बॉलीवुड

दारा सिंह ने फेंक दिया था 200 किलो के पहलवान को उठाकर, राम भक्त हनुमान बन दुनिया में हुए मशहूर

हिंदी सिनेमा में कई ऐसे अभिनेता हुए हैं जो अपनी अदाकारी के साथ ही अपनी शख़्सियत के लिए भी जाने जाते थे. ऐसे ही एक दिवंगत अभिनेता थे दारा सिंह. दारा सिंह ने अखाड़े से निकलकर फिल्मों का रुख किया था. पहले उन्होंने कुश्ती की दुनिया में राज किया फिर फ़िल्मी पर्दे पर भी वे छा गए. आइए आज आपको इस दिग्गज़ अभिनेता की कुछ ख़ास बातों के बारे में बताते हैं…

dara singh

दारा सिंह का जन्म 19 नवंबर 1928 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था. वे आज हमारे बीच नहीं है, हालांकि उन्होंने अपने जीवन में जो हासिल किया है, उसके बलबूते वे हमेशा फैंस के दिलों में ज़िंदा रहेंगे. उनके निधन ने करोड़ों प्रशसंकों की आंखें नम कर दी थी. उनसे जुड़े कई किस्से बेहद मशहूर है.

dara singh

यह बात बहुत ही कम लोगों को पता है कि दारा सिंह का पूरा नाम दारा सिंह रंधावा था. बचपन से ही दारा सिंह की कद काठी बहुत अच्छी थी और उन्हें बचपन से ही कुश्ती लड़ने का बहुत शौक भी था. वे बड़े हुए तो उन्होंने अपने शौक को जिया भी और कुश्ती की दुनिया में खूब नाम कमाया.

dara singh

शुरू में अखाड़े में कुश्ती करते थे और मेलों और अन्य समारोहों में कुश्ती प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया करते थे. साल 1947 में उन्हें पहली जीत मिली. उन्होंने सिंगापुर में मलेशियाई चैम्पियन तरलोक सिंह को कुश्ती के अखाड़े में पटखनी दे दी और फिर धीरे धीरे वे भारत के एक कुशल पहलवान बन गए.

55 वर्ष की उम्र तक की पहलवानी…

dara singh

दारा सिंह बहुत ही ताकतवर थे. उन्होंने अपने आप को बेहद फिट और मेंटेन बनाए रखा था. तब ही तो वे 55 साल की उम्र तक भी पहलवानी करते रहे थे. कुश्ती को वे हमेशा ही प्राथमिकता दिया करते थे. उन्हें कुश्ती लड़ने का इतना अधिक शौक था कि वो उसमें पूरा दिल निकालकर रख देते थे. दारा सिंह ने अपने कुश्ती के हर एक मैच में जीत हासिल की थी.

500 मुकाबले लड़े और सभी में जीते…

dara singh

दारा सिंह कुश्ती के बेताज बादशाह थे. उनके जैसा पहलवान न केवल हिंदुस्तान बल्कि दुनिया में आज तक नहीं हुआ. साल 1959 में दारा सिंह ने पूर्व विश्व चैम्पियन जार्ज गारडियान्का को हरा कॉमनवेल्थ में विश्व चैम्पियनशिप जीते थे. वहीं इसके बाद 1968 में उन्होंने विश्व चैम्पियन रहे लाऊ थेज को भी फ्रीस्टाइल कुश्ती में परास्त कर दिया था. ख़ास बात यह है कि दारा सिंह ने अपने जीवन में कुश्ती के कुल 500 मुकाबले लड़े और एक मैच में भी उन्हें हार नहीं मिली. उन्हें सभी मैच में जीत मिली थी.

200 किलो के पहलवान किंग कॉन्ग को उठाकर पटक दिया था…

dara singh

दारा सिंह का मुकाबला ऑस्ट्रेलिया के मशहूर पहलवान किंग कॉन्ग के साथ भी हुआ था. इस मैच को देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ी थी. दारा सिंह ने मुकाबले में जीत हासिल की थी. 130 साल के दारा ने 200 किलो के किंग कॉन्ग को सिर से ऊपर उठाकर पटक दिया था. इस दांव के बाद किंग कॉन्ग रेफरी पर चिल्लाने लगे थे, उनके मुताबिक़ यह दांव कुश्ती नियमों के ख़िलाफ़ था. दारा सिंह का यह दांव देखकर देखने वालों की आंखें फटी की फटी रह गई थी.

दारा सिंह से डरती थी अभिनेत्रियां…

dara singh

दारा सिंह ने फ़िल्मी दुनिया में भी खूब नाम कमाया. उनके फ़िल्मी करियर की शुरुआत साल 1952 में आई फिल्म ‘संगदिल’ से हुई थी. जिसमें अहम रोल दिलीप कुमार और मधुबाला ने निभाया था. बताया जाता है कि, करियर के शुरुआती दिनों में दारा सिंह से बॉलीवुड अभिनेत्रियां डर जाती थी और उनकी लंबी चौड़ी कद-काठी देखकर वे उनके साथ सहज नहीं हो पाती थी. हालांकि बॉलीवुड की दिग्गज़ एक्ट्रेस मुमताज के साथ दारा सिंह ने लगभग 16 फिल्मों में काम किया था.

रामभक्त हनुमान बन घर-घर में हुए मशहूर…

dara singh

दारा सिंह को रामानंद सागर के मशहूर धारावाहिक ‘रामायण’ से भी अपार सफ़लता मिली थी. रामायण में उन्होंने हनुमान जी का किरदार निभाया था और इस किरदार ने उन्हें घर घर में मशहूर कर दिया था. आज भी उन्हें अधिकतर लोग हनुमान जी के रोल के लिए ही जानते हैं. इस महान अभिनेता का 12 जुलाई 2012 को 84 साल की उम्र में मुंबई में निधन हो गया था.

dara singh

Back to top button