सौभाग्य और संतान प्राप्ति के लिए बृहस्पतिवार को करें ये काम, जल्द ही प्राप्त होगा संतान सुख!

हिन्दू धर्म में  बृहस्पतिवार का अपना एक अलग ही महत्व है। इस दिन को भगवान विष्णु के दिन के रूप में माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु को सच्चे मन से याद करने वाले लोगों के मन की सभी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। बृहस्पतिवार को मानव जीवन में शैक्षणिक योग्यता, अध्यात्मिक ऊर्जा, नेतृत्व शक्ति, धार्मिक चिंतन, वंशवृद्धि, विरासत, परम्परा, राजनैतिक योग्यता में सिद्धि का अपना आधिपत्य रहता है।

संतान प्राप्ति का सुख होता है सबसे बड़ा:

 

संसार के सभी सुखों में सबसे बड़ा सुख संतान का सुख माना जाता है। यह तभी संभव होता है जब बृहस्पति अनुकूल होते हैं। जिन दम्पतियों को संतान सुख की प्राप्ति नहीं हो रही है, उन्हें बृहस्पतिवार को ये काम करना चाहिए। ऐसा करने से जल्द ही उन्हें शुभ समाचार मिलता है। शुक्ल पक्ष में बरगद के पत्ते लेकर, उसे अच्छे से धोकर ऊपर कुमकुम से स्वस्तिक का चिन्ह बनाकर उसपर थोड़ा चावल और एक सुपारी रखकर पास के किसी मंदिर में अर्पित कर दें।

बृहस्पतिवार को करें ये काम:

*- बृहस्पतिवार के दिन दंपत्ति को भगवान विष्णु का व्रत करना चाहिए।

*- इस दिन पीले वस्त्र पहनें, पीली चीजों का दान करें और जहां तक हो सके पीला भोजन भी ग्रहण करें। इसलिए आप इस दिन खिचड़ी का सेवन कर सकते हैं।

*- जो महिलाएं मां बनना चाहती हैं वह प्रत्येक गुरुवार को आंटे की दो बड़ी लोई बनाकर भीगे चने की दाल और हल्दी मिलाकर गाय को खिलाएं। इसके बाद भगवान से संतान प्राप्ति की प्रार्थना करें, जल्द ही उनकी यह इच्छा पूरी हो जाएगी।

*- गुरुवार के दिन पीले धागे में पीली कौड़ी बांधने से संतान प्राप्ति के प्रबल योग बनते हैं।

*- जो महिलाएं मां बनना चाहती हैं, उन्हें हर रोज पारद शिवलिंग का दूध से अभिषेक करना चाहिए। ऐसा करने से उत्तम संतान की प्राप्ति होती है।

*- प्रत्येक बृहस्पतिवार के दिन भिखारियों को गुड़ का दान करें। ऐसा कहा जाता है कि गुड़ का दान करने से संतान की प्राप्ति होती है।

*- पूर्वाफाल्गुनी नक्षत्र में आम की जड़ लाकर उसे दूध में घिसकर स्त्री को पिलायें। इससे निश्चिततौर पर संतान की प्राप्ति होती है।

*- संतान प्राप्ति की इच्छा रखने वाली महिला को रविवार के अलावा सभी दिन पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाकर उसकी परिक्रमा करनी चाहिए। इससे जल्द ही संतान की प्राप्ति होती है।

*- उत्तर फाल्गुनी नक्षत्र में नीम की जड़ लाकर हमेशा आपने पास रखें। ऐसा कहा जाता है कि ऐसा करने से निःसंतान दम्पतियों को जल्द ही संतान का सुख प्राप्त होता है।

***