अध्यात्म

दुनिया का एकमात्र जीवित शिवलिंग जिसकी हर साल बढ़ती है लंबाई, दुनिया के अंत दे रहा चेतावनी

मतंगेश्वर मंदिर में स्थित शिवलिंग को जीवित माना जाता है। लोगों के अनुसार ये दुनिया का एकमात्र ऐसा शिवलिंग है। जिसका आकार लगातार बढ़ रहा है। इस शिवलिंग की लंबाई 9 फीट से ऊपर हो गई है। दूर-दूर से लोग इस चमत्कारी शिवलिंग को देखने के लिए आते हैं। मंदिर के पुजारियों के अनुसार इस शिवलिंग का आकार हर साल बढ़ता है। पुजारियों की बात पर यकीन किया जाए तो शिवलिंग़ प्रतिवर्ष 1 इंच और ऊंचा हो जाता है।

matangeshwar temple shivling

यहां के स्थानीय लोगों का भी कहना है कि इस शिवलिंग का आकार सदियों से बढ़ रहा है। इन्होंने अपनी आंखों से इस शिवलिंग के आकार को बढ़ता हुआ देखा है। स्थानीय लोगों की मानें तो ये शिवलिंग पहले छोटा हुआ करता था। लेकिन प्रति वर्ष इसका आकार इस तरह से बढ़ता गया कि ये अब 9 फीट का हो गया है।

matangeshwar temple shivling

धरती के नीचे है समाया

इस शिवलिंग के साथ कई तरह की खासियत भी जुड़ी हुई हैं। ये शिवलिंग धरती से जितना ऊपर है, उतना ही धरती के नीचे भी समाया हुआ है। शिवलिंग से कई तरह की कहानियां भी जुड़ी हुई हैं। स्थानीय लोग की मानें तो जिस दिन ये शिवलिंग बढ़ते हुए पाताल लोक को स्पर्श कर लेगा। उस दिन ये दुनिया पुरी तरह से खत्म हो जाएगी। उस दिन दुनिया का अंत निश्चित है।

matangeshwar temple shivling

शिवलिंग से जुड़ी कथा

शास्त्रों में इस जीवित शिवलिंग का उल्लेख मिलता है। शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव ने युधिष्ठिर को एक चमत्कारी मणि सौंपा था। जिसे युधिष्ठिर ने मतंग ऋषि को दे दिया था। किसी तरह से ये मणि राजा हर्षवर्मन के पास आ गया। राजा ने इस मणी को जमीन के नीचे गाढ़ दिया। कथा के अनुसार जमीन में ये मणि गाढ़ने के बाद इसका आकार बढ़ने लगा और इसने शिवलिंग का रुप ले लिया। मतंगेश्वर मंदिर में स्थित इस शिवलिंग का निर्माण मणि से हुआ है।

matangeshwar temple shivling

चंदेल वंश के राजाओं ने किया था निर्माण

मध्यप्रदेश के छत्तरपुर के खजुराहो में स्थित मतंगेश्वर मंदिर का निर्माण चंदेल वंश के राजाओं द्वारा किया गया था। इस मंदिर को 9वीं शताब्दी में बनाया गया था। इस मंदिर को भव्य तरीके से बनाया गया है। मतंगेश्वर मंदिर 35 फिट के क्षेत्र में फैला हुआ है। मंदिर का गर्भगृह बेहद ही सुंदर है। मतंगेश्वर मंदिर करीबन ई.स 900 से 925 के समय का माना जाता है।

matangeshwar temple shivling

मंदिर की वास्तुकला खजुराहो के अन्य मंदिरो से अलग है और मंदिर के स्तंभ और दीवारों पर खजुराहो के अन्य मंदिरों की तरह कामुक प्रतिमाएं नहीं बनाई गई है।

matangeshwar temple shivling

वैज्ञानिकों के हाथ भी नहीं लगा कुछ

किस तरह से इस शिवलिंग का आकार बढ़ रहा है। इसपर कई तरह के शोध भी किए गए। लेकिन वैज्ञानिकों के हाथ कुछ नहीं लगा।वैज्ञानिकों ने इस शिवलिंग के रहस्य को खोजने की काफी कोशिश की। लेकिन नाकाम रहे और आज तक कोई शिवलिंग के बढ़ने का कारण पता नहीं लगा सका है।

matangeshwar temple shivling

कब जाएं

मतंगेश्वर मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी महीने का है। इस समय दुनिया भर से लोग इस मंदिर में आते हैं और भगवान के दर्शन करते हैं। खजुराहो में हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशन मौजूद है। इसलिए देश के किसी भी कोने से यहां पर आसानी से पहुंच जा सकता है।

Back to top button
?>