बॉलीवुड

बॉलीवुड के इन बड़े स्टार्स ने अपनी सरकारी नौकरी को छोड़कर एक्टिंग की दुनिया में रखा था कदम…

बॉलीवुड में चमकने के लिए बहुत लोग अपनी किस्मत आज़माते है. लोग अपना सबकुछ छोड़कर यहाँ रिस्क लेने के लिए आ जाते है. कुछ अपना सबकुछ दांव पर लगाकर आते है. इनमे से कुछ को सफलता मिल जाती है. लेकिन कई लोगों के हाथ निराशा लगती है. लाख मेहनत करने के बाद भी कुछ बड़ा हासिल नहीं होता है .

ऐसे ही कुछ अभिनेता है जिन्होंने इस इंडस्ट्री में अपनी किस्मत चमकाने के लिए अपनी सरकारी नौकरी तक को छोड़ दिया था. उन्होंने सभी आराम को छोड़ते हुए कड़ी मेहनत की और अपना नाम बनाया.

देव आनंद
देव आनंद की दीवानगी हर तरफ फैली हुई थी. उनका अंदाज़ और स्टाइल का हर कोई दीवाना था. देव आनंद फिल्मों में आने से पहले सरकारी नौकरी करते थे. देव आनंद के पास भारत की सेना में सरकारी नौकरी थी. फिल्मों से लगाव रखने वाले देव आनंद हीरो बनने के लिए अपनी नौकरी छोड़ मुंबई चले आये थे. मुंबई आने के बाद उनके पास महज़ 30 रूपये ही थे. उन्होंने रेलवे स्टेशन के पास सस्ते में एक कमरा लिया था. मुंबई में उन्हें 165 रुपये मासिक वेतन पर मिलिट्री सेंसर ऑफिस में क्लर्क की नौकरी मिल गई थी.

राज कुमार
राज कुमार उन एक्टर्स में शामिल होते है जो अपने अच्छे खासे एट्टीट्यूड के लिए जाने जाते थे. उनके डायलॉग भी उन्ही की तरह भारी और एट्टीट्यूड से भरे हुए होते थे. उन्होंने अपनी एक्टिंग और आवाज़ के जरिये एक अलग पहचान बनाई थी. उनका बोला गया तकिया कलाम ‘जानी’ आज भी लोगों के जेहन में जिन्दा है. अभिनेता राजकुमार का असली नाम कुलभूषण पंडित था और उनके करीबी उन्हें प्यार से ‘जानी’ के नाम से बुलाते थे. राजकुमार 1940 में मुंबई आने के बाद पुलिस में सब इंस्पेक्टर के पद पर तैनात थे. इन्होने वर्ष 1952 में पुलिस की नौकरी को छोड़ बॉलीवुड में एंट्री ले ली थी.

अमरीश पुरी
अमरीश पुरी इनसे बेहतर कोई विलेन आया ही नहीं होगा. अमरीश पुरी ने बॉलीवुड में ‘मोगैम्बो’ का मशहूर किरदार निभाया था. अमरीश कर्मचारी बीमा निगम में बतौर क्लर्क काम किया करते थे. अमरीश ने करीब 21 साल तक सरकारी नौकरी की और फिर उन्हें फिर फिल्मों में आने का मौका मिला. साल 1971 में अमरी पुरी की पहली फिल्म ‘रेशमा और शेरा’ आई थी. यही से उनकी एक्टिंग को काफी पसद किया गया था. ‘चाची 420’, ‘दामिनी’, ‘गर्दिश’, ‘गदर’, ‘घातक’, ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’ ‘मिस्टर इंडिया’ जैसी तमाम फिल्मे उन्होंने दी.

जॉनी वॉकर
अभिनेता जॉनी वॉकर अपने यूनिक कॉमेडी अंदाज़ से सभी को हंसाते थे. उनके किरदार आज भी लोगों को याद है. जॉनी वॉकर का असली नाम बदरुद्दीन काजी था. उनके पिता मजदुर थे और नौकरी जाने के बाद वह अपने परिवार के साथ मुंबई आ गए थे. मुंबई में उन्हें बस कंडक्टर की नौकरी मिली. एक बार बस में बलराज साहनी की नजर जॉनी वॉकर पर पड़ी और उन्होंने निर्देशक गुरु दत्त को जॉनी वॉकर के बारे में कहा. जॉनी वॉकर ने गुरु दत्त के सामने एक शराबी की नकल उतारी बस वही से उनकी गाड़ी चल निकली.

शिवाजी सातम
शिवाजी सातम नाम से समझ नहीं आ रहा तो थोड़ा पीछे जाइये. आपको CID में दिखने वाले एसीपी प्रद्युमन तो पता ही होंगे. अभिनेता शिवाजी सातम ने कई फिल्मों में भी शानदार अभिनय किया है. उन्होंने रानी मुखर्जी, संजय दत्त, नाना पाटेकर और कई कलाकारों के साथ कई हिट फिल्मों में काम किया है. लेकिन क्या आपको पता है शिवाजी सातम इससे पहले बैंक में कैशियर हुआ करते थे. उनकी नौकरी सरकारी बैंक में हुआ करती थी.

Back to top button
?>