में दोनों के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ और आनंद गिरि को मठ से निकाल दिया गया यहां तक कि बाघंबरी मठ में उसकी एंट्री को बंद कर दिया गया था। तब से ही वो हरिद्वार में रह रहा है। हालांकि कुछ समय पहले दोनों के बीच सुलह हो गई थी और आनंद ने वीडियो जारी करते हुए महंत नरेंद्र गिरि के चरणों में माफी मांगी थी। ‌सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरी ने आरोप लगाया है की आनंद उन्हें किसी लड़की के साथ का फोटो बनाकर ब्लैकमेल कर रहा था फिलहाल उससे पूछताछ की जा रही है।

आनंद गिरि काफी शौकीन है उसे महंगी गाड़ियों और विदेशों में घूमने का शौक है। उसके पास करोड़ों की संपत्ति भी है। हाल ही में वह हरिद्वार में एक आलीशान बिल्डिंग बनवा रहा है जिसका ना तो नक्शा पास करवाया गया है और ना ही दूसरी अनुमतियां ली गई है। साथ ही गंगा नदी से जो नियत दूरी बनाए रखनी चाहिए थी उस नियम का भी उल्लंघन किया गया है। ‌‌अब आनंद गिरि पूछताछ में क्या बताता है यह तो पुलिस के बयान के बाद ही साफ हो पाएगा।

Back to top button