विशेष

गजब : ‘बैल’ से ‘बिजली’ बनाएंगे बाबा रामदेव! जानिए कैसे?

नई दिल्ली – वैसे तो योग गुरु बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण की कंपनी पतंजलि अपने नए-नए प्रोडक्ट्स को लेकर अक्सर चर्चा में रहती है, लेकिन इस बार कंपनी कुछ ऐसा करने जा रही है जिसे सोचना भी लगभग असंभव है। बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि एक ऐसे प्रोजेक्ट पर काम कर रही है जिसमें बैल से बिजली बनाई जाएगी। इसके लिए कंपनी ‘बुल पावर’ पर काम रही है। दरअसल, कंपनी इस आइडिया पर डेढ साल से काम कर रही है और उसे कुछ सफलता भी हाथ लगी है। Renewable energy form bull power.

बैल से बिजली बनाएगी बाबा रामदेव की कंपनी –

बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण की कंपनी पतंजलि एक अनूठे प्रोजेक्ट ‘बुल पावर’ पर काम कर रही है। इस प्रोजेक्ट में बैल की खींचने की ताकत से बिजली बनाना है। इसका मुख्य उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि पशुओं को बूचड़खाने न भेजा जाए। इस प्रोजेक्ट को पतंजलि के मैनेजिंग डायरेक्टर और सबसे बड़े शेयरहोल्डर बालकृष्ण की पहल पर शुरू किया गया है।

इस रिसर्च में देश की प्रमुख मल्टीनैशनल ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर और तुर्की की एक कंपनी भी शामिल है। इस पूरे रिसर्च के लिए एक प्रोटोटाइप भी डिजाइन किया गया है जिसमें अधिक बिजली उत्पादन करने के लिए बदलाव भी किया जा रहा है। इस प्रॉजेक्ट की जानकारी रखने वालें लोगों के मुताबिक अभी तक की रिसर्च के मुताबिक एक टर्बाइन वाले इस डिजाइन के जरिए लगभग 2.5 किलोवॉट पावर मिल सकी है।

पशुओं को बूचड़खानों में बेचने पर लगेगी रोक –

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इस रिसर्च के पीछे पतंजलि का मुख्य उद्देश्य यह है कि पशुओं को बूचड़खानों में बेचे जाने से रोका जाए। इस आइडिया के मुताबिक, बैल की खींचने की ताकत से बिजली पैदा की जाएगी। आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि, ‘ऐसे समय में जब बड़ी संख्या में बैलों को काटा जा रहा है, तो हम लोगों की धारणा बदलना चाहते हैं कि बैल बहुत कीमती होते हैं।’

पतंजलि इसके जरिए उत्पन्न होने वाली बिजली को बेचेगी नहीं, बल्कि कंपनी एक ऐसा डिजाइन तैयार करने की कोशिश कर रही है, जिसे उन किसानों को बिजली पैदा करने के लिए दिया जा सके जिनके पास बैल हैं। इस तरीके से उत्पन्न होने वाली बिजली को आसानी से स्टोर किया जा सकता है। पतंजलि हरिद्वार के अपने मुख्यालय में इसपर रिसर्च कर रही है।

***

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

Back to top button