समाचार

पढ़ें पूर्व कमिश्नर की चैट जिससे खुला गृहमंत्री अनिल देशमुख का राज, की थी 100 करोड़ की मांग

मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर जिलेटिन की छड़ें से भरी कार मिलने के मामले में मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने चौंकाने वाला खुलासा किया है और महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने इस मामले में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक पत्र लिखा है। जिसमें कहा है कि अनिल देशमुख हर महीने 100 करोड़ रुपये मांगते थे। अनिल देशमुख पर लगे इन गंभीर आरोपों के बाद से इनके इस्तीफे की मांग उठने लगी है और राज्य में सियासी भूचाल आ गया है। वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए अनिल देशमुख के बंगले पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

क्या लिखा है पत्र में

परमबीर सिंह की ओर से मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए पत्र में परमबीर सिंह ने अपने और ACP संजय पाटिल के बीच 16 से 19 मार्च की हुई बातचीत का जिक्र किया है। इस बातचीत में परमबीर सिंह कहते हैं कि पाटिल, होम मिनिस्टर और पलांडे ने तुम्हें कितने बार, रेस्टोरेंट और ऐसे ही इस्टैब्लिशमेंट बताए थे। तुम उनसे फरवरी में कब मिले थे और कितना एक्सपेक्टेड कलेक्शन तुम्हें बताया गया था। अर्जेंट प्लीज

मैसेज का जवाब देते हुए ACP पाटिल ने रिप्लाई किया 1750 बार और इस्टैब्लिशमेंट, हर इस्टैब्लिशमेंट से 3 लाख रुपये। इसके हिसाब से हर महीने में 50 करोड़ रुपये का कुल कलेक्शन। परमबीर सिंह ने फिर मैसेज करते हुए लिखा कि तुम इससे पहले HM से कब मिले थे। पाटिल ने जवाब लिखते हुए कहा कि हुक्का ब्रीफिंग से चार दिन पहले। फिर परमबीर सिंह ने लिखा कि और वाझे HM से कौन सी तारीख को मिला था? इसपर ACP पाटिल ने कहा सर, वो तारीख मुझे नहीं पता है। परमबीर सिंह ने आगे मैसेज में पाटिल से पूछा कि तुमने बताया था कि वो तुम्हारी मीटिंग से कुछ दिन पहले मिला था। इस पर उसने कहा कि Yes Sir, लेकिन वो फरवरी महीने के आखिर में हुआ था।

19 मार्च को परमबीर सिंह और पाटिल के बीच फिर से बातचीत हुई। जिसपर उन्होंने लिखा कि पाटिल, मुझे कुछ और इन्फॉर्मेशन चाहिए। क्या वाझे, HM से मिलने के बाद तुमसे मिला था? ACP पाटिल ने कहा कि  Yes Sir, वाझे HM से मीटिंग के बाद मुझसे मिला था। परमबीर सिंह ने कहा कि क्या वाझे ने तुम्हें कुछ बताया था कि वो HM से क्यों मिला था?

ACP पाटिल ने इसका जवाब देते हुए कहा कि Sir, वाझे ने मुझे मीटिंग की वजह बताई थी कि 1750 इस्टैब्लिशमेंट हैं जिनसे उसे हर महीने 3 लाख रुपये उनके लिए (HM) कलेक्शन करने थे। जो करीब 40 करोड़ से 50 करोड़ होता है। परमबीर सिंह ने इसपर कहा कि Oh ये तो वही बात है जो तुम्हें HM ने बोली थी।

ACP पाटिल ने कहा 4 मार्च को पलांडे ने वही बात कही। परमबिर सिंह रिप्लाई करते हुए कहा कि Oh yes, तुम पलांडे को 4 मार्च को मिले थे?। इसपर ACP पाटिल ने कहा कि  यस सर मुझे बुलाया गया था।

गौरतलब है कि परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को लिखे पत्र में साफ कहा था कि सचिन वाझे को अनिल देशमुख ने वसूली करने को कहा था। सचिन वाझे ने खुद मुझे इस बारे में बताया था। अनिल देशमुख ने सचिन वाझे को सरकारी निवास पर बुलाया था और हर महीने 100 करोड़ की वसूली का टारगेट दिया था।  देशमुख ने वाझे से ये कहा था कि मुंबई में 1750 बार और रेस्टारेंट हैं। हर एक से दो-तीन लाख रुपये महीना वसूला जाए तो 50 करोड़ बन जाते हैं। बाकी रकम अन्य जगह यानी सोर्स से वसूली जा सकती है।

वहीं इस पूरे मामले में अब गृह मंत्री की सफाई भी आई है। जिसमें इन्होंने इन आरोपों को गलत बताया है। इन्होंने ट्वीट करके इन आरोपों को बेबुनियाद करार दिया है और कहा कि खुद को बचाने के लिए लोगों को भ्रामक किया जा रहा है।

गौरतलब है कि हाल ही में मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर एक कार मिली थी। जो कि जिलेटिन की छड़ें से भरी हुई थी। इस मामले में सचिन वाझे को गिपफ्तार किया गया है। जो कि पुलिस अफसर हैं। सचिन वाझे की गिरफ्तारी के बाद ही मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने आगे आकर गृह मंत्री  पर ये आरोप लगाए हैं।

Back to top button
?>