स्वास्थ्य

इस सस्ती ‘देसी फ्रिज’ के आगे फेल है महंगे फ्रिज, जाने मिट्टी के घड़े से पानी पीने के फायदें

गर्मियों का मौसम आ चुका है। चुभती जलती गर्मी अपनी चरम सीमा पर जा पहुंची है। इस चिलचिलाती गर्मी में ठंडा पानी पीते ही शरीर तृप्त हो जाता है। सामान्यतः लोग फ्रिज में रखा पानी पीना पसंद करते हैं। लेकिन फ्रिज का पानी सेहत के लिए ठीक नहीं होता है। कई बार इसे पीने से गला भी खराब हो जाता है। वहीं फ्रिज के पाने से गैस की समस्या भी उत्पन्न होती है। ऐसे में गांव का ‘देसी फ्रिज’ (Desi Fridge) यानि मिट्टी का घड़ा बेस्ट होता है।

फ्रिज आने से पहले सभी लोग मिट्टी के घड़े में रखा पानी ही पीते थे। गांव में तो आज भी फ्रिज से ज्यादा मिट्टी के घड़े को अहमियत दी जाती है। इसमें स्टोर किया गया पानी सेहत को नुकसान भी नहीं पहुंचाता है। बल्कि मिट्टी के घड़े से पानी पीने पर सेहत को लाभ होता है। इससे न तो गला खराब होता है और न ही पेट। इतना ही नहीं ये आपकी थकान दूर करने में भी काम आता है।

मिट्टी के घड़े में पानी स्टोर करने का भी अपना एक तरीका होता है। यदि आप इस खास तरीके से इसमें पानी स्टोर करेंगे तो पानी ज्यादा देर तक ठंडा रहेगा। इसके अलावा ये फ्रेश और क्लीन भी बना रहेगा। तो चलिए फिर बिना किसी देरी के मिट्टी के घड़े में पानी स्टोर करने के ट्रिक्स जान लेते हैं।

1. जब भी मटका खरीदने जाएं तो एक बात का विशेष ध्यान रखें कि वह सब दूर से अच्छे से पका हुआ हो। उसे कहीं से भी चटका हुआ नहीं होना चाहिए।

2. जब मटका खरीदकर लाएं तो उसे एक दो बार ठंडे पानी में भिगो कर रख दें। एक बात का ध्यान रहे कि आपको मटके को अंदर हाथ डालकर नहीं धोना है। वरना मटके का पानी ठंडा नहीं होगा।

3. यदि आप चाहते हैं कि मटके का पानी अधिक देर तक ठंडा रहे तो उसमें पानी भरने से पहले उसे जूट की बोरी या गीले कपड़े से लपेट दें।

4. मटके को किसी छायादार स्थान पर रखना चाहिए। इस तरह उसका पानी पूरे दिन ही ठंडा रहता है।

5. मटके को हमेशा ढककर रखना चाहिए। उसकी सफाई भी समय समय पर होती रहनी चाहिए। दो से तीन हफ्ते में मटका खाली कर उसे अच्छे से साफ कर लेना चाहिए। इसके बाद उसे कुछ देर तेज धूम में रख देना चाहिए। इससे उसके अंदर मौजूद विषैले तत्व खत्म हो जाएंगे।

दोस्तों यदि आपको देसी फ्रिज यानि मिट्टी के मटके की यह ट्रिक्स पसंद आई तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर कर दूसरों तक भी पहुंचाएं।

Show More
Back to top button