स्वास्थ्य

मिट्टी के बर्तन में छिपा है आपके सेहत का राज, खाना पकाकर खाने से मिलते हैं ये फ़ायदे

उम्मीद है कि आप सभी ने अपने दादी-नानी से यह बात तो जरूर सुनी होगी कि पुराने समय में लोग खाना पकाने और परोसने के लिए मिट्टी के बर्तनों का इस्तेमाल करते थे। लेकिन समय बदलने के साथ यह परंपरा भी कहीं खो सी गई। जी हां रसोई में रखे मिट्टी के बर्तनों की जगह आज स्टील और एल्युमीनियम के बर्तनों ने ले ली है। लेकिन क्या आप जानते हैं मिट्टी के बर्तनों में पकाया और खाया जाने वाला भोजन सेहत के लिहाज से काफ़ी अच्छा होता है। नहीं जानते तो आइए हम बताते हैं कि मिट्टी के बर्तन में खाना पकाने के और खाने के क्या हैं फ़ायदे…

food in clay pot

बता दें कि मिट्टी के बर्तन में खाना बनाने से खाने में आयरन, फास्फोरस, कैल्शियम और मैग्नीशियम की मात्रा खूब पाई जाती है, जो शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होती है। इतना ही नहीं मिट्टी के बर्तनों में होने वाले छोटे छोटे छिद्र आग और नमी को बराबर सर्कुलेट करते हैं।

food in clay pot

इससे खाने के पोषक तत्व सुरक्षित रहते हैं और मिट्टी के बने बर्तनों में कम तेल का इस्तेमाल होता है जिसकी वजह से मिट्टी के बने बर्तनों में खाना स्वादिष्ट बनता है। इन बर्तनों में भोजन पकाने से पौष्टिकता के साथ-साथ भोजन का स्वाद भी बढ़ जाता है। अपच और गैस की समस्या दूर होती है, साथ ही साथ कब्ज की समस्या से भी निज़ात मिलती है।

गौरतलब हो कि एल्यूमीनियम, आयरन के बर्तन में खाना बनाने के दौरान खाना कई बार जल जाता है साथ ही जरूरत से ज्यादा पक भी जाता है। जो बेशक पचने में भले ही आसान है लेकिन स्वाद और न्यूट्रिशन में शून्य हो जाता है। लेकिन मिट्टी के बर्तन में खाना धीमी आंच पर सही तरीके से पकता है।

food in clay pot

खाना बनाने के लिए पीतल, कांसा के बर्तन का इस्तेमाल करते हैं तो इसमें भोजन के ज्यादातर न्यूट्रिशन समाप्त हो जाते हैं वहीं अब अगर इनकी जगह मिट्टी के बर्तन इस्तेमाल करेंगे तो भोजन के ज्यादातर न्यूट्रिशन उसमें बने रहते हैं। जो हमारी सेहत के लिए जरूरी हैं।

food in clay pot

वहीं नॉन स्टिक को छोड़कर बाकी स्टील, आयरन और एल्यूमिनियम के बर्तनों में खाना पकाने के दौरान तेल का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है जिससे खाना और मसाले तली से चिपके नहीं, वहीं मिट्टी के बर्तनों में ऐसा करने की जरूरत नहीं पड़ती क्योंकि खाना बर्तन में चिपकता ही नहीं। तेल, मसाले का कम इस्तेमाल सेहत के लिए कितना फायदेमंद होता है इससे तो आप भलीभाँति वाकिफ होंगे ही।

food in clay pot

वैसे तो खाना गर्म कर ही खाने की सलाह दी जाती है लेकिन बार-बार गर्म करने से खाने के स्वाद में भी फर्क आने लगता है। लेकिन अगर आप मिट्टी के बर्तन में खाना बनाते हैं तो भोजन ज्यादा समय तक गर्म बना रहता है।

food in clay pot

कुल्हड़ की चाय हो या फिर हांडी बिरयानी, इसके स्वाद से तो आप वाकिफ होंगे ही। गांवों में तो आज भी ज्यादातर घरों में मिट्टी के बर्तनों में ही खाना पकाया व खाया जाता है इसलिए वहां के स्वाद में बहुत ज्यादा अंतर होता है। तो स्वाद और सुगंध को बरकरार रखने के लिए मिट्टी के बर्तनों में खाना बनाएं।

food in clay pot

इसके अलावा भी मिट्टी के बर्तन में खाना बनाने के कई लाभ हैं। जिनमें से एक लाभ यह है कि मिट्टी के बर्तन में खाना बनाने से भोजन का पीएच वैल्यू मेंटेन रहता है और इससे कई बीमारियों से बचाव होता है।

कैसे हो मिट्टी के बर्तनों का खाना बनाने में इस्तेमाल…

food in clay pot

बता दें कि सबसे पहले मिट्टी का बर्तन बाजार से घर खरीदकर लाने के बाद उस पर खाने वाला तेल जैसे सरसों का तेल, रिफाइंड आदि लगाकर बर्तन में तीन चौथाई पानी भरकर रख दें। इसके बाद बर्तन को धीमी आंच पर रखकर ढककर रख दें। 2-3 घंटे पकने के बाद इसे उतार लें और ठंडा होने दें। इससे मिट्टी का बर्तन सख्त और मजबूत हो जाएगा। साथ ही इससे बर्तन में कोई रिसाव भी नहीं होगा और मिट्टी की गंध भी चली जाएगी। बर्तन में खाना बनाने से पहले उसे पानी में डुबोकर 15-20 मिनट के लिए रख दें। उसके बाद गीले बर्तन को सुखाकर उसमें भोजन पकाएं और स्वाद का मस्त आनंद लें। आशा करते हैं यह स्वास्थ्यवर्धक कहानी आपको जरूर पसंद आएगी।

Back to top button