श्रीनगर – जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा स्थित वारीपोरा इलाके में रविवार को आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच कुछ देर पहले तक मुठभेड़ हो रही थी। जो अब खत्म हो चुकी है इस मुठभेड़ में सेना के जवानों ने दो चरमपंथियों को ढेर कर दिया। ये दोनों आंतकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सदस्य बताये जा रहे हैं। इलाके में आतंकियों की गतिविधियों की जानकारी मिलने के बाद सेना ने यहां सर्च आपरेशन चलाया था, जिसमें ये आतंकी घेर लिये गये। इन आतंकियों को ढेर करने के बाद सेना ने अन्य संभावित छिपे हुए आतंकियों को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। Lashkar e taiba terrorists killed.

जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में हुई आतंकियों से मुठभेड़ –

यह जबरदस्त मुठभेड़ जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में हुई जिसमें सेना ने लश्कर ए तैयबा के दो आतंकियों को मार गिराया। ऐसी सूचना मिली है कि मारे गए दोनों आतंकी कुपवाड़ा में आर्मी कैंप पर हुए हमले में शामिल थे। सेना और आतंकियों के बीच यह मुठभेड़ उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में हंदवाड़ा से 2 किमी उत्तर में वारिपोरा गांव में हुई।

सेना और आतंकियों के बीच यह मुठभेड़ आज दिन में करीब साढ़े तीन बजे शुरू हुई। गौरतलब है 26 अप्रैल को कुपवाड़ा में हुए आंतकी हमले में सेना के तीन जवान (जिसमें एक कैप्टन भी शामिल थे) शहीद हो गए थे। उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में यह आंतकी हमला पिछले महिने की 26 तारीख को हुआ था।

जम्मू-कश्मीर में बढ़ रही हैं आतंकी घटनाएं –

उल्लेखनीय है कि हाल के महीनों या दिनों में जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में तेजी आई है। पिछले दिनों ही यहां के आईजी ने इस बात की पुष्टि की है कि पिछले एक साल में घाटी के 95 युवाओं ने आतंकवाद का रास्ता अपनाया है। जिसके कारण सिर्फ घाटी में आतंकियों की संख्या 100 के आंकड़े को पार कर गई है। सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि हाल के दिनों में सुरक्षा बलों पर आतंकी हमलों में तेजी आई है।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही सेना के जवानों के शवों के साथ बर्बरता करने के बाद पाकिस्तान ने उमर फैयाज को पहले किडनैप किया और फिर बाद में उनकी हत्या कर दी थी। इनकी पहचान लेफ्टिनेंट उमर फयाज़ पैरी के रूप में हुई है। उन्हें आतंकवादियों ने उनके घर से किडनैप किया था। उनके शरीर पर कई गोलियों के निशान थे।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.