बॉलीवुड

शहनाज़ को लेकर की गई मीडिया कवरेज़ से बॉलीवुड में नाराज़गी, अनुष्का ने कहा वो तुम्हे इंसान नही..

टीवी एक्टर और बिग बॉस- 13 के विनर सिद्धार्थ शुक्ला (Sidharth Shukla) के निधन से उनके परिजन, दोस्त और फैंस गहरे सदमे में हैं। तमाम सेलिब्रिटी और फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोग सोशल मीडिया के जरिए दिवंगत अभिनेता को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। वहीं शहनाज गिल (Shehnaaz Gill), अली गोनी (Aly Goni), आसिम रियाज, पारस छाबड़ा, राजकुमार राव जैसे कई सेलिब्रिटी उनकी आखिरी यात्रा में शामिल होने श्मशान घाट भी पहुंचे।

बता दें कि एक्टर के अंतिम संस्कार के दौरान ओशिवारा में श्मशान घाट में इतनी भीड़ थी कि पुलिस की कड़ाई के बावजूद दिवंगत अभिनेता (Sidharth Shukla Funeral) के परिजन और दोस्तों को श्मशान घाट में दाखिल होने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी।

Sidharth Shukla

जिसके बाद से सिद्धार्थ शुक्ला की अंतिम यात्रा की कई तस्वीरें इंटरनेट पर काफी वायरल हुईं, जिन्हें देखने के बाद अनुष्का शर्मा से लेकर गौहर खान, सुयश राय, राहुल वैद्य जैसे सितारों ने नाराजगी जाहिर की है।

Sidharth Shukla


जी हां इतना ही नहीं इन सेलिब्रिटीज ने पैपराजी की जमकर क्लास भी लगाई है। बता दें कि एक्टर की अंतिम यात्रा के दौरान तस्वीरें और वीडियो लेने को लेकर सेलेब्स ने पैपराजी की आलोचना की और दिवंगत अभिनेता के परिवार को शांति से शोक मनाने देने की बात कही है।

shehnaaz gill

गौरतलब हो कि सिद्धार्थ शुक्ला के अंतिम संस्कार के दौरान शहनाज गिल को लेकर हुए मीडिया या यूं कहें पैपराजी का व्यवहार ऐसा रहा। जिस वज़ह से इन कलाकारों ने नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने मीडिया ख़ासकर पैपराजी पर अमानवीय होने का आरोप लगाया है। गौहर खान, जरीन खान, सुयश राय और दिशा परमार ने असंवेदनशील बताते हुए अपनी नाराजगी जहिर की है। सिद्धार्थ की दोस्त और एक्टर गौहर खान ने तो इसे लेकर सोशल मीडिया पर बकायदा पोस्ट भी लिखी है।

Sidharth Shukla

दरअसल, सिद्धार्थ का परिवार शुरू से ही इस हादसे से मीडिया को दूर रखने की कोशिश कर रहा था। घटना के बाद जैसे ही मीडिया में सिद्धार्थ की डेथ को लेकर कोई थ्योरी आती उससे पहले ही परिवार ने इसे एक्सीडेंटल डेथ बताया। वहीं अंतिम संस्कार के समय भी मीडिया को ओशेवारा श्मशान घाट से दूर ही रखा गया था। इसके बावजूद उनके अंतिम संस्कार के वक्त फोटो और वीडियो के लिए मीडिया की भारी मौजूदगी रही। इस दौरान जब अंतिम संस्कार के लिए शहनाज गिल शमशान घाट पहुंची थी, तो मीडियाकर्मियों और फोटोग्राफर्स ने उनकी कार को घेर लिया। शहनाज को इसके बाद कार से बाहर निकलकर श्मशान पहुंचने में काफी मशक्कत करनी पड़ी थी।

बता दें कि मीडिया की भारी भीड़ से बचाते हुए शहनाज के भाई और पुलिसकर्मियों ने उन्हें किसी तरह कार से बाहर निकाला और श्मशान घाट के अंदर तक बड़ी मुश्किल से पहुंचाया था। इन तस्वीरों को देखते हुए सितारों ने अपनी नाराजगी जाहिर की। इस घटना के बाद गौहर खान खासी नाराज हैं और उन्होंने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर लिखा कि “ये शर्मनाक है! मीडिया हाउस को इस तरह की कवरेज के लिए शर्म आनी चाहिए। हमें अपना सिर शर्म से झुका लेना चाहिए जब किसी ने किसी अपने को खोया हो! शर्मिंदा हूं, बहुत शर्मिंदा।”


इतना ही नहीं इसी विषय पर राहुल वैद्य लिखते हैं कि, “मुझे लगता है कि हमारे देश को अंतिम संस्कार प्रबंधन एजेंसी की सख्त जरूरत है।” वहीं कुशाल टंडन ने लिखा कि, “जो सितारे अपनी फोटो क्लिक कराने के लिए मीडिया के सामने अपना मास्क उतार रहे हैं, उन्हें शर्म आनी चाहिए। जो कुछ भी हो रहा है, उस पर गुस्सा आ रहा है। अगर आप सच में श्रद्धांजलि देना चाहते हैं तो इसे अवसर बनाने के बजाय दिवंगत आत्मा के लिए थोड़ी प्रार्थना करें। दुखद, मुझे माफ करना सिड।”

Sidharth Shukla

इतना ही नहीं सुयश राय ने भी इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर किया है। जिसमें वे लिखते हैं, “कृपया!! डियर मीडिया यह बहुत ही अच्छा लगता है कि कैसे आप आते हैं और हमारे कार्यक्रमों का हिस्सा बनते हैं और खुशी का हिस्सा बनते हैं और मुझ पर विश्वास करते हैं, हम वास्तव में इसकी सराहना करते हैं और इससे छुआ हुआ महसूस करते हैं। लेकिन, आज के दिन जब किसी ने अपना प्यार खो दिया है आप सभी को उन्हें उनके अपने स्थान पर रहने देना चाहिए और उन्हें अपना समय देना चाहिए उनके अपने के साथ। ताकि, वह उन्हें सुकून से एक आखिरी गुडबाय कह सकें।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Varinder Chawla (@varindertchawla)


जानता हूं, आप अपना काम कर रहे हैं, लेकिन यह मेरी दिल से रिक्वेस्ट है कि ऐसे मौकों को सिर्फ परिवार तक ही सीमित रहने दें।” कुल मिलाकर देखें तो इस हिसाब से मीडिया और खासकर पैपराजी ने फ़ोटो वग़ैरह निकालने की कोशिश की। सचमुच वह ग़लत रवैया था और उसकी आलोचना होना कहीं न कहीं उचित भी है। मीडिया और पैपराजियों को ऐसे मुद्दों पर संवेदशीलता का परिचय देना चाहिए, जिसकी कमी कहीं न कहीं सिद्धार्थ शुक्ला के अंतिम संस्कार के दौरान देखने को मिली। जो अपने आपमें दुःखद है।

Back to top button