राजनीति

‘मैं मोदीभक्त और शाकाहारी हूं, लेकिन अब बीफ खाऊंगा’, जानिए किसने कही ये बात!

नई दिल्ली – लोगों को दुनिया घुमाने वाले ऑनलाइन ट्रैवल कंपनी मेक माय ट्रिप (makemytrip) के को-फाउंडर केयूर जोशी  ने ट्विटर पर कुछ ऐसा लिख दिया कि लोगों ने उनकी ही दुनिया घुमा दी। दरअसल, केयूर जोशी बीफ बैन को मचे बवाल के बीच एक ट्वीट करके बुरी तरह फंस गए हैं। केयूर जोशी ने अपने ट्वीट में पशु वध के मकसद से इनकी बिक्री पर मोदी सरकार कि ओर से लगाए गए बैन पर ट्वीट कर अपना गुस्सा जाहिर किया है। केयूर जोशी ने आज दो ट्वीट किये हैं। उन्होंने अपने पहले ट्वीट में लिखा – ‘अगर हिंदुत्व खाने की आजादी छीनता है तो मैं हिंदू न होना पसंद करूंगा।’ Keyur joshi tweets on beef.

बीफ बैन पर ट्वीट कर फंसे केयूर जोशी –

कयूर जोशी ने अपने दुसरे ट्वीट में लिखा कि, ‘मैं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पक्का सपोर्टर हूं और मैंने पूरी लाइफ वेजिटेरियन रहा हूं। लेकिन खाने की आजादी के समर्थन में अब बीफ खाऊंगा।’ उन्होंने लिखा कि भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री मोदी को यह तक करने का हक नहीं है कि लोग क्या खाएंगे। आपको बता दें कि केयूर जोशी ऑनलाइन ट्रैवल कंपनी मेक माय ट्रिप (makemytrip) के को-फाउंडर हैं।

Keyur joshi tweets on beef

इसके बाद जो हुआ वो केयूर जोशी को जीवन भर याद रहेगा। देखते ही देखते #BoycottSanpdeal ट्विटर पर ट्रेंड करने लगा। लोग मेक माई ट्रिप के ऐप अनइंस्टाल करने लगे। लोगों ने धड़ाधड़ ऐप को अनइंस्टाल करना शुरू कर दिया। लोगों ने अपने-अपने मोबाइल से मेक माय ट्रिप के ऐप को तो हटाया ही साथ साथ उसे 1 स्टार की रेटिंग भी देने लगे।

लोगों का गुस्सा देख मांगनी पड़ी मांफी –

 

लोगों के बढ़ते गुस्से को देखकर केयूर जोशी ने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया और फिर लिखा कि – “बीफबैन के संबंध में मेरे विचार निजी थे और मेरा मकसद किसी को तकलीफ पहुंचाना नहीं था। मैं इसके लिए माफी मांगता हूं।” हालांकि, इसके बाद भी लोगों ने उनके खिलाफ ऐप अनइंस्टाल करना जारी रखा। लोग मेक माई ट्रिप के ऐप को डिलीट करने के साथ-साथ उसका स्क्रीनशॉट लेके ट्वीट करने लगे।

आपको बता दें की मोदी सरकार ने पशुओं की खरीद-फरोख्त से जुड़े नियमों को सख्त कर दिया है जिसके बाद से ही केरल में बवाल मचा हुआ है। इससे पहले यहां वामपंथी छात्र संगठन एसएफआई ने तिरुवनंतपुरम के विश्वविद्यालयों और कालेजों के सामने बीफ पका और खाया इसका विरोध किया था।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close