दिलचस्प

बंदर की मौत पर पूरे गांव ने बहाए आंसू, गाजे बाजे से निकाली शव यात्रा, अंतिम संस्कार भी किया

आज के जमाने में इंसान दूसरे इंसान के मरने पर दुखी नहीं होता है। वहीं बिहार (Bihar) के समस्तीपुर (Samastipur) जिले के एक गांव में उस समय मातम छा गया जब एक बंदर की मौत हो गई। ऐसे में दुखी ग्रामीणों ने बंदर की शव यात्रा निकाली और हिन्दू रीति रिवाजों से उसका अंतिम संस्कार भी किया।

मानवता की मिसाल पैदा करने वाला यह मामला समस्तीपुर जिले रोसरा अनुमंडल इलाका स्थित सिंघिया गांव (Singhia Village) का है। यहां रहने वाले ग्रामीणों ने एक अनोखी मिसाल पेश करते हुए बंदर का सम्मानपूर्वक अंतिम संस्कार किया। आमतौर पर जब कोई जानवर मर जाता है तो लोग उसकी तरफ देखना भी पसंद नहीं करते हैं, लेकिन इस गाँव के लोगों ने तो उसकी अंतिम विदाई को बहुत खास बना दिया।

हैरत की बात ये थी कि बंदर की मौत से पूरा गांव दुखी था। उसके अंतिम संस्कार में शामिल हुए सभी लोगों की आंखें नम थी। अब ये पूरा मामला इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग सिंघिया गांव के लोगों की तारीफ कर रहे हैं। जानकारी के मुताबिक बंदर की यह अंतिम यात्रा सिंघिया प्रखंड क्षेत्र के दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक के पास से निकाली गई। यहां पूर्ण हिंदू रीति-रिवाजों से बंदर का अंतिम संस्कार किया गया। यह अपने आप में एक अनोखा मामला है।

स्थानीय लोगों के अनुसार बंदर करीब एक माह पहले गांव में आया था। गांव वाले उसे अक्सर खान खिलाते रहते थे। वह सभी ग्रामीणों में अच्छे से घुलमिल गया था। लेकिन फिर अचानक उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। गांव के लोगों ने उसका उपचार भी करवाया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। बंदर की हालत इतनी बिगड़ गई कि उसने खाना पीना भी छोड़ दिया। ऐसे में बीते रविवार बंदर ने अंतिम सांस ली। बंदर की मौत की खबर सुनते ही पूरे गांव में मातम पसार गया था।

सिंघिया गांव के लोगों ने पूर्ण मान सम्मान के साथ बंदर को पितांबरी भी समर्पित की। वे बंदर के मृत शरीर को गाजे बाजे से गांव के श्मशान घाट तक ले गए। इसके बाद हिंदू रीति रिवाज के साथ बंदर के शव काअंतिम संस्कार हुआ। इस बात में कोई शक नहीं कि सिंघिया के ग्रामीणों ने मानवता की अनोखी मिशाल पेश की है। उन्होंने एक बेजूबान के लिए जो कुछ किया उसने समाज में एक बड़ा संदेश दिया है।

वैसे इस पूरे मामले पर आपकी क्या राय है हमे कमेंट कर जरूर बताएं। साथ ही यह खबर पसंद आई हो तो इसे दूसरों के साथ शेयर भी करें।

Back to top button